• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • कोरोना वायरस के बीच Parle-G ने रचा इतिहास, टूटा 82 साल का रिकॉर्ड, 8 दशकों में सबसे अच्छे रहे बीते 3 महीने

कोरोना वायरस के बीच Parle-G ने रचा इतिहास, टूटा 82 साल का रिकॉर्ड, 8 दशकों में सबसे अच्छे रहे बीते 3 महीने

कोरोनावायरस के बीच Parle-G ने रचा इतिहास, टूटा 82 साल का रेकॉर्ड खूब बढ़ी सेल

कोरोनावायरस के बीच Parle-G ने रचा इतिहास, टूटा 82 साल का रेकॉर्ड खूब बढ़ी सेल

लॉकडाउन के बीच जहां कई बड़ी कंपनियां नुकसान झेल रही थीं. वहीं बिस्कुट बनाने वाली कंपनी पारले ने एक नया रिकॉर्ड बना लिया है. पारले-जी बिस्कुट (Parle-G biscuit) की इतनी अधिक बिक्री (sales during coronavirus lockdown) हुई है कि पिछले 82 सालों का रिकॉर्ड टूट गया है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. लॉकडाउन के बीच जहां कई बड़ी कंपनियां नुकसान झेल रही थीं. वहीं बिस्कुट बनाने वाली कंपनी पारले ने एक नया रिकॉर्ड बना लिया है. पारले-जी बिस्कुट (Parle-G biscuit) की इतनी अधिक बिक्री (sales during coronavirus lockdown) हुई है कि पिछले 82 सालों का रिकॉर्ड टूट गया है. महज 5 रुपये में मिलने वाला पारले-जी बिस्कुट का पैकेट सैकड़ों किलोमीटर पैदल चलने वाले प्रवासियों मजदूरों के लिए मददगार साबित हुआ. किसी ने खुद खरीद कर खाया, तो किसी को दूसरों ने मदद के तौर पर बिस्कुट बांटे. यूं तो पारले-जी 1938 से ही लोगों के बीच एक फेवरेट ब्रांड रहा है. मगर लॉकडाउन के बीच इसने अब तक के इतिहास में सबसे अधिक बिस्कुट बेचने का रिकॉर्ड बनाया है. हालांकि, पारले कंपनी ने सेल्स नंबर तो नहीं बताए, लेकिन ये जरूर कहा कि मार्च, अप्रैल और मई पिछले 8 दशकों में उसके सबसे अच्छे महीने रहे हैं.

    ET की खबर के अनुसार पारले प्रोडक्ट्स के कैटेगरी हेड मयंक शाह ने बताया कि कंपनी का कुल मार्केट शेयर करीब 5 फीसदी बढ़ा है और इसमें से 80-90 फीसदी ग्रोथ पारले-जी की सेल से हुई है. पारले प्रोडक्ट्स ने अपने सबसे अच्छे बिकने वाले, लेकिन कम कीमत वाले ब्रांड पारले-जी पर फोकस किया, क्योंकि ग्राहकों की ओर से इसकी खूब डिमांड आ रही थी.

    ये भी पढ़ें:- केंद्र सरकार ने अपने कर्मचारियों के लिए जारी की नए दिशा-निर्देश, जानिए नियम

    इस वजह से बढ़ी सेल
    कुछ ऑर्गेनाइज्ड बिस्कुट निर्माताओं जैसे पारले ने लॉकडाउन के कुछ ही समय बाद ऑपरेशन शुरू कर दिए थे. इनमें से कुछ कंपनियों ने तो अपने कर्मचारियों के आने-जाने तक की व्यवस्था कर दी थी, ताकि वह आसानी से और सुरक्षित तरीके से काम पर आ सकें. जब फैक्ट्रियां शुरू हुईं, तो इन कंपनियों का फोकस उन प्रोडक्ट्स का उत्पादन करना था, जिनकी अधिक सेल होती है.

    ये बिस्कुट भी खूब बिके
    पिछले तीन महीनों में लॉकडाउन के दौरान बाकी कंपनियों के बिस्कुट भी खूब बिके. विशेषज्ञों के अनुसार ब्रिटानिया का गुड डे, टाइगर, मिल्क बिकिस, बार्बर्न और मैरी बिस्कुट के अलावा पारले का क्रैकजैक, मोनैको, हाइड एंड सीक भी खूब बिके.

    ये भी पढ़ें:- अब केबल TV के जरिए मिलेगा इंटरनेट, गाइडलाइन तैयार जल्द मिल सकती है मंजूरी

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन