बजट में इनकम टैक्स से नहीं मिलेगी राहत! ये है सबसे बड़ी वजह

बजट में इनकम टैक्स से नहीं मिलेगी राहत! ये है सबसे बड़ी वजह
टैक्स कलेक्शन के टार्गेट से चूक सकती है सरकार

अर्थव्यवस्था में सुस्ती के बीच, चालू वित्त वर्ष के दौरान टैक्स कलेक्शन लक्ष्य से कम रहा सकता है. पूर्व वित्त सचिव एस सी गर्ग के मुताबिक, इस साल कुल 2.5 लाख करोड़ रुपये से टैक्स कलेक्शन चूक सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 27, 2020, 1:14 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. आर्थिक सुस्ती (Economic Slowdown) के बीच चालू वित्त वर्ष में टैक्स कलेक्शन (Tax Collection) में 2 लाख करोड़ रुपये कम रह सकती है. इस वजह से अब आम लोगों को आगामी बजट में इनकम टैक्स (Income Tax) में कोई राहत मिलने के आसार नहीं दिखाई दे रहे हैं. सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक, वित्त वर्ष 2020 में इनकम टैक्स और कॉरपोरेट टैक्स कलेक्शन (Corporate Tax Collection) का टार्गेट नहीं पूरा हो सकेगा. ये दोनों टैक्स कलेक्शन टार्गेट से करीब 1.5 लाख करोड़ रुपये कम रहने का अनुमान है. वहीं, इनडायरेक्ट टैक्स कलेक्शन का टार्गेट करीब 50 हजार करोड़ रुपये से चूक सकता है.

आम आदमी को लग सकता है झटका
पिछले साल सितंबर महीने में ​वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (FM Nirmala Sitharaman) द्वारा कॉरपोरेट टैक्स में कटौती की वजह से आम लोगों से लेकर विशेषज्ञों को उम्मीद थी कि बजट में उन्हें इनकम टैक्स के मोर्चे पर राहत मिल सकती है. लेकिन, अनुमान के हिसाब से टैक्स कलेक्शन नहीं पूरा होने की वजह से आम आदमी को झटका लग सकता है. बता दें कि सिंतबर 2019 में केंद्र सरकार द्वारा कॉरपोरेट टैक्स में कटौती करने की वजह से केंद्र सरकार के खजाने पर करीब 1.45 लाख करोड़ रुपये का बोझ पड़ा था.





यह भी पढ़ें:कार में पेट्रोल डालने के बाद पंप कर्मचारी नहीं मांगेगे पैसे! जानिए पूरा मामला



​आर्थिक सुधार के लिए सरकार ने उठाए कई कदम
इस दौरान मौजूदा कंपनियों के लिए बेस कॉरपोरेट टैक्स को 30 फीसदी से घटाकर 22 फीसदी कर दिया गया था. वहीं, 1 अक्टूबर 2019 के बाद मैन्युफैक्चरिंग फर्म्स के लिए इसे 25 फीसदी से घटाकर 15 फीसदी कर दिया गया था. इसके अलावा भी सरकार ने अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर भी सुधार के लिए कई कदम उठाया.

 

इनडायरेक्ट टैक्स कलेक्शन का लक्ष्य भी नहीं होगा पूरा
केवल डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन ही नहीं, बल्कि इनडायरेक्ट टैक्स कलेक्शन के मोर्चे पर भी सरकार के सामने परेशानियां खड़ी हैं. यह भी लक्ष्य से 50 हजार करोड़ रुपये कम रह सकता है. पूर्व वित्त सचिव एस सी गर्ग समेत कई अन्य जानकारों का कहना है कि चालू वित्त वर्ष में टैक्स कलेक्शन 2—2.5 लाख करोड़ रुपये कम रह सकता है.

यह भी पढ़ें: इनकम टैक्स के मोर्चे पर ये 5 राहत दे सकती है सरकार, जानिए कैसे होगा आपको फायदा



कुल जीडीपी का 1.2 फीसदी टैक्स कलेक्शन रह सकता है कम
गर्ग ने अपने ब्लॉग में लिखा, 'कुल मिलाकर इस साल ग्रॉस टैक्स कलेक्शन में 3.5-3.75 लाख करोड़ रुपये की कमी देखने को मिल सकती है. इस बात की उम्मीद है कि केंद्र सरकार राज्यों को दिए जाने वाले केंद्रीय टैक्स को रिवाइज कर सकती है. फिलहाल, इसमें 32 फीसदी की कमी है. केंद्र के लिए कुल टैक्स करीब 2.5 लाख करोड़ रुपये कम रह सकता है, जोकि जीडीपी का करीब 1.2 फीसदी है.'

यह भी पढ़ें: ऑनलाइन ट्रेन टिकट बुक करने वाले रहें सावधान! IRCTC ने जारी किया अलर्ट
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading