SBI ग्राहकों के लिए जरूरी खबर! आपका भी है खाता तो 31 मई तक करें ये काम...

SBI ग्राहकों के लिए जरूरी खबर

SBI ग्राहकों के लिए जरूरी खबर

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (State Bank of India) ने अपने ग्राहकों को बड़ी राहत दी है. अब बैंक के ग्राहक डाक (By Post) या मेल (By Mail) के जरिए भी केवाईसी डाक्यूमेंट जमा करा सकते हैं. बैंक ने ट्वीट करके इस बारे में जानकारी दी है.

  • Share this:
नई दिल्ली: स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (State Bank of India) ने अपने ग्राहकों को बड़ी राहत दी है. देश के कई राज्यों में चल रहे लॉकडाउन और कोरोना संकट की वजह से ग्राहकों को केवाईसी कराने की सुविधा में राहत दी है. अब बैंक के ग्राहक डाक (By Post) या मेल (By Mail) के जरिए भी केवाईसी डाक्यूमेंट जमा करा सकते हैं. बैंक ने ट्वीट करके इस बारे में जानकारी दी है.

एसबीआई ने 30 अप्रैल 2021 को ही अपने सभी 17 स्थानीय प्रधान कार्यालयों (Local Head Offices) के मुख्य महाप्रबंधकों को इस बारे में एक कम्यूनिकेशन भेज दिया है. इसमें बताया गया है कि कोविड-19 संक्रमण के मामलों में एक बार फिर से तेज बढ़ोतरी हो रही है. इसी को देखते हुए शाखा में ग्राहक की प्रत्यक्ष उपस्थिति के बिना डाक या मेल के जरिए केवाईसी दस्तावेज अनुरोध स्वीकार करने की सलाह दी गई है.

यह भी पढ़ें: Petrol Price Today: तेल की कीमतों में राहत, गाड़ी की टंकी भरवाने से पहले चेक करें 2 मई के रेट्स!

31 मई तक जमा कराएं डॉक्यूमेंट्स
बैंक ने कहा है कि 31 मई तक केवाईसी दस्तावेजों को अपडेट नहीं किया है तो बैंक खातों को फ्रीज नहीं करेगा. बैंक ने आगे कहा कि केवाईसी अपडेशन के कारण सीआईएफ का आंशिक फ्रीज 31 मई 2021 तक नहीं किया जाएगा.



बैंक ने आगे कहा कि देशभर में फैली महामारी को देखते हुए हमने डाक या मेल के जरिए केवाईसी डाक्यूमेंट स्वीकारना शुरू कर दिया है तो अन्य बैंकों के ग्राहकों को भी उम्मीद जगी है कि दूसरे बैंक भी ये फैसला ले सकते हैं. इसके अलावा निजी क्षेत्र के बैंक तो एक कदम बढ़ कर ग्राहकों को सुविधा देते हैं. इसलिए, उनसे भी ऐसा ही किए जाने की उम्मीद है.



बैंक ने जारी किया टोल फ्री नंबर

बैंक द्वारा एक ट्रोल फ्री नंबर भी साझा किया गया है. इससके मुताबिक लोगों को अब बैंक के ब्रांच में जाने की आवश्यकता नहीं है. 1800 112 211 और 1800 425 3800 टोल फ्री नंबर पर फोन कर आप अपने बैंक संबंधित कामों को घर बैठे करा सकते हैं.

यह भी पढ़ें: यहां महज 50 रुपये जमा करके आप कमा सकते हैं 50 लाख, जानिए क्या है स्कीम?

इस तरह होता है केवाईसी का अपडेशन

आपको बता दें बैंक अपने ग्राहकों की रेटिंग उनके रिस्क के आधार पर करते हैं. बैंक के उच्च जोखिम वाले ग्राहकों को हर दो साल में कम से कम एक बार केवाईसी अपडेट कराना होता है जिन ग्राहकों का जोखिम मध्यम होता है, उन्हें हर आठ साल में एक बार केवाईसी अपडेट कराना होता है. जिन ग्राहकों का जोखिम एकदम कम या निम्न जोखिम होता है, उन्हें भी हर दस साल में एक बार केवाईसी अपडेट करना पड़ता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज