अगर छुट्टियों पर निकलने की तैयारी कर रहे हैं, तो जानें क्यों जरूरी है ट्रैवेल इंश्योरेंस

ravel insurance

छुट्टी पर जाने से पहले जिन चीजों की जरूरत है, उसमें आप ट्रैवल इंश्योरेंस को भी शामिल कर सकते हैं. सफर के दौरान कोई मेडिकल खर्च या दूसरी मुश्किल जैसे सामान या पासपोर्ट खोने आदि की स्थिति में यह मदद करता है.

  • Share this:
    नई दिल्ली . कोरोना की दूसरी लहर के बाद अब धीरे-धीरे अनलॉक की प्रक्रिया शुरू हो गई है. घर में बैठे बैठे लोग अब बाहर निकलने का प्लान बनाने लगे हैं. कोरोना महामारी के इस दौर पर घूमने जाने के लिए पहले से ज्यादा तैयारी करने की जरूरत होती है. लोगों को कोरोना से बचने के लिए मास्क, सैनिटाइजर भी रखने जरूरी होते हैं. इस समय में स्वास्थ्य की ओर भी लोगों का ध्यान बढ़ा है. लोगों को किसी बीमारी की स्थिति में पहले से तैयार रहने का महत्व समझ आया है.

    छुट्टी पर जाने से पहले जिन चीजों की जरूरत है, उसमें आप ट्रैवल इंश्योरेंस को भी शामिल कर सकते हैं. सफर के दौरान कोई मेडिकल खर्च या दूसरी मुश्किल जैसे सामान या पासपोर्ट खोने आदि की स्थिति में यह मदद करता है. आइए जानते हैं कि सफर पर जाने के लिए ट्रैवल इंश्योरेंस क्यों जरूरी है.

    मेडिकल खर्च
    जब दूसरे देश में सफर करने की बात आती है, तो ज्यादातर लोग आम तौर पर बजट में बंधे होते हैं. आम तौर पर, लोग पैसे की बचत के लिए अपने सभी कामों की प्लानिंग, ज्यादातर बुकिंग पहले से करते हैं. लेकिन अगर व्यक्ति को किसी बीमारी या चोट का सामना करना पड़े, तो क्या करें. ऐसे में ट्रैवल इंश्योरेंस पॉलिसी आपकी मदद करेगी. ट्रैवल इंश्योरेंस में हॉस्पिटल चार्ज, एंबुलेंस सर्विस और फिजिशियन सर्विस का चार्ज भी शामिल होता है, जो पॉलिसी के प्रकार पर निर्भर करेगा.

    यह भी पढ़ें- रोजाना 200 रुपये निवेश करके इतने सालों में बना सकते हैं 28 लाख रुपये, जानिए कैसे

    अस्पताल में भर्ती होने पर अलाउंस

    ट्रैवल इंश्योरेंस में इमरजेंसी की स्थिति पर अस्पताल में भर्ती होने पर रोजाना का अलाउंस मिलता है. इन पॉलिसी में बीमाकर्ता के भर्ती होने की दिनों की संख्या के लिए डेली अलाउंस का भुगतान किया जाता है. यह पॉलिसी दस्तावेजों में बताई गई दिनों की संख्या पर निर्भर करता है. इसके लिए आप अपनी ट्रैवल इंश्योरेंस पॉलिसी को ध्यान से चेक कर लें.

    यह भी पढ़ें- नोटबंदी के बाद गृहिणियों के 2.5 लाख रुपये तक नकद जमा पर कोई जांच नहीं: आईटीएटी

    इमरजेंसी की स्थिति में रहने की जगह बदलना

    अगर व्यक्ति किसी इमरजेंसी की स्थिति की वजह से तय की गई जगह में नहीं रह पा रहा है, तो उसे दूसरी जगह के लिए अतिरिक्त भरपाई की कीमत भी ट्रैवल इंश्योरेंस में मिलती है. आम तौर पर, यह भूकंप, तूफान, धमाके तक ही सीमित नहीं होती. इसमें क्या शामिल है, इसके लिए आप इंश्योरेंस दस्तावेजों को देख सकते हैं.

    दुर्घटना में चोट या मौत

    जीवन अनिश्चित्ताओं से भरा है. ट्रैवल इंश्योरेंस पॉलिसी में दुर्घटना में आई चोट को भी कवर किया जाता है. इन पॉलिसी में दुर्घटना में हुई मौत पर भी कवरेज उपलब्ध है.
    ट्रिप का रद्द हो जाना

    महामारी के दौर में फ्लाइट का रद्द होना आम बन गया है, जिससे मुसाफिरों को आखिरी समय में परेशानी का सामना करना पड़ता है. इसके अलावा मेडिकल इमरजेंसी, प्राकृतिक आपदा या किसी दूसरे कारणों से भी आपकी ट्रिप रद्द हो सकती है. ट्रैवल इंश्योरेंस से ऐसी स्थितियों में मदद मिलती है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.