कभी भी डूब सकती हैं पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था, IMF ने दी चेतावनी

पाकिस्तान की आर्थिक स्थिति लगातार नाजुक होती जा रही है. अगर जल्द सख्त कदम नहीं उठाए गए तो पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था को बर्बाद होने से कोई नहीं बचा पाएगा.

News18Hindi
Updated: July 10, 2019, 11:22 AM IST
कभी भी डूब सकती हैं पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था, IMF ने दी चेतावनी
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: July 10, 2019, 11:22 AM IST
पाकिस्तान की आर्थिक स्थिति लगातार नाजुक होती जा रही है. अगर जल्द सख्त कदम नहीं उठाए गए तो पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था को बर्बाद होने से कोई नहीं बचा पाएगा. IMF ने पाकिस्तान को चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर अर्थव्यवस्था को लेकर तुरंत कदम नहीं उठाए गए तो देश की आर्थिक स्थिति बेहद खराब हो जाएगा. ऐसे में आम लोगों पर महंगाई का बोझ कई गुना बढ़ जाएगा. आपको बता दें कि इमरान खान के प्रधानमंत्री बनने के बाद से पिछले 10 महीने में पाकिस्तानी रुपए में 30 फीसदी की गिरावट आई है. पिछले साल 18 अगस्त को पाकिस्तानी रुपया 123.35 पर था जो 26 मई, 2019 को 160 के पार चला गया. पाकिस्तान के इतिहास में इतनी छोटी अवधि में इतनी बड़ी गिरावट पहली बार हुई है.

आपको बता दें कि नकदी के संकट से जूझ रहे पाकिस्तान को आईएमएफ 6 अरब डॉलर यानी लगभग 41 हजार करोड़ रुपये का बेलआउट पैकेज देने पर राजी हो गया है.



ये भी पढ़ें-मोदी सरकार के कदमों का असर! स्विस बैंक में जमा ब्लैकमनी का सितंबर में हो जाएगा पूरा पर्दाफाश

पाकिस्तान में इन दिनों कुछ भी अच्छा नहीं हो रहा है. शेयर बाजार लगातार गिर रहा है.


IMF की चेतावनी- आईएमएफ एक्जीक्यूटिव बोर्ड के कार्यवाहक चेयरमैन डेविड लिप्टन के मुताबिक, बड़ी वित्तीय आवश्यकताओं, कमजोर और असंतुलित विकास की वजह से पाकिस्तान आर्थिक मोर्चे पर चुनौतियों का सामना कर रहा है.

इससे निपटने के लिए पाकिस्तानी प्रधानमंत्री को टैक्स के जरिए आदमनी बढ़ानी होगी.  आर्थिक असंतुलन को सही करने, मुद्रा भंडार बढ़ाने और महंगाई को नियंत्रित रखने के लिए सख्त मौद्रिक नीति की भी जरूरत होगी.

Pakistani Rupee Crash
पाकिस्तानी रुपये में भारी गिरावट जारी

Loading...

अगर मौजूदा समय में इनमें से कोई भी कदम नहीं उठाया तो पाकिस्तान की आर्थिक स्थिरता पर बड़ा खतरा है. ऐसे में उसे डूबने से बचाना बेहद मुश्किल हो जाएगा.

रुपये में आ सकती हैं और तेज़ गिरावट- पाकिस्तानी अर्थशास्त्रियों का मानना है कि रुपया इस साल के अंत तक 175 से 180 तक जा सकता है. मौजूदा हालात में रुपए की गिरावट थमने की उम्मीद नज़र नहीं आ रही है. भुगतान के लिए डॉलर की मांग बढ़ रही है और हमारे पास पर्याप्त डॉलर नहीं हैं. ऐसे में हमें डॉलर ख़रीदना पड़ेगा. जब हम डॉलर ख़रीदेंगे तो रुपए में गिरावट आएगी ही. इमरान ख़ान सरकार में आने से पहले रुपए में गिरावट को लेकर काफ़ी आक्रामक रहते थे. लेकिन अब खुद इमरान खान लाचार दिख रहे हैं.

कब मिलेगा पाकिस्तान को पैसा- पिछले सप्ताह IMF ने उसे 6 अरब डॉलर का कर्ज देने पर औपचारिक मंजूरी मिल गई है. इसमें से 1 अरब डॉलर यानी कि लगभग 6.9 हजार करोड़ रुपये की पहली किश्त जल्द ही पाकिस्तान तक पहुंच जाएगी. IMF की तरफ से पाकिस्तान को मिलने वाला यह 13वां बेलआउट पैकेज है.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...