ICICI प्रूडेंशियल म्‍युचुअल फंड ने लॉन्‍च किया ESG फंड का NFO, जानिए क्या है खास

यह NFO 21 सितंबर को खुलेगा और 5 अक्टूबर को बंद होगा.
यह NFO 21 सितंबर को खुलेगा और 5 अक्टूबर को बंद होगा.

यह स्‍कीम मजबूत ESG स्‍कोर वाली कंपनियों में 80 फीसदी से 100 फीसदी तक का निवेश करेगी. ESG स्‍कोर कंपनियों की मजबूती और स्थिरता को प्रदर्शित करता है. एनएफओ 21 सितंबर को खुल रहा है और यह 5 अक्‍टूबर को बंद होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 18, 2020, 8:56 PM IST
  • Share this:
मुंबई. आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल म्युचुअल फंड एक नया फंड ऑफर (NFO) लेकर आया है, जिसका नाम है, आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल ईएसजी फंड (ICICI Prudential ESG Fund) है. यह एक ओपन एंडेड इक्विटी स्कीम है. यह उन कंपनियों में निवेश करेगी जो एनवॉयरमेंटल, सोशल और गवर्नेंस (ESG) थीम का पालन करती हैं.

यह NFO 21 सितंबर को खुलेगा और 5 अक्टूबर को बंद होगा. आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल ईएसजी फंड मजबूत ESG स्कोर वाली कंपनियों में 80 से 100 फीसदी निवेश करेगी. मजबूत ESG स्कोर कंपनियों की ताकत और स्थिरता को दर्शाता है. यह फंड स्कीम उच्च ESG स्कोर वाली विदेशी प्रतिभूतियों (Foreign Securities) यानी अंतरराष्ट्रीय कंपनियों में भी निवेश कर सकती है. योजना की चयन प्रक्रिया आंतरिक रिसर्च और निफ्टी 100 ईएसजी यूनिवर्स पर आधारित होगी.

आकलन के बाद कंपनियों में एक्सपोजर
आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल ईएसजी फंड एनवॉयरमेंटल, सोशल और गवर्नेंस (ESG) थीम का पालन करने वाली कंपनियों नें निवेश कर स्थायी निवेश को प्रोत्साहित करती है. कंपनियों को उल्लिखित कारकों के आधार पर एक समग्र ESG स्कोर सौंपा जाएगा और उल्लिखित कारकों पर कंपनियों का आकलन कर कंपनियों में एक्सपोजर लिया जाएगा.
यह भी पढ़ें: TikTok और WeChat पर बड़ी कार्रवाई की तैयारी में अमेरिकी सरकार, बंद होंगी कुछ सर्विसेज



आने वाले समय में भारत में सामान्य होगा ईएसजी निवेश
इस NFO की लॉन्चिंग के बारे में बात करते हुए आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल एएमसी के एमडी और सीईओ निमेश शाह ने कहा, 'ESGनिवेश स्थायी निवेश का पर्याय है. आने वाले वर्षों में, निवेश का ESG तरीका भारत में सामान्य हो जाएगा, क्योंकि भारत में अधिकांश युवा आबादी निवेश निर्णय लेते समय अधिक जागरूक है. अधिकांश अध्ययनों पर में यह बताया गया है कि अच्छे ESG स्कोर वाली कंपनियां निवेश के लिए जरूरी अधिकांश बातों को पूरा करती है. यह स्कोर पर्यावरणीय और सामाजिक जोखिमों को कम करता है और मजबूत नकद प्रवाह, कम ऋण लागत और टिकाऊ रिटर्न देता है.

शाह ने कहा कि ESG कंपनियां बेहतर ग्रोथ प्रदर्शित करती हैं जो निवेशकों के लिए धन के सृजन में सहायक हो सकती हैं, साथ ही मंदी के समय में बेहतर लचीलापन प्रदर्शित कर सकती है.

ESG निवेश में भरपूर संभावनाएं
भारत में ESG की संकल्‍पना शुरुआती चरण में है और इसमें काफी संभावनाएं है. जबकि वैश्विक स्‍तर पर, रिस्‍पांसिबल इन्‍वेस्टिंग यानी ईएसजी आधारित निवेश कुछ समय से चल रहा है और निवेशक खुशी-खुशी इस संकल्‍पना को स्‍वीकार रहे हैं. इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि 2019 में इस फंड में 154 बिलियन डॉलर प्राप्‍त हुआ जो 2009 में 21 अरब डॉलर था.

यह भी पढ़ें: Paytm is Back: गूगल प्ले स्टोर पर वापस आया पेटीएम, लेकिन अब ऐप में हुआ ये बदलाव

इस स्‍कीम का प्रबंधन मृनाल सिंह करेंगे जो डिप्‍टी सीआईओ- इक्विटीज हैं और इसका बेंचमार्क निफ्टी 100 ईएसजी इंडेक्‍स टीआरआई होगा. नया फंड ऑफर (एनएफओ) 21 सितंबर 2020 को खुल रहा है और 5 अक्‍टूबर 2020 को बंद होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज