Home /News /business /

इस वित्त वर्ष में 9.5 फीसदी नहीं रहेगी भारत की GDP ग्रोथ रेट, IMF ने घटाया अनुमान

इस वित्त वर्ष में 9.5 फीसदी नहीं रहेगी भारत की GDP ग्रोथ रेट, IMF ने घटाया अनुमान

IMF ने मौजूद वित्त वर्ष 2021-22 के लिए भारत की जीडीपी ग्रोथ दर का अनुमान (GDP Growth Forecast) घटाकर 9 फीसदी कर दिया है.

IMF ने मौजूद वित्त वर्ष 2021-22 के लिए भारत की जीडीपी ग्रोथ दर का अनुमान (GDP Growth Forecast) घटाकर 9 फीसदी कर दिया है.

India's Economy Growth Forecast : IMF ने मौजूद वित्त वर्ष 2021-22 के लिए भारत की जीडीपी ग्रोथ दर का अनुमान (GDP Growth Forecast) घटाकर 9 फीसदी कर दिया है. इससे पहले IMF ने पिछले साल अक्टूबर में मौजूदा वित्त वर्ष में भारत की ग्रोथ रेट 9.5 फीसदी रहने का अनुमान लगाया था.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. India’s Economy Growth Forecast : इंटरनेशनल मॉनिटरी फंड (IMF) ने मौजूद वित्त वर्ष 2021-22 के लिए भारत की जीडीपी ग्रोथ दर का अनुमान (GDP Growth Forecast) घटाकर 9 फीसदी कर दिया है. इससे पहले IMF ने पिछले साल अक्टूबर में मौजूदा वित्त वर्ष में भारत की ग्रोथ रेट 9.5 फीसदी रहने का अनुमान लगाया था. वाशिंगटन स्थित मुख्यालय वाले इंटरनेशनल मॉनिटरी फंड ने अपने ताजा अनुमान में कहा कि अगले वित्त वर्ष 2022-23 में भारतीय अर्थव्यवस्था 7.1 प्रतिशत की दर से बढ़ेगी.

IMF का ताजा अनुमान मौजूदा वित्त वर्ष के लिए भारत सरकार के सेंट्रल स्टैटिस्टिक ऑर्गनाइजेशन (CSO) के 9.2 फीसदी और भारतीय रिजर्व बैंक के 9.5 फीसदी के अनुमान से कम है. इसके अलावा यह S&P के 9.5 फीसदी और मूडीज के 9.3 फीसदी के अनुमान से भी कम है. हालांकि, यह वर्ल्ड बैंक के 8.3 फीसदी और फिच के 8.4 फीसदी की ग्रोथ रेट के अनुमान से अधिक है.

ये भी पढ़ें – Zomato के शेयर पर एनालिस्ट की राय- अभी खरीद लो, दोगुना हो जाएगा शेयर!

निवेश और खपत की बढ़ोतरी जरूरी

IMF ने कहा कि 2023 के लिए भारतीय की ग्रोथ संभावनाएं इस पर निर्भर करेंगी कि लोन के साथ-साथ निवेश और खपत में कितनी बढ़ोतरी होती है. इस दौरान IMF ने साल 2022 के लिए ग्लोबल इकोनॉमी की ग्रोथ रेट अनुमान को घटाकर 4.4 फीसदी कर दिया.

ये भी पढ़ें – बड़ी ब्रोकरेज फर्म ने बढ़ाया इस मल्टीबैगर स्टॉक का टारगेट, दी Buy रेटिंग

IMF की चीफ इकोनॉमिस्ट गीता गोपीनाथ ने एक ब्लॉगपोस्ट में लिखा है कि महामारी के तीसरे साल में प्रवेश के साथ ग्लोबल रिकवरी कई तरह की चुनौतियों का सामना कर रही है. उन्होंने कहा कि ओमीक्रोन वेरिएंट के तेजी से फैलने के चलते कई देशों में आवाजाही पर अंकुश लगाए गए हैं, जिससे वर्कफोर्स का संकट पैदा हो गया है.

Tags: GDP, GDP growth, India's GDP

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर