Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    Ration Card: कहीं पर मुफ्त में तो कुछ राज्यों में मामूली फीस लेकर बनता है राशन कार्ड, जानिए सबकुछ

    राशन कार्ड बनाने से पहले उनके आर्थिक स्थिति पता किया जाता है.
    राशन कार्ड बनाने से पहले उनके आर्थिक स्थिति पता किया जाता है.

    One Nation One Ration Card Scheme: राशन कार्ड (Ration Card) बनाने से पहले उनके आर्थिक स्थिति पता किया जाता है. आर्थिक स्थिति के आधार पर ही बीपीएल (BPL), एपीएल (APL), एएवाई (AAY) और एवाई (AY) कार्ड बनाया जाता है. राशन कार्ड बन जाने के बाद लोग सार्वजनिक वितरण प्रणाली (PDS) के दुकानों से फ्री में या फिर कम दरों पर खाद्यान्न खरीद सकते हैं.

    • News18Hindi
    • Last Updated: October 23, 2020, 8:34 AM IST
    • Share this:
    नई दिल्ली. देश के कई राज्यों में इस समय राशन कार्ड (Ration Card) बनाने का काम चल रहा है. राज्य सरकारें (State Governments) अपने यहां कई कैटेगिरी (Categories) में राशन कार्ड बना रही है. हर राज्यों में राशन कार्ड बनाने के नियम अलग-अलग हैं. हरियाणा (Haryana), दिल्ली (Delhi), बिहार (Bihar), झारखंड (Jharkhand) और छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) जैसे राज्यों में राशन कार्ड बनाए जा रहे हैं. कई राज्यों में राशन मुफ्त बनते हैं तो कई राज्यों में इसके लिए 5 रुपये से लेकर 40 रुपये तक लिए जाते हैं. ऐसे में आपको यह जान लेना जरूरी है कि राशन कार्ड कितने प्रकार के होते हैं और कैसे बनाया जाता है. आप अगर राशन कार्ड के लिए अप्लाई करते हैं तो आपके लिए यह जानना भी जरूरी हो जाता है कि आप किस कैटेगरी के लिए फिट बैठते हैं.

    राशन कार्ड कितने प्रकार के होते हैं
    राशन कार्ड कई तरह के होते हैं. राशन कार्ड बनाने से पहले उनके आर्थिक स्थिति पता किया जाता है. आर्थिक स्थिति के आधार पर ही आपका बीपीएल (BPL), एपीएल (APL), एएवाई (AAY) और एवाई (AY) कार्ड बनाया जाता है. राशन कार्ड की सहायता से लोग सार्वजनिक वितरण प्रणाली (PDS) के तहत उचित दर की दुकानों से खाद्यान्न बाजार मूल्य से बेहद कम दाम पर खरीद सकते हैं.

    how to get new ration card, One Nation One Ration card, without ration cards get ration, ration card new law, state governments, online registration, offline registration, PM Garib Kalyan Ann Yojana, राशनकार्ड में नाम कैसे जुड़वाएं, पत्नी का नाम राशनकार्ड में कैसे जुड़वाएं, नए बच्चे का राशनकार्ड में नाम कैसे जुड़वाएं, राशनकार्ड के लिए कहां अप्लाई करें, वन नेशन वन राशन कार्ड, राशन कार्ड ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन बिना राशन कार्ड, बिना राशन कार्ड वालों को कैसे मिलेगा राशन, मुफ्त राशन, राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना, राशन कार्ड गुम होने पर कैसे बनता है, राशनकार्ड गुम होने पर क्या करें, राशन कार्ड आधार से लिंक नहीं है तो क्या करें, अगर आपका राशन कार्ड बाढ़ में गुम हो जाए तो क्या करें, बारिश में बह जाए तो क्या करें, राशन कार्ड ऐसे बनाएं दोबारा,राशन कार्ड बनाना राज्य सरकारों की जिम्मेवारी है.Ration Card related all informations knowledge how to get new ration cards add and remove names nodrss
    राशन कार्ड बनाना राज्य सरकारों की जिम्मेवारी है.

    इस तरह राशन कार्ड बनाए जाते हैं


    गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले लोगों को BPL कार्ड दिया जाता है. BPL कार्ड में कौन-कौन लोग शामिल होंगे और कौन नहीं ये परिवार की आय और सदस्यों की संख्या पर निर्भर करता है. APL कार्ड उनलोगों को दिया जाता है, जो गरीबी रेखा से ऊपर जीवन-यापन करते हैं. वहीं अंत्योदय राशन कार्ड बेहद ही गरीब परिवारों को जारी किया जाता है. अंत्योदय राशन कार्ड ऐसे लोगों दिए जाते हैं जो आर्थिक रूप से दूसरे किसी भी वर्ग के लोगों से कमजोर होते हैं. झारखंड, हरियाणा जैसे राज्यों में इसे ग्रीन कार्ड के जरिए लोगों को इस योजना से जोड़ा जा रहा है.

    बुजुर्गों के लिए भी विशेष सुविधा
    अन्नपूर्णा योजना (AY) कार्ड असहाय, बेहद गरीब और अभावग्रस्त लोगों को दिए जाते हैं. ऐसे बुजुर्ग लोगों को भी इसमें शामिल किया गया है, जिनको वृद्धा पेंशन नहीं मिलता है. अन्नपूर्णा योजना के जरिए ऐसे लोगों को हर महीना 10 किलो अनाज मुफ्त में दिया जाता है.

    how to get new ration card, One Nation One Ration card, without ration cards get ration, ration card new law, state governments, online registration, offline registration, PM Garib Kalyan Ann Yojana, राशनकार्ड में नाम कैसे जुड़वाएं, पत्नी का नाम राशनकार्ड में कैसे जुड़वाएं, नए बच्चे का राशनकार्ड में नाम कैसे जुड़वाएं, राशनकार्ड के लिए कहां अप्लाई करें, वन नेशन वन राशन कार्ड, राशन कार्ड ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन बिना राशन कार्ड, बिना राशन कार्ड वालों को कैसे मिलेगा राशन, मुफ्त राशन, राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना, राशन कार्ड गुम होने पर कैसे बनता है, राशनकार्ड गुम होने पर क्या करें, राशन कार्ड आधार से लिंक नहीं है तो क्या करें, अगर आपका राशन कार्ड बाढ़ में गुम हो जाए तो क्या करें, बारिश में बह जाए तो क्या करें, राशन कार्ड ऐसे बनाएं दोबारा,कुछ राज्यों में बनाने के लिए फीस लिए जाते हैं तो कुछ राज्यों में फ्री में बनाए जाते हैं. Ration Card related all informations knowledge how to get new ration cards add and remove names nodrss
    उपभोक्ताओं को अब राशन दुकान पर राशन कार्ड ले जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी.


    राज्य सरकारें राशन कार्ड बनाती है
    राशन कार्ड बनाना राज्य सरकारों की जिम्मेवारी है. राज्य सरकार की खाद्यान्न एवं सप्लाई विभाग नए राशन कार्ड बनवाने से लेकर नाम काटने की काम करती है. इसलिए हर राज्य सरकारों ने राशन कार्ड बनाने से नाम हटाने के लिए अलग-अलग नियम तय कर रखी हैं. हर राज्यों की आवेदन जमा करने की प्रक्रिया भी अलग-अलग है. कहीं इसके लिए ऑफलाइन आवेदन लिए जाते हैं तो कहीं ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरीके से आवेदन करने की सुविधा है.

    कैसे कर सकते हैं अप्लाई
    राशन कार्ड राज्य सरकारों द्वारा जारी किया जाता है. इसलिए हर राज्य में राशन कार्ड के लिए अप्लाई करने की प्रॉसेस अलग-अलग है. कहीं इसके लिए ऑफलाइन ही अप्लाई किया जा सकता है तो कहीं पर ऑनलाइन आवेदन की सुविधा है. उदाहरण के तौर पर अगर आप उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं तो आप https://fcs.up.gov.in/FoodPortal.aspx को एक्सेस कर फॉर्म डाउनलोड कर सकते हैं. इसके बाद उसमें सभी जरूरी जानकारियां भरकर अपने क्षेत्र के राशन डीलर को या खाद्य आपूर्ति विभाग के दफ्तर में सौंप दें. आवेदन के लिए तहसील में इस कार्य से संबंधित अधिकारी से भी संपर्क किया जा सकता है. आवेदनकर्ता चाहे तो राशन कार्ड के​ लिए कॉमन सर्विस सेंटर में भी अप्लाई कर सकता है. राशन कार्ड का फॉर्म सौंपने के बाद स्लिप लेना न भूलें.

    इन डॉक्युमेंट्स की पड़ती है जरूरत
    राशन कार्ड बनवाने के लिए आईडी प्रूफ के तौर पर आधार कार्ड, वोटर आईडी, पासपोर्ट, सरकार के द्वारा जारी किया गया कोई आई कार्ड, हेल्थ कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस दिया जा सकता है. इसके अलावा पैन कार्ड, पासपोर्ट साइज फोटो, आय प्रमाण पत्र, पते के प्रमाण के तौर पर बिजली बिल, गैस कनेक्शन बुक, टेलिफोन बिल, बैंक स्टेटमेंट या पासबुक, रेंटल एग्रीमेंट जैसे डॉक्युमेंट भी लगेंगे.

    मामूली फीस का भी प्रावधान
    राशन कार्ड बनवाने के लिए आवेदनकर्ता को मामूली फीस का भुगतान भी करना होता है. इसके लिए आवेदनकर्ता को अपने राज्य व क्षेत्र में पता करना होगा. उदाहरण के लिए दिल्ली में यह शुल्क 5 रुपये से 45 रुपये तक है. एप्लीकेशन सबमिट होने के बाद इसे फील्ड वेरिफिकेशन के लिए भेजा जाता है. अधिकारी फॉर्म में भरी जानकारियों की जांच कर पुष्टि करता है. आम तौर पर यह जांच आवेदन करने के 30 दिन के अंदर पूरी हो जाती है. इसके बाद आगे की प्रक्रिया होती है. सभी डिटेल वेरिफाई होने के बाद राशन कार्ड बन जाता है. अगर कोई डिटेल गलत पाई जाती है तो आवेदनकर्ता पर कानूनी कार्रवाई भी हो सकती है.

    क्या है राशनकार्ड की उपयोगिता
    राशन कार्ड भारत सरकार की एक मान्यताप्राप्त सरकारी डॉक्यूमेंट है. राशन कार्ड एक बेहद ही महत्वपूर्ण दस्तावेज है, जिसे आप सरकारी काम में इस्तेमाल करेंगे ही और कई कामों में यह आपकी पहचान को दर्शाता है. खासतौर पर यह सब्सिडी पर अनाज लेने या अन्य सरकारी सुविधाओं के लिए उपयोग में लाया जाता है.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज