देश में पहली बार हो रहा है कार्गो कंटेनर का निर्माण, खत्म होगी चीन पर निर्भरता

कार्गो कंटेनर

कार्गो कंटेनर

रिपोर्ट के मुताबिक, इस कदम का उद्देश्य लॉजिस्टिक सेक्टर में चीन और अन्य विदेशी कंपनियों पर देश की निर्भरता को खत्म करना है.

  • Share this:
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लगातार मेक इन इंडिया पर जोर दे रहे हैं और आत्मनिर्भर भारत (Atmanirbhar Bharat) बनाने का आह्वान कर रहे हैं. वहीं, भारत में पहली बार दो स्वदेशी हैवी इंजीनियरिंग कंपनियों के माध्यम से कार्गो कंटेनरों (Cargo Containers) का निर्माण किया जा रहा है.

Braithwaite और BHEL को मिले हैं ऑर्डर
इंडियन एक्सप्रेस में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक, इस कदम का उद्देश्य लॉजिस्टिक सेक्टर में चीन और अन्य विदेशी कंपनियों पर देश की निर्भरता को खत्म करना है. ब्रेथवेट (Braithwaite) और भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (BHEL) को कंटेनर कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (CONCOR) से ऑर्डर प्राप्त हुए हैं, जिसकी कंटेनर मूवमेंट मार्केट में 85 फीसदी हिस्सेदारी है. दोनों कंपनियों को एक-एक हजार कंटेनर बनाने हैं.

ये भी पढ़ें- Indian Railway: आज से दिल्ली सहित इन रेलवे स्टेशनों पर तीन गुने महंगे हुए टिकट, देखें कितने बढ़ गए रेट
कार्गो कंटेनर के क्षेत्र में वैश्विक लीडर है चीन


वर्तमान में भारत के पास अपने कार्गो कंटेनरों के निर्माण की कोई क्षमता नहीं है. वे सभी विदेशी कंपनियों मुख्य रूप से चीनी कंपनियों द्वारा निर्मित हैं. चीन कार्गो कंटेनर के क्षेत्र में वैश्विक लीडर है और भारत सहित दुनिया भर में कंटेनरों के निर्माण करते हैं. वे वैश्विक प्रतिस्पर्धा की तुलना में सस्ते हैं. अब भारत इस क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनना चाहता है.

ये भी पढ़ें- EPFO ने लॉन्च की नई इलेक्ट्रॉनिक सुविधा, इन कर्मचारियों को होगा फायदा, ऐसे कराएं रजिस्ट्रेशन

ब्रेथवेट के चेयरमैन और एमडी यतीश कुमार ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया, ''चीन में कंटेनर मैन्युफैक्चरर और स्टील निर्माताओं को इंटीग्रेट किया गया है, जिससे उन्हें एक बड़ा लाभ मिलता है. यहां वह बात नहीं है. हमें बहुत सारे बैकवर्ड इंटीग्रेशन करने होंगे. हम एक-एक करके विकास कर रहे हैं. मार्च के अंत तक हम पहला प्रोटोटाइप प्रदान करने में सक्षम होंगे.''
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज