लाइव टीवी

GST चोरी रोकने के लिए सरकार का नया प्लान, 15 फरवरी से कारोबारियों को देनी होगी ये जानकारी

भाषा
Updated: February 9, 2020, 1:53 PM IST
GST चोरी रोकने के लिए सरकार का नया प्लान, 15 फरवरी से कारोबारियों को देनी होगी ये जानकारी
दस्तावेजों में जीएसटीआईएन की जानकारी देना अनिवार्य होगा

GSTIN पैन (PAN) आधारित 15 अंकों वाली विशिष्ट पहचान संख्या है और जीएसटी के तहत हर पंजीकृत निकाय को इसका आवंटन किया जाता है. आयातकों को सीमा शुल्क विभाग के पास एंट्री बिल जमा करना होता है जबकि निर्यातकों को शिपिंग बिल जमा करना होता है.

  • Share this:
नई दिल्ली. आयातकों (Imorters) और निर्यातकों (Exporters) को 15 फरवरी से दस्तावेजों में अनिवार्य तौर पर माल एवं सेवा कर (GST) पहचान संख्या (GSTIN) की जानकारी उपलब्ध करानी होगी. राजस्व विभाग (Revenue Department) जीएसटी से राजस्व संग्रह में हो रहे नुकसान को रोकने तथा कर चोरी पर लगाम लगाने की तैयारी कर रहा है. इसी के तहत केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर एवं सीमा शुल्क बोर्ड (CBIC) ने एक परिपत्र जारी किया है. सीबीआईसी ने कहा है कि कुछ ऐसे मामले संज्ञान में आये हैं, जिनमें निर्यातकों और आयातकों ने जीएसटीआईएन पंजीयन होने के बाद भी शिपिंग व एंट्री के बिल में जीएसटीआईएन की जानकारी नहीं दी.

क्या है GSTIN?
GSTIN पैन (PAN) आधारित 15 अंकों वाली विशिष्ट पहचान संख्या है और जीएसटी के तहत हर पंजीकृत निकाय को इसका आवंटन किया जाता है. आयातकों को सीमा शुल्क विभाग के पास एंट्री बिल जमा करना होता है जबकि निर्यातकों को शिपिंग बिल जमा करना होता है. ये भी पढ़ें: इन रूट्स पर दौड़ेगी टाटा, अडानी और Hyundai की ट्रेनें, जानिये कितना होगा किराया?



15 फरवरी से अनिवार्य होगा GSTIN
परिपत्र में कहा गया, जीएसटी के तहत पंजीकृत निर्यातकों और आयातकों को निर्यात/आयात दस्तावेजों में 15 फरवरी, 2020 से अनिवार्य तौर पर जीएसटीआईएन की जानकारी देनी होगी. एएमआरजी एंड एसोसिएट्स में पार्टनर रजत मोहन ने कहा, निर्यातकों और आयातकों द्वारा अनिवार्य तौर पर जीएसटीआईएन मुहैया कराने से आंकड़ों के विश्लेषण विशेषकर अंतरराष्ट्रीय लेन-देन के मामलों में काम बढ़ेगा. इससे कर अधिकारी सीमा पर कम मूल्य दिखाकर कर चोरी करने वालों को गिरफ्तार कर सकेंगे. ये भी पढ़ें: बदलने वाला है इन 3 सरकारी बैंकों का नाम, अब ग्राहकों के लिए जरूरी है इन 5 कामों को निपटाना

ईवाई के कर भागीदार अभिषेक जैन ने कहा कि इससे जीएसटी के तहत राजस्व के नुकसान को रोकने तथा निर्यातकों और आयातकों के आंकड़ों का जीएसटी आंकड़ों के साथ मिलान किया जाना सुनिश्चित होगा.

ये भी पढ़ें: मोदी सरकार की मदद से ऐसे शुरू करें बिजनेस, 25 फीसदी सब्सिडी के साथ आसानी से ​मिलेगा 25 लाख तक का लोन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 9, 2020, 1:53 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर