वित्तीय नतीजे : आईडीबीआई बैंक को हुआ 512 करोड़ रुपए का मुनाफा, ब्याज आय 3240 करोड़ रही

IDBI Bank की प्रोविजनिंग पिछले साल की चौथी तिमाही के 1584 करोड़ रुपए से बढ़कर 2457 करोड़ रुपए रही है

IDBI Bank की प्रोविजनिंग पिछले साल की चौथी तिमाही के 1584 करोड़ रुपए से बढ़कर 2457 करोड़ रुपए रही है

चौथी तिमाही में आईडीबीआई बैंक (IDBI Bank) का मुनाफा पिछले साल के चौथी तिमाही के 135 करोड़ रुपए से बढ़कर 512 करोड़ रुपए रहा है.

  • Share this:
नई दिल्ली. वित्त वर्ष 2020-21 की चौथी तिमाही यानी जनवरी-मार्च 21 में आईडीबीआई बैंक (IDBI Bank) का मुनाफा 512 करोड़ रुपए हो गया है. यह पिछले साल के चौथी तिमाही में 135 करोड़ रुपए था. यानी बैंक के मुनाफे में करीब चार गुनी बढ़ोतरी हुई है. सोमवार को बैंक ने अपने वित्तीय नतीजों में यह जानकारी दी है.

शेयर बाजारों को भेजी सूचना में बैंक ने बताया है कि ब्याज आय पिछले साल की चौथी तिमाही के 2356.3 करोड़ रुपए से बढ़कर 3240.1 करोड़ रुपए रही है. 31 मार्च 2021 की चौथी तिमाही में IDBI Bank का ग्रॉस NPA पिछली तिमाही के 23.52 फीसदी से घटकर 22.37 फीसदी रही है. वहीं, नेट NPA पिछली तिमाही के 1.94 फीसदी से बढ़कर 1.97 फीसदी रहा है.

यह भी पढें : नौकरी की बात : टेक्नोलॉजी की वजह से इन जगहों पर नौकरियों की भरमार, जानें सबकुछ 

प्रोविजनिंग 1584 करोड़ रुपए से बढ़कर 2457 करोड़ रुपए
31 मार्च 2021 की चौथी तिमाही में IDBI Bank की प्रोविजनिंग पिछले साल की चौथी तिमाही के 1584 करोड़ रुपए से बढ़कर 2457 करोड़ रुपए रही है. मार्च 31 तक बैंक का प्रोविजन कवरेज रेश्यो 96.90 फीसदी रहा था.

यह भी पढ़ें : सालों में एक बार मिलता है मौका, पैसा कमाना चाहते हैं तो तुरंत करें यह काम

2.85 फीसदी की बढ़त के साथ 36.30 रुपए पर कारोबार कर रहा है शेयर



आज के कारोबार में IDBI Bank के शेयरों में तेजी देखने को मिल रही है. एनएसई पर IDBI Bank एक रुपए यानी 2.85 फीसदी की बढ़त के साथ 36.30 रुपए के आसपास दिख रहा है. बीएसई पर ये भी शेयर 2.8 फीसदी यानी करीब 1 रुपये की बढ़त के साथ 36.25 रुपए के आसपास कारोबार कर रहा है. गौरतलब है कि देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) आईडीबीआई बैंक में 51 फीसदी हिस्सेदारी थी, जबकि सरकार के पास 47.11 फीसदी हिस्सेदारी थी. आईडीबीआई बैंक को हो रहे घाटे की वजह से सरकार ने एलआईसी के जरिए इसमें स्ट्रैटजिक खरीदी करवाई थी. अब बैंक की स्थिति सुधरते देख एलआईसी धीरे-धीरे इससे बाहर हो सकता है.

यह भी पढें :  नौकरी की बात: पुरानी कंपनी, बॉस और सहकर्मियों के संपर्क में रहिए, लग सकती है जॉब्स की लॉटरी 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज