वित्त मंत्री ने आत्मनिर्भर पैकेज 1 और 2 की पेश की प्रोग्रेस रिपोर्ट, कहां - मजदूरों और किसानों मिला बड़ा फायदा

वित्त मंत्री ने आत्मनिर्भर पैकेज 1 और 2 की पेश की प्रोग्रेस रिपोर्ट
वित्त मंत्री ने आत्मनिर्भर पैकेज 1 और 2 की पेश की प्रोग्रेस रिपोर्ट

आज की प्रेस कॉफ्रेंस में वित्त मंत्री ने सबसे पहले आत्मर्निभर भारत (Atmnirbhar Bharat) योजना के तहत किये गये ऐलान के प्रोग्रेस के बारे में जानकारी दी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 12, 2020, 7:18 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली: कोरोना संकट में बिगड़ी अर्थव्यवस्था को सुधारने के लिए सरकार आज एक और राहत पैकेज का ऐलान कर रही है. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि हाल के आंकड़े अर्थव्यवस्था में सुधार के संकेत दे रहे हैं. आने वाले समय में इकोनॉमी में तेजी से रिकवरी होगी. सरकार ने आत्मनिर्भर भारत 3.0 का ऐलान कर दिया है. आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना की शुरुआत की गई है ताकि नये रोजगार का सृजन हो सके.

पहले पैकेज का दिख रहा असर
आज की प्रेस कॉफ्रेंस में वित्त मंत्री ने सबसे पहले आत्मर्निभर भारत (Atmnirbhar Bharat) योजना के तहत किये गये ऐलान के प्रोग्रेस के बारे में जानकारी दी. उन्होंने बताया कि शेयर बाजार में लगातार तेजी देखने को मिल रही है. बैंकों के क्रेडिट ग्रोथ में 5.1 फीसदी की तेजी देखने को मिली है. अर्थव्यवस्था को लेकर RBI का अनुमान भी तीसरी तिमाही के लिए पॉजिटिव है.

आत्मनिर्भर पैकेज 2 में क्या किए थे ऐलान-
>> 12 अक्टूबर को घोषित त्यौहार अग्रिम योजना के तहत वितरित किए जा रहे SBI उत्सव कार्ड, 11 राज्यों ने पूंजीगत व्यय के लिए ब्याज मुक्त ऋण के रूप में 3,621 करोड़ रुपये मंजूर किए.


>> वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि 1,32,800 करोड़ रुपये 39.7 लाख करदाताओं के आयकर रिफंड के रूप में दिए गए हैं.
आत्मनिर्भर पैकेज 1 में क्या किए थे ऐलान->> आत्मनिर्भर पैकेज 1 में वित्त मंत्री ने एनबीएफसी/एचएफसी के लिए स्पेशल लिक्विडिटी स्कीम के तहत 7,227 करोड़ रुपए का ऐलान किया था.>> 28 राज्यों में 68.8 करोड़ लाभार्थियों को 'वन नेशन-वन राशन कार्ड' योजना का लाभ मिला है. इसका ऐलान सरकार ने पहले आत्मनिर्भर पैकेज में किया था.>> इमरजेंसी क्रेडिट लिक्विडिटी गारंटी योजना के तहत, 61 लाख उधारकर्ताओं को कुल 2.05 लाख करोड़ रुपये की राशि मंजूर की गई है, जिसमें से 1.52 लाख करोड़ रुपये का वितरण किया गया है. 17 राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों के डिस्कॉम को 1.18 लाख करोड़ रुपये मंजूर किए गए हैं.पीएम रोजगार योजना कोरोना संकट में वित्त मंत्री ने प्रधानमंत्री रोजगार योजना 31.03.2019 तक लागू की थी. इसने सभी क्षेत्रों को कवर किया था और 3 साल तक यह योजना चलने की उम्मीद है इसलिए अगर कोई 31.03.2019 को इस योजना में शामिल हो गया, तो वे उस मौजूदा योजना के तहत तीन साल के लिए कवर किए जाएंगे.

आत्मनिर्भर पैकेज का इन लोगों को मिला फायदा
वित्त मंत्री ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत के तहत उठाये गये कदमों से ​मजदूरों को काफी फायदा हुआ है. इसी तरह किसानों को राहत देने के प्रयासों का भी अच्छा नतीजा आया है. उन्होंने कहा कि आत्मनिर्भर भारत के तहत ईसीएलजीस स्कीम के तहत 61 लाख लोगों ने लाभा उठाया है. इसमें 1.52 लाख करोड़ रुपये वितरित किये जा चुके हैं और 2.05 लाख करोड़ रुपये के कर्ज की मंजूरी दी गई है. उन्होंने कहा कि इनकम टैक्स विभाग ने सक्रियता और तेजी दिखाते हुए 1.32 लाख करोड़ रुपये का रिफंड दिया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज