अर्थव्यवस्था को लगा बड़ा झटका: IIP ग्रोथ गिरकर शून्य के नीचे, 23 महीने में सबसे कम

अर्थव्यवस्था को लगा बड़ा झटका: IIP ग्रोथ गिरकर शून्य के नीचे, 23 महीने में सबसे कम
अर्थव्यवस्था को लगा बड़ा झटका: IIP ग्रोथ गिरकर शून्य के नीचे

औद्योगिक उत्पादन के मोर्चे पर केंद्र सरकार को बड़ा झटका लगा है. मार्च में इंडस्ट्रियल ग्रोथ 5.3 फीसदी से घटकर -0.1 फीसदी पर आ गई है.

  • Share this:
औद्योगिक उत्पादन के मोर्चे पर केंद्र सरकार को बड़ा झटका लगा है. मार्च में इंडस्ट्रियल ग्रोथ 5.3 फीसदी से घटकर -0.1 फीसदी पर आ गई है. ये आंकड़े 23 महीने में सबसे कम है. एक्सपर्ट्स का कहना है कि कई सेक्टर्स में उत्पादन घटने से औद्योगिक उत्पादन में गिरावट आई है. आपको बता दें कि औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (आईआईपी) का किसी भी देश की अर्थव्यवस्था में खास महत्व होता है. इससे पता चलता है कि उस देश की अर्थव्यवस्था में औद्योगिक वृद्धि किस गति से हो रही है.

आईआईपी के अनुमान के लिए 15 एजेंसियों से आंकड़े जुटाए जाते हैं. इनमें डिपार्टमेंट ऑफ इंडस्ट्रियल पॉलिसी एंड प्रमोशन, इंडियन ब्यूरो ऑफ माइंस, सेंट्रल स्टेटिस्टिकल आर्गेनाइजेशन और सेंट्रल इलेक्ट्रिसिटी अथॉरिटी शामिल हैं. (ये भी पढ़ें-अचानक हो पैसों की जरूरत, SBI की ये सुविधा आएगी काम)

इस इंडेक्स में शामिल वस्तुओं को तीन समूहों-माइनिंग, मैन्युफैक्चरिंग और इलेक्ट्रिसिटी में बांटा जाता है। फिर इन्हें बेसिक गुड्स, कैपिटल गुड्स, इंटरमीडिएट गुड्स, कंज्यूमर ड्यूरेबल्स और कंज्यूमर नॉन-ड्यूरेबल्स जैसी उप-श्रेणियों में बांटा जाता है.




अब क्या होगा- मार्केट एक्सपर्ट्स अजय बग्गा का कहना है कि आईआईपी ग्रोथ के गिरने का अनुमान पहले से था. लेकिन ये नंबर्स अनुमान से बेहद खराब है. ऑटो सेल्स में आई गिरावट का असर भी इन आंकड़ों पर है. नई सरकार के आने के बाद पॉलिसी पर फिर से काम शुरू होगा. लिहाजा ग्रोथ नंबर्स अगले कुछ महीनों तक ऐसे ही रहने की आशंका है. हालांकि, आरबीआई ब्याज दरें कम कर इसे सहारा दे सकता है.ये भी पढ़ें-कंगाल पाकिस्तान को बचाने के लिए IMF ने रखी ये शर्त!)



इन कमजोर आंकड़ों के बाद शेयर बाजार में गिरावट की आशंका बनी हुई है. लिहाजा शेयर बाजार और म्युचूअल फंड्स के रिटर्न पर इसका असर होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading