लाइव टीवी

बड़ी राहत! इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने आईटीआर रिटर्न के नियमों में बदलाव से जुड़ा फैसला वापस लिया

News18Hindi
Updated: January 9, 2020, 8:48 PM IST
बड़ी राहत! इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने आईटीआर रिटर्न के नियमों में बदलाव से जुड़ा फैसला वापस लिया
इनकम टैक्स डिपार्टमेंट (Income tax department) ने तीन दिन के अंदर ही अपना फैसला वापस लिया.

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट (Tax Dept rolls back order) ने तमाम लोगों की शिकायतों और दिक्कतों के मद्देनजर ये फैसला टाल दिया है. अगर आसान शब्दों में कहें तो जॉइंट ओनरशिप में अगर सिंगर प्रॉपर्टी है तो भी आप ITR 1 और ITR 4 के जरिये रिटर्न फाइल कर सकेंगे

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 9, 2020, 8:48 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट (Income tax department) ने तीन दिन के अंदर ही अपना फैसला वापस लेते हुए टैक्स रिटर्न फाइल करने से जुड़े नियमों में बदलाव कर दिया है. आईटीआर (Income Tax Returns) के नए फॉर्म में मकान के जॉइंट ओनर को अलग फॉर्म भरना था. लेकिन अब इनकम टैक्स डिपार्टमेंट (Tax Dept rolls back order) ने तमाम लोगों की शिकायतों और दिक्कतों के मद्देनजर ये फैसला टाल दिया है. अगर आसान शब्दों में कहें तो जॉइंट ओनरशिप में अगर सिंगर प्रॉपर्टी है तो भी आप ITR 1 और ITR 4 के जरिये रिटर्न फाइल कर सकेंगे. इसके अलावा अब 1 लाख रुपये से ज्यादा बिजली बिल चुकाने वाले भी ITR1 और ITR 4 भर सकेंगे. विदेश दौरे पर 2 लाख रु से ज्यादा खर्च करने वाले भी ITR1 और ITR 4 भर सकेंगे. सरकार ने सभी बदलाव वापस लिए. आपको बता दें कि केंद्र सरकार ने आईटीआर फॉर्म को बीते दिनों अधिसूचित कर दिया था.

आईटीआर-1 के लिए एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया घटा दिया था- वित्त वर्ष 2019-20 का आईटीआर-1 फॉर्म को लेकर बड़ा बदलाव किया था. टैक्स डिपार्टमेंट ने पहले आदेश में कहा था कि ITR-1 फार्म वो लोग नहीं भर पाएंगे. जिनके पास घर का संयुक्त मालिकाना अधिकार होगा. पिछले साल घर का संयुक्त मालिकाना अधिकार रखने वाले लोग भी आईटीआर-1 फॉर्म भर सकते थे.

ये भी पढ़ें-पेट्रोल-डीजल की कीमतों को कम करने के लिए सरकार ने बनाया नया एक्शन प्लान!







टैक्स डिपार्टमेंट पहले ही कर चुके हैं ये बदलाव

(1) पासपोर्ट डीटेल्स
इस साल ITR-1 फॉर्म में पासपोर्ट नंबर (अगर आयकर दाता के पास उपलब्ध हो) भी भरना होगा. फॉर्म में यह नया नियम जोड़ा गया है. आईटीआर-1 फॉर्म को हालांकि वे नहीं भर सकते हैं, जिन्होंने विदेश यात्रा पर 2 लाख रुपये या उससे अधिक रकम खर्च किए हों.

(2) कंपनी का TAN नंबर
अब आईटीआर-1 फॉर्म में आपसे आपके नियोक्ता के बारे में विस्तृत जानकारियां मांगी जाएंगी. हालांकि, पिछले साल आईटीआर-1 में ड्रॉप डाउन मेन्यू से केवल नेचर ऑफ एंप्लॉयमेंट जैसे गवर्नमेंट, पीएसयू, पेंशनर्स, अन्य चुनना पड़ता था.

अगर आपका नियोक्ता टैक्स (टीडीएस) काटता है तो इस साल से आईटीआर-1 भरने के दौरान आपको टैक्स डिडक्शन अकाउंट नंबर (TAN) देना अनिवार्य होगा. अन्य विवरणों में नाम, नेचर ऑफ एंप्लॉयमेंट तथा एंप्लॉयर का अड्रेस देना होगा.

(3) किरायेदार का पैन या आधार नंबर- अगर आपने अपनी किसी संपत्ति को किराये पर लगाया है तो आपको अपने किरायेदार का पैन या आधार नंबर देना होगा, अगर उपलब्ध हो तो.

(4) अपने घर का पूरा अड्रेस- अब आईटीआर-1 फॉर्म में आपको अपने घर का पूरा पता देना होगा.

(5) अनरियलाइज्ड रेंट का डीटेल्स-अनरियलाइज्ड रेंट यानी हाउजिंग प्रॉपर्टी से मिलने वाली उस रकम का डीटेल्स भी देना होगा, जो किसी कारण मकान मालिक को नहीं मिल पाया है.

ये भी पढ़ें-LIC की जीवन प्रगति स्कीम, रोजाना 200 रुपये खर्च कर इतने साल में मिलेंगे 28 लाख

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 9, 2020, 8:20 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading