लाइव टीवी

IMF चीफ ने कहा-भारत में आर्थिक सुस्ती कुछ समय के लिए, जल्द पटरी पर लौटेगी ग्रोथ

पीटीआई
Updated: January 24, 2020, 6:37 PM IST
IMF चीफ ने कहा-भारत में आर्थिक सुस्ती कुछ समय के लिए, जल्द पटरी पर लौटेगी ग्रोथ
आईएमएफ की चीफ क्रिस्टालिना जियॉर्जिवा

स्विट्जरलैंड में चल रही है वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम (WEF) की 50वीं सालाना बैठक में आईएमएफ की चीफ क्रिस्टालिना जियॉर्जिवा ने कहा है कि भारत में आर्थिक सुस्ती कुछ दिनों के लिए है. आने वाले समय में फिर से तेज आर्थिक ग्रोथ की उम्मीद कायम है.

  • Share this:
दावोस. स्विट्जरलैंड में चल रही है वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम (WEF) की 50वीं सालाना बैठक में अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष यानी आईएमएफ (IMF) की चीफ क्रिस्टालिना जियॉर्जिवा (IMF Chief Kristalina Georgieva) ने कहा है कि भारत में आर्थिक सुस्ती कुछ दिनों के लिए है. क्रिस्टालिना जियॉर्जिवा ने कहा कि आने वाले समय में फिर से तेज आर्थिक ग्रोथ की उम्मीद कायम है.

आपको बता दें कि इसी हफ्ते, आईएमएफ ने वर्ष 2019 के लिए भारत की आर्थिक वृद्धि दर के अनुमान को कम करके 4.8 फीसदी कर दिया है. आईएमएफ की मुख्य अर्थशास्त्री गीता गोपीनाथ का कहना है कि साल 2020 में वैश्विक वृद्धि में तेजी अभी अनिश्चित है. उन्होंने इसकी वजह ये बताई है कि ब्राजील, भारत और मेक्सिको जैसे देश क्षमता के अनुरूप प्रदर्शन नहीं कर रहे हैं.

क्रिस्टालिना जियॉर्जिवा ने कहा कि अक्टूबर 2019 के मुकाबले, जनवरी 2020 में दुनियाभर की अर्थव्यवस्था बेहतर स्थिति में है. अमेरिका और चीन के बीच ट्रेड डील के पहले चरण पर सहमति बनना दुनिया के लिए बेहतर है. उन्होंने कहा, 3.3 फीसदी की ग्लोबल आर्थिक ग्रोथ दुनिया के लिए बेस्ट है.



वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम 2020 की बैठक में बोलते हुए गीता गोपीनाथ ने कहा कि ऐतिहासिक तौर पर ग्लोबल ट्रेड में हमेशा से एक करेंसी का दबदबा रहा है. दुनियाभर में एक समय तक ब्रिटिश पाउंड का इस्तेमाल कारोबारी लेनदेन के लिए होता था.

ये भी पढ़ें-झटका! 20 साल में पहली बार डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन में आ सकती है बड़ी गिरावट
मौजूदा वक्त में डॉलर का इस्तेमाल हो रहा है. अगर आप दोबारा डॉलर के दबदबे को रिजर्व कर देते हैं, तो इसका असर यूरो और अन्य तीन फैक्टर पर पड़ेगा. मॉनिटरी पॉलिसी का ट्रांसमिशन अमेरिका से पूरी दुनिया की तरफ होगा. साथ ही अन्य चीजें भी प्रभावित होंगी.
सरकार की ओर से FY20 के लिए GDP ग्रोथ का अनुमान


दुनिया की कई बड़ी एजेंसी घटा चुकी हैं भारत की GDP का अनुमान

IMF- पिछली बार 6 फीसदी जीडीपी का अनुमान, अब 4.8 फीसदी अनुमान
SBI रिसर्च- पिछली बार 5 फीसदी जीडीपी का अनुमान, अब 4.6 फीसदी अनुमान
Fitch- पिछली बार 5.6 फीसदी जीडीपी का अनुमान, अब 4.6 फीसदी अनुमान
ADB- पिछली बार 6.5 फीसदी जीडीपी का अनुमान, अब 5.1 फीसदी अनुमान
World Bank- पिछली बार 6 फीसदी जीडीपी का अनुमान, अब 5 फीसदी अनुमान
RBI- पिछली बार 6.1 फीसदी जीडीपी का अनुमान, अब 5 फीसदी अनुमान

यह भी पढ़ें: अब अपने आधार कार्ड से लिंक करना होगा वोटर आईडी! चुनाव आयोग की तैयारी पूरी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 24, 2020, 5:05 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर