Home /News /business /

IMF ने मोदी सरकार को ​दी खुशखबरी! अगले साल इतने फीसदी होगी भारतीय अर्थव्यवस्था की रफ्तार

IMF ने मोदी सरकार को ​दी खुशखबरी! अगले साल इतने फीसदी होगी भारतीय अर्थव्यवस्था की रफ्तार

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष

IMF ने अपने एक अनुमान में कहा है कि अगले वित्त वर्ष में भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy) की र​फ्तार बढ़कर 7 फीसदी तक पहुंच सकती है.

    नई दिल्ली. अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (International Monetary Fund) ने उम्मीद जतायी है कि अगले वित्त वर्ष तक भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy) की रफ्तार 7 फीसदी तक पहुंच सकती है. IMF का कहना है कि यह तेजी मौद्रि​क नीतियों (Monetary Policy) और कॉरपोरेट टैक्स (Corporate Tax) में कटौती की वजह से होगी. IMF के एशिया पैसिफिक डिपार्टमेंट के उप-निदेशक जॉनथन ऑस्ट्री ने कहा, 'हमें लगता है कि अगले वित्त वर्ष तक भारतीय अर्थव्यवस्था 6.1 फीसदी से बढ़कर 7 फीसदी तक पहुंच जाएगी. हमें लगता है कि मौद्रि​क नीति समेत सरकार के कई फैसलों का असर देखने को मिलेगा.'

    ऑस्ट्री ने कहा कि हाल ही में कॉरपोरेट टैक्स में कटौती, वित्तीय सेक्टर (Financial Sector) के संकट से निपटने और ग्रोथ सेक्टर (Growth Sector) से निपटने को लेकर सरकार द्वारा उठाए गए कदम की वजह से आने वाले दिनों में भारतीय अर्थव्यवस्था में सुधार देखने को मिलेंगे. पिछली कुछ तिमाही के दौरान भारत में आर्थिक सुस्ती को लेकर उन्होंने कहा कि यह हम सबके लिए सरप्राइज था. उन्होंने कहा कि सुस्ती के लिए कोई एक कारण जिम्मेदार नहीं है. इसमें कॉरपोरेट और नियामकीय वातावरण, गैर-बैंकिंग वित्तीय सेक्टर, ग्रामीण क्षेत्रों में कमजोरी की वजह से यह सुस्ती देखने को मिली.

    ये भी पढ़ें : मोदी सरकार ने किसानों को दिया दिवाली तोहफा! रबी फसल की MSP बढ़ाने को मंजूरी, फटाफट करें चेंक
    सेवा व्यापार की भी आवश्यकता
    क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक भागीदारी (RECP) के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि मुक्त व्यापार भागीदारी समझौते में सेवा क्षेत्र को शामिल करने के महत्व को रेखांकित किया गया है. इस समझौते के जल्दी ही निष्कर्ष पर पहुंचने की उम्मीद है. उन्होंने कहा कि दक्षिण एशिया में आर्थिक वृद्धि को सतत बनाए रखने के लिए एकीकरण जैसी चीजें जरूरी हैं. जॉनथन ऑस्ट्री ने कहा, ‘‘इसके लिए न केवल वस्तु व्यापार की जरूरत है बल्कि सबसे महत्वपूर्ण सेवा व्यापार की भी आवश्यकता है. यह भारत और दक्षिण एशियाई अर्थव्यवस्थाओं के लिए वृद्धि का मजबूत इंजन उपलब्ध करा सकता है.’’


    भारतीय सेवा क्षेत्र में तेजी
    आईएमएफ की रिपोर्ट के अनुसार भारत की सेवा क्षेत्र में सफलता उल्लेखनीय है. यह दुनिया की सूचना और संचार प्रौद्योगिकी सेवा निर्यात को साझा करता है जो एक दशक में तीन गुना हो गया है. जहां 2000 में यह 6.3 प्रतिशत था वह 2010 में 17.8 प्रतिशत हो गया. यह वैश्विक स्तर पर क्षेत्र के लिए सबसे बड़ी वृद्धि है.

    ये भी पढ़ें: किसान और आम आदमी के हित में मोदी सरकार ने लिए ये 5 बड़े फैसले

    Tags: Business news in hindi, India growth, Indian economy, International Monetary Fund

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर