• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • ICICI Bank ने जुटाया 15 हजार करोड़ रुपये का फंड, सिंगापुर सेंट्रल बैंक का सबसे बड़ा निवेश

ICICI Bank ने जुटाया 15 हजार करोड़ रुपये का फंड, सिंगापुर सेंट्रल बैंक का सबसे बड़ा निवेश

आईसीआईसीआई बैंक ने श्रीलंकाई मौद्रिक प्राधिकरण से मंजूरी मिलने के बाद अपना कारेाबार समेट लिया है.

आईसीआईसीआई बैंक ने श्रीलंकाई मौद्रिक प्राधिकरण से मंजूरी मिलने के बाद अपना कारेाबार समेट लिया है.

ICICI Bank ने QIP के जरिए 15,000 करोड़ रुपये जुटाया है. प्राइवेट सेक्टर के इस बैंक में सबसे बड़ा निवेश सिंगापुर सेंट्रल बैंक (Singapore Central Bank)  का है. जबकि, दूसरे और तीसरे स्थान पर क्रमश: मॉगर्न स्टेनली और सोसिएट जनरल हैं.

  • Share this:
    मुंबई. आईसीआईसीआई बैंक में क्वॉलिफाइड इंस्टीट्यूशनल प्लेसमेंट (QIP) के जरिये सबसे बड़े निवेशक के तौर पर सिंगापुर सेंट्रल बैंक (Singapore Central Bank) उभरा है. सिंगापुर की इस मॉनिटरी अथॉरिटी ने ICICI Bank में 4.6 करोड़ शेयर्स के लिए 1,662 करोड़ रुपये का निवेश किया, जोकि इश्यू साइज का कुल 11 फीसदी है. इसके अलावा आईसीआईसीआई बैंक में दूसरी सबसे बड़ी निवेशक मॉर्गन स्टेनली (Morgan Stanley) बनकर उभरी है. इस इन्वेस्टमेंट मैनेजमेंट फर्म ने 1086 करोड़ रुपये का निवेश किया है. जबकि, तीसरे नंबर पर फ्रेंच बैंक सोसिएट जनरल (societe Generale) ने 2.3 करोड़ शेयर्स के लिए 832 करोड़ रुपये का निवेश किया है.

    10 से 14 अगस्त के बीच में निवेश
    बता दें कि शनिवार को आईसीआईसीआई बैंक ने ऐलान किया कि QIP के जरिए उसने सफलतापूर्वक 15,000 करोड़ रुपये का फंड जुटाया है. इसके लिए प्रति इक्विटी का इश्यू प्राइस 358 रुपये था. यह रकम 356 रुपये प्रति इक्विटी का प्रीमियम प्राइस है. शनिवार को बैंक बोर्ड ने बैठक के बारे में शेयर्स अलॉटमेंट को मंजूरी भी दे दी है. इस इश्यू को 10 अगस्त 2020 को खोला गया था और यह 14 अगस्त 2020 को बंद हुआ.

    यह भी पढ़ें: 2.5 लाख में शुरू करें ये बिजनेस,हर महीने होगी 25000 और सालाना 3 लाख रु की कमाई

    कहां इस पूंजी का खर्च करेगा ICICI Bank
    आईसीआईसीआई बैंक ने शनिवार को बयान जारी कर कहा, 'इस इश्यू के जरिए जुटाए गए फंड का इस्तेमाल कैपिटल एडिटेसी रेशियो को मजबूत करने के लिए किया जाएगा. साथ ही बैंक इस फंड का कुछ हिस्सा प्रतिस्पार्धात्मक पोजिशनिंग और सामान्य कॉरपोरेट जरूरतों को पूरा करने के​ लिए किया जाएगा. बोर्ड से मंजूरी मिलने के बाद इसका इस्तेमाल अन्य खर्चों के लिए भी किया जा सकता है.'

    भारतीय कैपिटल मार्केट में सिंगापुर सरकार का बड़ा निवेश
    सिंगापु सरकार ने अपनी इन्वेस्टमेंट ईकाई GIC और मॉनिटरी अथॉरिटी के जरिए भारतीय कैपिटल मार्केट में सबसे बड़े इन्वेस्टर हैं. पिछले साल नवंबर में ही सिंगापुर सरकार ने भारत के एक प्राइवेट एंटरटेनमेंट मीडिया कंपनी ने 900 करोड़ रुपये का निवेश किया था.

    यह भी पढ़ें: एक से दूसरे शहर में Gold ले जाने के लिए जरूरी होगा ये बिल! जानिए पूरा मामला

    कैपिटल मार्केट में पर्याप्त लिक्विडिटी का लाभ लेते हुए भारतीय उधारकर्ता इक्विटी इश्यू के जरिए फंड जुटाने में तत्पर दिख रहे हैं. इससे कोविड-19 संकट के बीच उन्हें होने वाले नुकसान की भरपाई को संभालने में मदद मिल सकती है. अभी तक प्राइवेट भारतीय उधारकर्ताओं ने करीब 50,000 करोड़ रुपये जुटाए हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज