तीन महीने में दूसरी बार इस बैंक ने सेविंग्स एकाउंट पर घटाया इंटरेस्ट रेट, जानिए अब कितना मिलेगा ब्याज

 बैंक की लोन बुक 10.09 प्रतिशत बढ़ी है, जो इंडस्ट्री की ग्रोथ से अधिक है

बैंक की लोन बुक 10.09 प्रतिशत बढ़ी है, जो इंडस्ट्री की ग्रोथ से अधिक है

प्राइवेट सेक्टर (Private Sector) के नए बैंकों में शामिल आईडीएफसी फर्स्ट बैंक (IDFC First Bank ) तीन महीने में दूसरी बार सेविंग्स एकाउंट्स पर इंटरेस्ट रेट कम किया है.

  • Share this:

नई दिल्ली. प्राइवेट सेक्टर (Private Sector) के नए बैंकों में शामिल आईडीएफसी फर्स्ट बैंक (IDFC First Bank ) तीन महीने में दूसरी बार सेविंग्स एकाउंट्स पर इंटरेस्ट रेट कम किया है. फरवरी में जहां IDFC फर्स्ट बैंक ने सेविंग्स एकाउंट पर इंटरेस्ट रेट को 7 प्रतिशत से घटाकर 6 प्रतिशत किया था वहीं अब 1 लाख रुपये से अधिक और 2 करोड़ रुपये तक के बैलेंस वाले सेविंग्स एकाउंट्स पर इंटरेस्ट रेट घटाकर 4-5 प्रतिशत कर दिया है. नई इंटरेस्ट रेट की नई दरें 1 मई से लागू होंगी. बैंक अब 1-10 लाख रुपये के बैलेंस पर 4.5 प्रतिशत, 2 करोड़ रुपये तक के बैलेंस के लिए 5 प्रतिशत और 2-10 करोड़ रुपये के बैलेंस के लिए 4 प्रतिशत इंटरेस्ट देगा. मालूम हो  IDFC फर्स्ट बैंक एकमात्र ऐसा बैंक है जो 1 लाख रुपये से कम का बैलेंस रखने वाले स्मॉल डिपॉजिटर्स को 6 प्रतिशत का इंटरेस्ट देता था.



कुछ मिड साइज और स्मॉल फाइनेंस बैंक सेविंग्स एकाउंट पर बेहतर इंटरेस्ट रेट्स की पेशकश करते हैं, लेकिन प्राइवेट सेक्टर के अधिकतर बड़े बैंक इन एकाउंट्स पर 3-3.5 प्रतिशत इंटरेस्ट ही देते हैं. सरकारी बैंकों के इंटरेस्ट रेट भी इसी तरह के हैं। स्टेट बैंक ऑफ इंडिया जैसे कुछ अन्य बैंकों का सेविंग्स एकाउंट पर इंटरेस्ट रेट केवल 2.7 प्रतिशत है.



कैपिटल फर्स्ट के साथ मर्जर के बाद रिटेल लेंडिंग सेगमेंट में 



IDFC फर्स्ट बैंक ने 2018 में कैपिटल फर्स्ट के साथ मर्जर के बाद रिटेल लेंडिंग सेगमेंट में बिजनेस शुरू किया था. बैंक की करंट एंड सेविंग्स एकाउंट (CASA) रेशो 31 दिसंबर, 2020 तक बढ़कर 48.3 प्रतिशत पर पहुंच गई थी, जो 31 मार्च, 2019 11.4 प्रतिशत की थी. 


ये भी पढ़ें - इनकम टैक्स को लेकर बड़ा अपडेट! FY20 के लिए ITR अब इस तारीख तक कर सकेंगे रिटर्न









बैंक की लोन बुक 10.09 प्रतिशत बढ़ी 



फाइनेंशियल ईयर 2021 के लिए दिए गए अनुमान के अनुसार, बैंक की लोन बुक 10.09 प्रतिशत बढ़ी है, जो इंडस्ट्री की ग्रोथ से अधिक है. बैंक के डिपॉजिट वर्ष-दर-वर्ष आधार पर 43.15 प्रतिशत अधिक रहे हैं और CASA रेशो मार्च के अंत में बढ़कर 51.95 प्रतिशत पर पहुंच गई, जो एक वर्ष पहले 31.87 प्रतिशत की थी.


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज