• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • सरकार ने लॉन्च किया डिज़िटल पेमेंट प्लेटफॉर्म e-RUPI, कहां होगा यूज और कैसे करता है काम, जानिए हर सवाल का जवाब

सरकार ने लॉन्च किया डिज़िटल पेमेंट प्लेटफॉर्म e-RUPI, कहां होगा यूज और कैसे करता है काम, जानिए हर सवाल का जवाब

डिजिटल पेमेंट सॉल्यूशन e-RUPI

डिजिटल पेमेंट सॉल्यूशन e-RUPI

e-RUPI एक प्रीपेड इलेक्ट्रॉनिक वाउचर है, इसे नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) ने तैयार किया है. इसके जरिये कैशलेस और कॉन्टैक्टलेस पेमेंट किया जा सकेगा. आइए जानते हैं इससे जुड़े सभी सवालों के जवाब...

  • Share this:

    नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने डिजिटल पेमेंट सॉल्यूशन e-RUPI को सोमवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए लॉन्च कर दिया है. e-RUPI एक प्रीपेड इलेक्ट्रॉनिक वाउचर है, जो यूजर को SMS या क्यूआर कोड (QR Code) के रूप में प्राप्त होगा और इसे क्रेडिट या डेबिट कार्ड के बिना मोबाइल ऐप या इंटरनेट बैंकिंग के जरिये रिडीम कराया जा सकता है. इसे नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) ने तैयार किया है. इसके जरिये कैशलेस और कॉन्टैक्टलेस पेमेंट किया जा सकेगा.

    बता दें कि e-RUPI प्लेटफॉर्म को नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI), डिपार्टमेंट ऑफ फाइनेंशियल सर्विसेज, मिनिस्ट्री ऑफ हेल्थ एंड फैमिली वेलफेयर और नेशनल हेल्थ अथॉरिटी ने मिलकर लॉन्च किया है. चलिए जानते हैं इससे जुड़े सभी सवालों के जवाब…

    ये भी पढ़ें: RBI ने 2 बैंकों पर की बड़ी कार्रवाई! लगाई 50 लाख रुपये से ज्यादा की पेनाल्टी, क्या ग्राहकों पर होगा इसका असर? 

  • सवाल: क्या है डिजिटल पेमेंट सॉल्यूशन e-RUPI?

    जवाब: ई-रुपी एक क्यूआर कोड या एसएमएस स्ट्रिंग-आधारित ई-वाउचर है, जिसे बेनिफिशियरी के मोबाइल पर पहुंचाया जाता है. इस वन टाइम पेमेंट मैकेनिज्म को यूजर्स, डिजिटल पेमेंट ऐप या इंटरनेट बैंकिंग एक्सेस किए बिना वाउचर को रिडीम कर सकेंगे. इसके जरिए कैशलेस और कॉन्टैक्टलेस पेमेंट होगा.
  • सवाल: कहां हो सकता है e-RUPI डिजिटल वाउचर का इस्तेमाल?

    जवाब: इसका इस्तेमाल आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना, विभिन्न वेलफेयर स्कीम्स के तहत सर्विस देने के लिए किया जा सकता है. निजी क्षेत्र भी अपने कर्मचारी कल्याण और सीएसआर कार्यक्रमों में इन डिजिटल वाउचर का लाभ उठा सकता है.
  • सवाल: क्या हैं इस प्लेटफॉर्म के फायदे?

    जवाब: देश में डिजिटल पेमेंट के कारण भ्रष्‍टाचार पर अंकुश लगा है. यह एक ऐसा सिस्टम है, जिसमें पारदर्शी और आसान तरीके से लेन-देन संभव होगा. साथ ही लाभार्थियों को बिना किसी झंझट के योजनाओं का लाभ डायरेक्ट मिलता है.


  • सवाल: कैसे करना है इसका यूज

    जवाब: इसको यूज करना काफी आसान है. मान लीजिए आपको किसी हॉस्पिटल में भुगतान करना है. इसके लिए आपके पास वाउचर होगा. इसे सरकार या कोई भी व्यक्ति भेज सकता है. इसके लिए आपको सबसे पहले e-RUPI ऐप को ओपन करके वाउचर निकालना होगा. इसके बाद आपको हॉस्पिटल में e-RUPI वाउचर को दिखाना होगा. आपका वाउचर QR कोड में बदल जायेगा. इसके बाद हॉस्पिटल के कर्मचारी QR कोड को स्कैन करेंगे. स्कैन करते ही आपके पास एक वेरिफिकेशन कोड आता है. वेरिफिकेशन कोड बताते ही आपका वाउचर रिडीम हो जाता है. इसके बाद आपका भुगतान सफल हो जाता है.
  • सवाल: कैसे होगा वाउचर जनरेट?

    जवाब: इस सिस्टम को एनपीसीआई ने अपने यूपीआई प्लेटफॉर्म के ऊपर बनाया है और सभी बैंक इसे जारी करेंगे. लाभार्थी की पहचान मोबाइल नंबर के जरिए होगी और सर्विस प्रोवाइडर को वाउचर जनरेट करने के लिए बैंक से संपर्क करना होगा. बैंक सेवा प्रदाता को वाउचर अलॉट करेगा, जिसके बाद इस वाउचर को लाभार्थी को जारी किया जाएगा. जैसा कि हमने बताया, लाभार्थी केवल उसी काम के लिए इस वाउचर का इस्तेमाल कर सकेंगे, जिसके लिए यह वाउचर जारी किया गया है.
  • सवाल: कौन से बैंक करेंगे जारी?

    जवाब: भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई), आईसीआईसीआई बैंक, एचडीएफसी बैंक, पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी), एक्सिस बैंक और बैंक ऑफ बड़ौदा e-RUPI कूपन को जारी और रिडीम करने दोनों की सुविधाएं देंगे. इसके अलावा केनरा बैंक, इंडसइंड बैंक, इंडियन बैंक, कोटक महिंद्रा बैंक और यूनियन बैंक ऑफ इंडिया अभी सिर्फ e-RUPI कूपन जारी करेंगे.
  • पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज