• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • INCOME TAX DEPARTMENT DETECTS RS 200 CRORE EVASION AFTER RAIDS IN ASSAM NODVKJ

असम में इनकम टैक्स विभाग की बड़ी कार्रवाई, 200 करोड़ रुपये की टैक्स चोरी का खुलासा

सांकेतिक तस्वीर

इनकम टैक्स विभाग की कार्रवाई के दौरान 42 लाख रुपये नकद भी बरामद किए गए. विभाग के अनुसार तीनों खर्चों को बढ़ा-चढ़ाकर दिखा रहे थे.

  • Share this:
    नई दिल्ली. इनकम टैक्स विभाग (Income Tax Department) ने असम की तीन प्रमुख यूनिट्स के परिसरों पर छापे मारकर 200 करोड़ रुपये से अधिक की टैक्स चोरी का पता लगाया है. ये तीनों यूनिट्स निर्माण और चाय बगान के कारोबार से जुड़ी हैं. सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेज (Central Board of Direct Taxes) ने बुधवार को इस बारे में बताया.

    जांच और तलाशी अभियान 29 जनवरी को गुवाहाटी, तेजपुर, नलबाड़ी (असम), दिल्ली, गुरूग्राम और पचिम बंगाल में कोलकाता, सिलीगुड़ी तथा अलीपुरद्वार के 20 ठिकानों पर चलाए गए थे. सीबीडीटी प्रवक्ता ने एक बयान में कहा, ''इन मामलों में कुल टैक्स चोरी 200 करोड़ रुपये की है. 9 बैंक लॉकर पाए गए हैं, उसे अभी देखना है.''

    ये भी पढ़ें- फ्रैंकलिन टेंपलटन के यूनिटहोल्‍डर्स के लिए अच्‍छी खबर, सुप्रीम कोर्ट ने 20 दिन में पैसे वापस करने का दिया आदेश, जानें पूरा मामला

    42 लाख रुपये नकद भी बरामद
    कार्रवाई के दौरान 42 लाख रुपये नकद भी बरामद किए गए. विभाग के अनुसार तीनों खर्चों को बढ़ा-चढ़ाकर दिखा रहे थे. इन यूनिट्स ने खर्च-बढ़ाचढ़ाकर दिखाकर कई साल तक अपने लाभ को कम करके दिखाया और उसे फिर शेयर प्रीमियम, शेयर पूंजी और असुरक्षित कर्ज के रूप में उसी कारोबार में लगाया.

    टैक्स अधिकारियों ने हाथ से लिखे कुछ कागज बरामद किए हैं जिससे यह पता चलता है कि 87 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं लेकिन ये खर्च कहां किए गए, इसकी जानकारी नहीं दी गई.

    ये भी पढ़ें- Paytm यूजर्स को झटका! अब क्रेडिट कार्ड से वॉलेट में पैसे ऐड करना हुआ और महंगा, जानें कितना लगेगा एक्‍सट्रा चार्ज

    इनकम टैक्स विभाग के मुताबिक, वित्तीय ब्योरा 12 करोड़ नकदी के साथ 32 करोड़ रुपये का लाभ दिखाता है. लेकिन इसका मिलान नियमित बही-खातों से नहीं हो रहा. आगे की जांच के लिए यूनिट्स के डिजिटल बैकअप सर्वर, कंप्यूटर और फोन लिए गए हैं. इससे वास्तविक स्थिति का पता चलेगा.
    Published by:vinoy jha
    First published: