2-3 दिन में बिहार समेत इन इलाकों में शुरू हो सकती है मानसून की बारिश!

2-3 दिन में बिहार समेत इन इलाकों में शुरू हो सकती है मानसून की बारिश!
2-3 दिन में बिहार समेत इन इलाकों में शुरू हो सकती है मानसून की बारिश!

भारतीय मौसम विभाग का कहना है कि बंगाल की खाड़ी में लो प्रेशर एरिया बन रहा है. ऐसे में मानसून को आगे बढ़ने में मदद मिलेगी. मौसम विभाग के मुताबिक, अगले 2-3 दिन में इसके बिहार, झारखंड, ओडिशा, गोवा, कोंकण, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु में पहुंचने का अनुमान है.

  • Share this:
भारतीय मौसम विभाग का कहना है कि बंगाल की खाड़ी में लो प्रेशर एरिया बन रहा है. ऐसे में मानसून को आगे बढ़ने में मदद मिलेगी. मौसम विभाग के मुताबिक, केरल के बाद अब कर्नाटक और उत्तर पूर्व राज्यों जैसे सिक्कम में मानसून की बारिश शुरू हो चुकी है. अगले 2-3 दिन में इसके बिहार, झारखंड, ओडिशा, गोवा, कोंकण, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु में पहुंचने का अनुमान है. अरब सागर और बंगाल की खाड़ी वाली मानसून की दोनों ब्रांच सक्रिय होने से मानसून तेजी से आगे बढ़ेगा. पिछले चार दिन से मानसून की प्रोग्रेस अटक गई थी. आपको बता दें कि इस साल का मानसून पिछले 12 साल में सबसे धीमी गति वाला रहा है. इसकी एक वजह भीषण तूफान ‘वायु’ भी है जिसकी वजह से मानसून के बादलों की दिशा पर खासा असर पड़ा. अभी तक यह देश के सिर्फ 10-15 फीसदी क्षेत्रों तक ही पहुंच पाया है. जबकि भारत का दो-तिहाई हिस्सा आम तौर पर साल के इस समय तक मानसून के दायरे में आ जाता है.

भारतीय मौसम विभाग की चेतावनी- IMD का कहना है कि केरल, महाराष्ट्र, कर्नाटक, मध्य प्रदेश के पश्चिमी इलाके में भारी बारिश हो सकती है. वहीं, उत्तर प्रदेश, अंडमान निकोबार, असम, मेघालय, मिजोरम और त्रिपुरा में भी भारी बारिश का अनुमान है.

ये भी पढ़ें-1 जुलाई से M&M की कारें इतने रुपये तक हो जाएंगी महंगी, जानिए क्यों



भारतीय मौसम विभाग की ओर से जारी चेतावनी

मानसून के लिए अनुकूल हुई परिस्थितियां-भारतीय मौसम विभाग ने बुधवार (19 जून 2019) को जानकारी देते हुए कहा कि अगले दो से तीन दिनों में दक्षिण-पश्चिम मानसून के आगे बढ़ने के लिए स्थितियां मध्य अरब सागर, कर्नाटक के कुछ और हिस्सों, दक्षिण कोंकण और गोवा, आंध्र प्रदेश के कुछ हिस्सों, तमिलनाडु के शेष हिस्सों, बंगाल की खाड़ी और उत्तर भारत के बाकी हिस्सों के लिए अनुकूल होती जा रही है.एक जून से अभी तक बारिश में 44 फीसदी की कमी आ चुकी है. मानसून सिस्टम को फिर से मजबूत होने में कम से कम एक सप्ताह का समय लग जाएगा.

ये भी पढ़ें-Exclusive: बांस उगाकर अब चैन की बांसुरी बजाएंगे किसान, ये है मोदी सरकार का बड़ा प्‍लान

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज