• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • कोरोना के इलाज के लिए इस स्‍कीम से निकालने हैं पैसे तो पहले ही जान लें बदले हुए नियम

कोरोना के इलाज के लिए इस स्‍कीम से निकालने हैं पैसे तो पहले ही जान लें बदले हुए नियम

3. छोटी बचत योजना खातों के लिए समय सीमा विस्तार: सरकार ने विभिन्न छोटी बचत योजनाओं के नियमों में ढील दी थी. ये 31 जुलाई को समाप्त हो जाएंगे. छोटी बचत योजनाओं के निवेशकों के लिए कुछ नियमों में ढील दी गई थी. पोस्ट ऑफिस आवर्ती जमा (आरडी) खाताधारक 31 जुलाई, 2020 तक अपने आरडी खाते में मार्च, अप्रैल, मई और जून, 2020 तक की किश्तें बिना रिवाइवल शुल्क या डिफॉल्ट शुल्क के जमा कर सकते हैं.

3. छोटी बचत योजना खातों के लिए समय सीमा विस्तार: सरकार ने विभिन्न छोटी बचत योजनाओं के नियमों में ढील दी थी. ये 31 जुलाई को समाप्त हो जाएंगे. छोटी बचत योजनाओं के निवेशकों के लिए कुछ नियमों में ढील दी गई थी. पोस्ट ऑफिस आवर्ती जमा (आरडी) खाताधारक 31 जुलाई, 2020 तक अपने आरडी खाते में मार्च, अप्रैल, मई और जून, 2020 तक की किश्तें बिना रिवाइवल शुल्क या डिफॉल्ट शुल्क के जमा कर सकते हैं.

पेंशन फंड नियामक व विकास प्राधिकरण (PFRDA) ने सभी नोडल ऑफिस को निर्देश दिया है कि आंशिक निकासी के लिए डिजिटल माध्‍यम से किए गए आवेदन में डाक्‍युमेंट्स की स्‍कैंड (Scanned) और सेल्‍फ-सर्टिफाइड इमेज (Self-certified Image) भी स्‍वीकार की जाए.

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. पेंशन फंड नियामक व विकास प्राधिकरण (PFRDA) ने एनपीएस खाताधारकों को कोविड-19 (COVID-19) के उपाचर संबंधित खर्चों के लिए आंशिक निकासी की अनुमति पहले ही दे दी थी. इसमें नेशनल पेंशन सिस्टम (NPS) सब्सक्राइबर्स अपने जीवनसाथी, बच्चों और माता-पिता के इलाज के लिए आंशिक निकासी कर सकते हैं. अब पीएफआरडीए ने सभी नोडल ऑफिस को निर्देश दिया है कि आंशिक निकासी के लिए डिजिटल माध्‍यम से किए गए आवेदन में डाक्‍युमेंट्स की स्‍कैंड (Scanned) और सेल्‍फ-सर्टिफाइड इमेज (Self-certified Image) भी स्‍वीकार की जाए.

    नोडल ऑफिसर जरूरी डाक्‍युमेंट्स की डिजिटल कॉपी करेंगे स्‍वीकार
    PFRDA ने हाल में जारी एक सर्कुलर में कहा है कि मौजूदा कोविड-19 संकट के बीच सब्‍सक्राइबर्स का आंशिक या पूर्ण निकासी के लिए डाक्‍युमेंट्स जमा करने को खुद आ पाना संभव नहीं हो पा रहा है. लिहाजा, नोडल ऑफिस डॉक्‍युमेंट्स को डिजिटल फॉर्म में स्‍वीकार कर सकते हैं. सर्कुलर के मुताबिक, सबसक्राइबर्स निकासी आवेदन को अपनी रजिस्‍टर्ड ई-मेल आईडी से भेज सकते हैं. नोडल अधिकारी निकासी की मंजूरी देने से पहले फॉर्म और दस्‍तावेजों की जांच के लिए जिम्‍मेदार होगा. निकासी के नियम समान रहेंगे. सब्‍सक्राइबर्स निकासी फॉर्म को भरकर जरूरी दस्‍तावेज लगाने के बाद नोडल ऑफिसर के पास सीधे जाकर भी करा सकते हैं.

    ये भी पढ़ें-Fixed Deposit से ज्‍यादा मिलेगा रिटर्न, सिर्फ 1 साल के लिए यहां लगाएं पैसे

    30 जून तक ही कर सकते हैं डिजिटल माध्‍यम से निकासी आवेदन
    पेंशन फंड नियामक व विकास प्राधिकरण ने कहा है कि डिजिटल निकासी आवेदन और उसे स्‍वीकार करने की आखिरी तारीख 30 जून 2020 है. नोडल ऑफिसर संबंधित सीआरए तक इस फॉर्म को 31 जुलाई 2020 तक पहुंचा सकते हैं. प्राधिकरण ने कहा है कि इस व्‍यवस्‍था को फिलहाल अपवाद के तौर पर इस्‍तेमाल किया जाएगा. इससे निकासी की प्रक्रिया में तेजी भी आएगी और लोगों को खुद कार्यालय जाने की जरूरत नहीं रहेगी. इससे उनके संक्रमित होने का खतरा भी नहीं रहेगा. बता दें कि एनपीएस एक सरकारी रिटायरमेंट सेविंग स्कीम है, जिसे केंद्र सरकार ने 1 जनवरी 2004 को लॉन्च किया था. इसके बाद 2009 से इस योजना को प्राइवेट सेक्टर के लिए भी खोल दिया गया.

    ये भी पढ़ें- Gold ETF में निवेशकों ने लगाए ₹815 करोड़, जानें क्यों सोने में निवेश बढ़ा!

    एनपीएस से आंशिक निकासी के क्‍या हैं नियम?

    >> NPS सब्सक्राइबर्स जब से आपका एनपीएस अकाउंट शुरू हुआ है, उसके तीन साल के बाद आंशिक निकासी कर सकते हैं.

    >> NPS से आंशिक निकासी हायर एजुकेशन/बच्चों की शादी, घर की खरीद/निर्माण और गंभीर बीमारी के उपचार में होने वाले खर्चों के लिए की जा सकती है.

    >> एनपीएस खाते में से सिर्फ तीन बार ही किसी बड़ी जरुरत के लिए पैसे निकाले जा सकते हैं. आप अपने खाते से मैच्योरिटी तक 3 बार ही पैसे निकाल सकते हैं.

    ये भी पढ़ें- 5 लाख में शुरू करें ये बिजनेस, हर महीने होगी 70000 रु. कमाई, सरकार देगी लोन

    >> आंशिक निकासी का आवेदन करने की तारीख को सब्सक्राइबर द्वारा किए गए योगदान का अधिकतम 25 फीसदी की अनुमति है.

    >> NSP सब्सक्राइबर आंशिक निकासी का आवदेन ऑनलाइन कर सकते हैं. इसके अलावा, सब्सक्राइबर आंशिक निकासी के फॉर्म के साथ दस्तावेजों को प्वाइंट ऑफ प्रेजेंस सर्विस प्रोवाइडर्स (POP) के पास जमा कर सकते हैं, जिसके आधार पर POP ऑनलाइन अनुरोध शुरू कर सकता है.

    >> पीएफआरडीए ने कहा, कोरोना वायरस के इलाज के लिए आंशिक निकासी करने के मामले में, नोडल ऑफिस / पीओपी / एग्रीगेटर्स यह सुनिश्चित करेंगे कि सब्सक्राइबर ने आंशिक वापसी के लिए चिकित्सा प्रमाणपत्र और औपचारिक अनुरोध प्रदान किया है.

    ये भी पढ़ें- टैक्‍स बचत योजनाओं में देर से किया है निवेश तो ITR भरते वक्‍त यहां दें ब्‍योरा

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज