लाइव टीवी

IMF ने दिया झटका, भारत का ग्रोथ रेट अनुमान घटाकर 6.1% किया, कमजोरी से निपटने का बताया उपाय

पीटीआई
Updated: October 15, 2019, 7:57 PM IST
IMF ने दिया झटका, भारत का ग्रोथ रेट अनुमान घटाकर 6.1% किया, कमजोरी से निपटने का बताया उपाय
IMF ने वर्ष 2019 के लिए भारत की आर्थिक वृद्धि दर के अनुमान को घटाकर 6.1 फीसदी कर दिया है, जो अप्रैल में जारी अनुमान की तुलना में 1.2 प्रतिशत कम है.

IMF ने वर्ष 2019 के लिए भारत की आर्थिक वृद्धि दर के अनुमान को घटाकर 6.1 फीसदी कर दिया है, जो अप्रैल में जारी अनुमान की तुलना में 1.2 प्रतिशत कम है.

  • Share this:
नई दिल्ली. इंटरनेशनल मॉनिटरी फंड (IMF) ने वर्ष 2019 के लिए भारत की आर्थिक वृद्धि दर के अनुमान को घटाकर 6.1 फीसदी कर दिया है, जो अप्रैल में जारी अनुमान की तुलना में 1.2 प्रतिशत कम है. IMF ने अप्रैल में भारत की आर्थिक वृद्धि दर (India's GDP growth projection) के 2019 में 7.3 फीसदी रहने का अनुमान व्‍यक्‍त किया था. हालांकि, तीन महीने बाद जुलाई में इसने भारत के लिए धीमी वृद्धि दर की संभावना जताई और जीडीपी वृद्धि दर को 7.3 फीसदी से घटाकर 7 फीसदी कर दिया था. IMF ने 2019 में वैश्विक आर्थिक वृद्धि दर का अनुमान घटाकर 3 प्रतिशत कर दिया है. पिछले साल यह 3.8 प्रतिशत थी.

भारत के FY20 ग्रोथ अनुमान में कटौती
आईएमएफ ने भारत के FY20 ग्रोथ अनुमान में भी कटौती की है, IMF ने FY20 ग्रोथ अनुमान में 0.90 फीसदी की कटौती की है. FY20 में ग्रोथ अनुमान 7 फीसदी से घटाकर 6.1 फीसदी किया. FY21 में ग्रोथ अनुमान 7.3 फीसदी से घटाकर 7 फीसदी किया.



कमजोरी से निपटने का बताया उपाय
IMF ने कहा भारत कमजोरी से निपटने के लिए MPC का सहारा ले, भारत बड़े स्ट्रक्चरल रिफॉर्म्स की भी मदद ले.

2018 में भारत की वास्‍तविक वृद्धि दर 6.8 प्रतिशत थी. आईएमएफ ने अपनी ताजा विश्‍व आर्थिक परिदृश्‍य में अनुमान जताया है कि भारत की वृद्धि दर 2019 में 6.1 प्रतिशत रहेगी और अगले साल 2020 में भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था में सुधार आने के साथ इसकी वृद्धि दर 7.0 रहेगी. ये भी पढ़ें: RBI ने इस वित्त वर्ष में नहीं छापा एक भी ₹2000 का नोट, RTI से खुलासा
Loading...



इससे पहले, रविवार को विश्व बैंक (World Bank) ने भी चालू वित्त वर्ष में भारत का ग्रोथ रेट (India's Growth Rate) अनुमान घटा दिया था. विश्व बैंक के मुताबिक, भारत की विकास दर 6 फीसदी रह सकती है. वहीं 2018-19 में देश की विकास दर 6.9 फीसदी थी.  साउथ एशिया इकोनॉमिक फोकस के लेटेस्ट एडिशन में विश्व बैंक ने कहा कि साल 2021 में भारत की विकास दर दोबारा 6.9 फीसदी रिकवर करने की उम्मीद है. वहीं साल 2022 में विकास दर 7.2 फीसदी रहने का अनुमान है.

आईएमएफ ने अपने बयान में कहा है कि अप्रैल 2019 विश्‍व आर्थिक अनुमान के संबंध में यह संशोधन किया गया है. घरेलू मांग के लिए उम्‍मीद से अधिक कमजोर परिदृश्‍य की वजह से वृद्धि दर के अनुमान में कटौती की गई है. हालांकि, मौद्रिक नीति के सरल होने, कॉरपोरेट इनकम टैक्‍स की दर में कटौती और ग्रामीण उपभोग को समर्थन देने के लिए सरकारी कार्यक्रमों से वृद्धि को समर्थन मिलेगा.

ये भी पढ़ें: पोस्ट ऑफिस ने शुरू की नई सर्विस, अब लाइन में लगे बिना घर पर बैठकर करें पैसों का लेन-देन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 15, 2019, 7:19 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...