• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • HOW TO USE EPFO WHATSAPP HELPLINE TO RESOLVE YOUR PF ACCOUNT PROBLEM EPFO COMPLAIN NUMBER SAMP

EPFO: PF का पैसा निकालने में आ रही दिक्कत तो इन Whatsapp नंबरों पर करें शिकायत, तुरंत होगा समाधान

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO)

EPFO: अगर आपको पीएफ का पैसा निकालने में दिक्कत आ रही है या अन्य कोई और समस्या है तो अब आप वॉट्सऐप से भी कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) को शिकायत कर सकते हैं.

  • Share this:
    नई दिल्ली. अगर आपको भी अपना पीएफ (PF) का पैसा निकालने में दिक्कत आ रही है या फिर अन्य कोई समस्या है तो अब टेंशन लेने की बिल्कुल भी जरूरत नहीं है. कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) अपने ग्राहकों की समस्याओं का समाधान करने के लिए हमेशा तत्पर रहता है. बता दें कि EPFO ने PF से जुड़ी किसी भी समस्या के समाधान के लिए वॉट्सऐप हेल्पलाइन सर्विस शुरू की है, जिस पर आप शिकायत कर सकते हैं.

    यह सुविधा EPFO की शिकायतों के समाधान के लिए अन्य प्लेटफॉर्म जैसे ऑनलाइन सर्विस, फोन कॉल, EPFIGMS पोर्टल, CPGRAMS, सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म (फेसबुक और ट्विटर) और 24 घंटे काम करने वाला कॉल सेंटर आदि शामिल है.

    ये भी पढ़ें: अगर आपके पास है नाव वाला पुराना 10 रुपये का नोट तो घर बैठे होगी 25000 रुपये की कमाई, जानें सबकुछ

    138 लोकल कार्यालयों में शुरू की गई ये सर्विस
    वॉट्सऐप आधारित हेल्पलाइन सर्विस से पीएफ खाताधारक व्यक्तिगत स्तर पर EPFO के क्षेत्रीय कार्यालयों के साथ सीधे बातचीत कर सकते हैं. ईपीएफओ के सभी 138 लोकल कार्यालयों में वॉट्सऐप हेल्पलाइन सेवा शुरू हो चुकी है. ग्राहक संबंधित क्षेत्रीय कार्यालय के हेल्पलाइन नंबर पर वॉट्सऐप संदेश के माध्यम से EPFO से जुड़ी सेवाओं को लेकर किसी भी प्रकार की शिकायत दर्ज कर सकता है.

    इन नंबरों पर करें शिकायत

    दिल्ली के पीएफ धारक इन नंबर पर कर सकते हैं शिकायत
    दिल्ली सेंट्रल - 8178457507
    दिल्ली ईस्ट - 7818022890
    दिल्ली नॉर्थ - 9315075221
    दिल्ली साउथ - 9717547174

    ये भी पढ़ें: 1 साल में 60% तक रिटर्न देगी ये स्कीम, आप भी लगा सकते हैं यहां पैसा- जानें कैसे? 

    गुजरात के लिए नंबर
    सुरत - 9484530500
    अहमदाबाद - 7383146934
    ठाणे के लिए नंबर
    ठाणे नॉर्थ - 9321666951
    ठाणे साउथ - 8928977985
    Published by:Anita
    First published: