vidhan sabha election 2017

मंडियों में खरीद-बिक्री के लिए अलग से बनेगा ऑनलाइन पेमेंट सिस्टम

News18Hindi
Updated: December 8, 2017, 7:51 AM IST
मंडियों में खरीद-बिक्री के लिए अलग से बनेगा ऑनलाइन पेमेंट सिस्टम
मंडियों में खरीद-बिक्री के लिए अलग से बनेगा ऑनलाइन पेमेंट सिस्टम
News18Hindi
Updated: December 8, 2017, 7:51 AM IST
इलेक्ट्रॉनिक राष्ट्रीय कृषि बाजार (ई-नाम) के लिए केंद्र सरकार अलग से ऑनलाइन पेमेंट सिस्टम बनाने जा रही है. सरकार ने इसके लिए आईसीआईसीआई बैंक के साथ करार किया है. बैंक मंडियों में खरीद-बिक्री के लिए अलग से ऑनलाइन पेमेंट सिस्टम बनाएगा. कृषि मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक आईसीआईसीआई बैंक भीम ऐप को यूपीआई और ई-नाम के पोर्टल से जोड़ेगा, जिससे ऑनलाइन पेमेंट की व्यवस्था हो सकेगी.

आपको बात दें कि ई-नाम को बढ़ावा देने के लिए मंडी कानून में बदलाव किया है. इंफ्रा सपोर्ट के लिए केंद्र से प्रति मंडी 30 लाख रुपये की मदद दी जा रही है. साथ ही, सरकार इसके लिए किसानों और कारोबारियों को ट्रेनिंग भी देगी.

क्या है ई-नाम
> ई-नाम भारत सरकार की एक महत्वाकांक्षी योजना है.

> इसके तहत देश की सभी कृषि मंडियों को ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर लाना है.
> मौजूदा समय में 14 राज्यों के 470 मंडियों को जोड़ा जा सका है जहां 90 कमोडिटी में ऑनलाइन ट्रेडिंग हो रही है.

मार्च तक 585 मंडियों को ई-नाम से जोड़ने की योजना
केंद्र सरकार का मार्च 2018 तक देश की सभी 585 मंडियों को इलेक्ट्रॉनिक राष्ट्रीय कृषि बाजार से जोड़ने का लक्ष्य है. इसके तहत किसानों को किसी भी राज्य में ऑनलाइन अपने उत्पाद बेचने की सुविधा होगी. सरकार का दावा है कि इससे किसानों को उनके उत्पाद का बेहतर दाम मिल सकेगा और इससे उनकी आमदनी भी बढ़ाने में मदद मिलेगी.

 
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर