होम /न्यूज /व्यवसाय /रूस-यूक्रेन युद्ध से भारी नुकसान, दुनियाभर में करीब 100 कंपनियों ने 3.40 लाख करोड़ की डील रोकी या वापस लिया

रूस-यूक्रेन युद्ध से भारी नुकसान, दुनियाभर में करीब 100 कंपनियों ने 3.40 लाख करोड़ की डील रोकी या वापस लिया

 ब्लूमबर्ग द्वारा संकलित आंकड़ों के अनुसार, वर्ष के पहले तीन महीनों में वैश्विक एमएंडए (Mergers and acquisitions) 15% गिरकर 1.02 ट्रिलियन डॉलर हो गया है, जो 2020 की तीसरी तिमाही के बाद सबसे कम है.

ब्लूमबर्ग द्वारा संकलित आंकड़ों के अनुसार, वर्ष के पहले तीन महीनों में वैश्विक एमएंडए (Mergers and acquisitions) 15% गिरकर 1.02 ट्रिलियन डॉलर हो गया है, जो 2020 की तीसरी तिमाही के बाद सबसे कम है.

Russia-Ukraine war: रूस-यूक्रेन युद्ध के बाद दुनिया की लगभग 100 कंपनियों ने 3.40 लाख करोड़ रुपए (45 बिलियन डॉलर) से अधि ...अधिक पढ़ें

Russia-Ukraine war : रूस-यूक्रेन दोनों देशों को युद्ध का खामियाजा भुगतना पड़ रहा है. इसके साथ ही यूक्रेन पर हमले के बाद दुनियाभर की कंपनयों को भी इसका नुकसान उठाना पड़ा रहा है. हमले के बाद दुनिया की लगभग 100 कंपनियों ने 3.40 लाख करोड़ रुपए (45 बिलियन डॉलर) से अधिक के सौदे या तो रोक दिया है या उन्हें टाल दिया है. इनमें आईपीओ, बांड या ऋण व अधिग्रहण शामिल हैं.

अमेरिकी इक्विटी बाजार में सौदे पहली तिमाही में वैश्विक अस्थिरता से सबसे ज्यादा प्रभावित हुए. लगातार मार्केट में लिस्ट होने वाली बहुत सारी कंपनियों ने अपनी लिस्टिंग रोक दी. वहीं, जापानी और यूरोपीय ऋण बाजारों को भी देरी का सामना करना पड़ा.

बैंकरों को भारी नुकसान

समस्या तब ज्यादा बढ़ गई जब इस संघर्ष के कारण फंडिंग मार्केट सिकुड़ गया. निवेशकों की रिस्क लेने की क्षमता को चोट पहुंची है और ग्रोथ पर अनिश्चतता बढ़ा गई. ब्याज दरों में बढ़ोतरी और सप्लाई चेन पर अनिश्चितता बढ़ गई है. इन डील के रूकने से बैंकरों को भारी नुकसान हो रहा है. पिछले साल उनको जो फीस के रूप में भारी मुनाफा हुआ वो इस साल सूखे में बदलता दिख रहा है.

यह भी पढ़ें – IT सेक्टर की दिग्गज कंपनी इंफोसिस रूस में अपने सभी ऑफिस बंद करेगी: रिपोर्ट

आईपीओ टाले गए

फरवरी के अंत से लगभग 50 कंपनियों ने अपनी आईपीओ योजनाओं को स्थगित कर दिया है. इनमें लगभग 30 अमेरिकी लिस्टिंग थीं. इनमें बायोक्सीट्रान इंक, क्राउन इक्विटी होल्डिंग्स इंक और सैगिमेट बायोसाइंसेज इंक जैसी प्रमुख कंपनियां शामिल थी. टल गए आईपीओ के कुल मूल्य का अनुमान लगाना मुश्किल है, चूंकि अधिकांश लेन-देन के साइज का खुलासा नहीं किया गया था.

एशिया और यूरोप में सबसे ज्यादा देरी देखने को मिली. ओलम इंटरनेशनल लिमिटेड ने लंदन स्टॉक एक्सचेंज में अपनी खाद्य इकाई की एक लिस्टिंग को रोक दिया. इसका कारोबार 13 बिलियन पाउंड (17.1 बिलियन डॉलर) होगा. वहीं, चीनी समूह डालियान वांडा ग्रुप कंपनी ने अपने नियोजित हांगकांग आईपीओ को रोक दिया. यह शॉपिंग मॉल इकाई लगभग 3 बिलियन डॉलर जुटाने का लक्ष्य बना रही थी.

यह भी पढ़ें- ‘नाटो विस्तार ने भड़काया यूक्रेन युद्ध’, चीन ने क्यों लगाया अमेरिका पर ये आरोप

मर्जर और अधिग्रहण

युद्ध के कारण बहुत सारे मर्जर और अधिग्रहण को पूरा नहीं किया गया है. युद्ध के बाद से  5 बिलियन डॉलर से अधिक मूल्य के लगभग 10 सौदे रुके हुए हैं. ब्लूमबर्ग द्वारा संकलित आंकड़ों के अनुसार, वर्ष के पहले तीन महीनों में वैश्विक एमएंडए (Mergers and acquisitions) 15% गिरकर 1.02 ट्रिलियन डॉलर हो गया है, जो 2020 की तीसरी तिमाही के बाद सबसे कम है.

माइक्रोसॉफ्ट कार्पोरेशन का वीडियो गेम प्रकाशक एक्टिविज़न ब्लिज़ार्ड इंक का 69 बिलियन डॉलर का अधिग्रहण कुछ मेगाडील में से एक था. सबसे खराब गिरावट यूरोप में रही, जहां अधिग्रहण में 38% की गिरावट आई. यूके के स्पेक्ट्रिस पीएलसी ने मार्च में ऑक्सफ़ोर्ड इंस्ट्रूमेंट्स पीएलसी को एक सौदे में खरीदने के लिए बातचीत समाप्त कर दी. इसका मूल्य 1.8 बिलियन पाउंड होगा. पील हंट लिमिटेड ने कहा कि विलंबित सौदों से उसके निवेश बैंकिंग रेवेल्यू में काफी कमी आएगी.

Tags: Business, Company, IPO, Russia ukraine war

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें