IDFC First बैंक के बॉस ने अपने स्कूल टीचर को उपहार में दिए लाखों रुपये के शेयर

आईडीएफसी फर्स्ट बैंक के प्रबंध निदेशक और सीईओ वैद्यनाथन ने अपने पूर्व स्कूल टीचर को 1 लाख शेयर्स गिफ्ट किए हैं.
आईडीएफसी फर्स्ट बैंक के प्रबंध निदेशक और सीईओ वैद्यनाथन ने अपने पूर्व स्कूल टीचर को 1 लाख शेयर्स गिफ्ट किए हैं.

वी वैद्यनाथन (V. Vaidynathan) ने अपने पूर्व स्कूल टीचर को 1 लाख शेयर गिफ्ट किया है. वैद्यनाथन आईडीएफसी फर्स्ट बैंक (IDFC First Bank) के प्रबंध निदेशक व मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं. स्टॉक एक्सचेंज को दी गई जानकारी से इस बारे में पता चलता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 1, 2020, 7:45 AM IST
  • Share this:
मुंबई. आईडीएफसी फर्स्ट बैंक के प्रबंध निदेशक और सीईओ वैद्यनाथन ने गुरदयाल सरूप सैनी को एक उपहार के रूप में शेयर दिए. अपने जीवन के पहले चरण में अपने शिक्षक की मदद के लिए आभार के रूप में बिना किसी मूल्य के शेयरों को भेंट किया हैं. गुरुदयाल सैनी वैद्यनाथन के शिक्षक रहे हैं. उस समय अपने गुरु के मार्गदर्शन को याद करते हुए उन्होंने उपहार स्वरूप गुरु को कुछ देने का सोचा और कुछ शेयर बिना पैसे के भेंट किये.

हस्तांरित किए 1 लाख इक्विटी शेयर्स
IDFC फर्स्ट बैंक के प्रबंध निदेशक और सीईओ वी वैद्यनाथन ने आईडीएफसी फर्स्ट बैंक के एक लाख इक्विटी शेयरों को अपनी व्यक्तिगत कैपेसिटी में अपने पूर्व स्कूल शिक्षक को हस्तांतरित कर दिया है

एक्सचेंज को दी जानकारी
आईडीएफसी फर्स्ट बैंक के एक लाख इक्विटी शेयरों को अपनी निजी क्षमता में से अपने पूर्व स्कूल शिक्षक को हस्तांतरित कर दिया है, बैंक ने एक्सचेंजों को एक नोट में कहा. एक मैसेज में वैद्यनाथन द्वारा यह स्पष्ट किया गया है कि श्रीसैनी कंपनी अधिनियम के तहत संबंधित पार्टी नहीं हैं और प्राप्तकर्ता कर अधिनियमों के अनुसार कर का भुगतान करेंगे.



यह भी पढ़ें: ड्राइवरों का ध्यान भटका रहा कार में लगा Infotainment सिस्टम, सर्वे में सामने आए हैरान करने वाले आंकड़े

पहले भी इन्हें दे चुके हैं 4 लाख से ज्यादा शेयर्स
वैद्यनाथन कैपिटल फर्स्ट के संस्थापक हैं और इसका दिसंबर 2018 में IDFC बैंक में विलय हो गया, जिसके बाद IDFC फर्स्ट बैंक बना. जब 2018 में वैद्यनाथन कैपिटल फर्स्ट के साथ थे तब इन्होंने अपने परिवार के सदस्यों, सहयोगियों और नौकरानियों को 4,30,000 शेयर दिए थे. इस मदद से यही पता चलता है कि वैद्यनाथन दूसरों की मुश्किलों को बखूबी समझते हैं और क्षमता के अनुसार सहयोग का प्रयास भी करते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज