दाे दिन में कंगाल हाे गए 1.5 लाख कराेड़ रुपये नेटवर्थ के मालिक ह्वांग, शेयर बाजार में एक गलती पड़ी इतनी भारी

कभी 3000 कराेड़ डॉलर की वर्थ थी

कभी 3000 कराेड़ डॉलर की वर्थ थी

लाेग अमूमन अपने पूरे पैसाें काे कही प्रॉपर्टी, कही रियल एस्टेट, इक्विटी या स्पाेट् र्स टीम में लगाकर रखते है लेकिन ह्वांग ने ताे पूरा पैसा बाजार में लगा रखा था. शेयर के दाम गिरे ताे उनकी सारी की सारी संपत्ति डूब गई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 10, 2021, 6:04 AM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. वॉल स्ट्रीट (Wall street )के ट्रेडर बिल ह्वांग( Bill Hwang) की गिनती दुनिया में इकलाैते एक शख्स के ताैर पर हाे गई शेयर बाजार (Share market) में रातारात कंगाल हाे गए. 2000 कराेड़ डॉलर (करीब 1.5 लाख कराेड़ रुपये ) नेटवर्थ के मालिक ह्वांग ने सिर्फ दाे दिन में पूरी संपत्ति गंवा दी. इससे सिर्फ वे ही नहीं बल्कि उन्हें कर्ज देने वालाें काे भी 50 हजार कराेड़ रुपये का नुकसान हुआ है जिनका पैसा उन्हाेंने शेयर बाजार में लगा रखा था. जानकार बताते है कि ह्वांग ने गलत तरीके से निवेश किया था जिसका उन्हें इतना बड़ा खामियाजा भुगतना पड़ा. उनकी कंपनी के धराशायी हाेते ही कई बैंकाें और वित्तीय संस्थानाें की हालत भी पतली हाे गई. बैंकाे ने गिरवी रखे ह्वांग के शेयर बेचना शुरू कर दिए . जिससे शेयराें में गिरावट बढ़ गई.



सारा पैसा शेयर बाजार में था



लाेग अमूमन अपने पूरे पैसाें काे कही प्रॉपर्टी, कही रियल एस्टेट, इक्विटी या स्पाेट् र्स टीम में लगाकर रखते है लेकिन ह्वांग ने ताे पूरा पैसा बाजार में लगा रखा था. शेयर के दाम गिरे ताे उनकी सारी की सारी संपत्ति डूब गई. ह्वांग की कंपनी आर्चेगाेस कैपिटल मैनेजमेंट का मार्च में धराशाई हाेना वित्तीय इतिहास की सबसे बड़ी विफलताओं में से एक माना जा रहा है. क्याेंकि किसी भी व्यक्ति ने इतनी बड़ी रकम इतने जल्दी कभी नहीं गंवाई. 



ये भी पढ़ें - इस आईपीओ ने लिस्टिंग में दिया घाटा लेकिन महज दो दिन में पलटी बाजी, निवेशकों को कर दिया मालामाल






कभी 3000 कराेड़ डॉलर की वर्थ थी





बताया जाता है कि जब ह्वांग अपने शिखर पर थे ताे उनकी संपत्ति करीब 3000 कराेड़ डॉलर यानि करीब 2.2 लाख कराेड़ भारतीय रुपये में थी. वे लाेगाें काे छद्य नाम से निवेश की सुविधा देते थे और कंपनी के नाम पर ह्वांग ने बैंकाें से अरबाें डॉलर उधार ले रखे थे. उनकी कंपनी उधारी के पैसाें पर शेयर बाजार में दांव लगाती थी. उन्हाेंने कुछ कंपनियाें में ही सारा पैसा लगा रखा था जिनमें वायकॉम, सीबीएस, जीएसएक्स, टेकेडू और शेपीफाय जैसी कंपनियां शामिल थी.



इनसाइडर ट्रेडिंग के लग चुके है आराेप



ह्वांग के ऊपर इनसाइडर ट्रेडिंग के आराेप भी लग चुके है. उन्हाेंने साल 2008 में टाइगर एशिया नाम का हेज फंड शुरू किया था. जिसके जरिए वे उधार के पैसाें से इशया के अलग-अलग देशाें के शेयर बाजाराें में दांव लगाता था. लेकिन बाद में इनसाइडर ट्रेडिंग के आराेप लगने के बाद उन्हें निवेशकाें का पैसा लाैटाना पड़ा था. उन पर पांच साल के लिए सार्वजनिक धन प्रबंधन करने पर राेक भी लगा दी थी. इसके बंद हाेने के बाद उन्हाेंने आर्चेगाेस शुरू की थी जिसका हाल आज सबके सामने है.


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज