लाइव टीवी

आपने भी PPF में किया है निवेश तो जान लें ये बात, होगा बड़ा फायदा

News18Hindi
Updated: October 20, 2019, 1:25 PM IST
आपने भी PPF में किया है निवेश तो जान लें ये बात, होगा बड़ा फायदा
पब्लिक प्रोविडेंट फंड

15 साल बाद PPF खाते की मैच्योरिटी के बाद भी ब्याज का लाभ लेने के ​लिए Form-H भरना जरूरी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 20, 2019, 1:25 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. लंबी अवधि में निवेश के लिए पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF) सबसे बेहतर विकल्पों में से एक है. लेकिन, PPF खातों की मैच्योरिटी की बात आती है तो निवेशकों को फॉर्म H (Form H) के बारे में जरूर जानना चाहिए. PPF अकाउंट्स की मैच्योरिटी 15 साल की होती है. लेकिन, इसे 5-5 साल के लिए और भी आगे बढ़ाया जा सकता है. इसके अलावा, PPF खातों (PPF Accounts) को मैच्योरिटी के बाद भी बिना किसी अन्य निवेश के लिए आगे जारी किया जा सकता है. जब तक इस अकाउंट को बंद नहीं किया जाता, तब तक इस खाते में जमा रकम पर ब्याज मिलता रहेगा.

क्यों जरूरी है Form-H
अगर निवेशक इस खाते में जमा रकम पर मैच्योरिटी के बाद भी ब्याज का लाभ लेना चाहते हैं तो इसके लिए उन्हें Form H जमा करना अनिवार्य होता है. ऐसा नहीं करने पर मैच्योरिटी के बाद जमा की गई राशि पर ब्याज का लाभ नहीं मिल सकेगा. साथ ही, इस राशि पर इनकम टैक्स एक्ट (Income Tax) के सेक्शन 80C के तहत टैक्स छूट भी नहीं मिल सकेगा. PPF Form H एक पन्ने का एक बेहद ही आसान फॉर्म होता है, जिसे बैंकों या इंडिया पोस्ट (India Post) की वेबसाइट से डाउनलोड किया जा सकता है. इस फॉर्म को भरकर उसी ब्रांच में जमा करना होता है, जहां पीपीएफ अकाउंट खोला गया है.

ये भी पढ़ें: देश में सिर्फ 9 लोगों की सलाना कमाई 100 करोड़ रुपये से ज्यादा! इनकम टैक्स के आंकड़ों में हुए कई अहम खुलासे



पब्लिक प्रोविडेंट फंड फॉर्म-एच



Loading...

15 साल की मैच्योरिटी के बाद आंशिक निकासी का विकल्प
बता दें कि मैच्योरिटी पीरियड के बाद जब निवेशक इसे आगे तक जारी रखता है, तब कुल राशि का कुछ हिस्सा विड्रॉ (Partial Withdrawal) किया जा सकता है. लेकिन, इसके लिए भी ध्यान देना होगा कि पांच साल की अवधि में कुल निकासी 60 फीसदी से अधिक नहीं होनी चाहिए. यह 60 फीसदी 5 साल की अतिरिक्त अवधि बढ़ाने के समय तक ही होना चाहिए.

अगर कोई PPF अकाउंटहोल्डर अकाउंट बंद नहीं करता और फॉर्म एच भी नहीं जमा करता है तो मैच्योरिटी के बाद कोई नई राशि इसमें नहीं जमा किया जा सकता है. हालांकि, अब तक कुल बैलेंस पर ब्याज मिलता रहेगा. ऐसे में निवेशक के लिए बेहतर यही होगा नया अकाउंट खोलने से पहले पुराने अकाउंट को ही आगे जारी रखा जाए.

ये भी पढ़ें: SBI के करोड़ों ग्राहकों को लगेगा झटका! 1 नवंबर से होने जा रहा बड़ा बदलाव

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 20, 2019, 5:17 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...