• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • 1705 कंपनियों पर IT विभाग की कार्रवाई, लिमिट से ज्यादा कैश ट्रांजैक्शन पर वसूले 45 करोड़ रु

1705 कंपनियों पर IT विभाग की कार्रवाई, लिमिट से ज्यादा कैश ट्रांजैक्शन पर वसूले 45 करोड़ रु

नोटबंदी के बाद सरकार ने 2 लाख या 2 लाख रुपये से ज्यादा के नकद लेनदेन पर पाबंदी लगा दी थी.

  • Share this:
    देश की 1705 कंपनियों के खिलाफ तय सीमा से ज्यादा कैश लेनदेन करने के आरोप में कार्रवाई हुई है. इनकम टैक्स (Income Tax) डिपार्टमेंट ने कई बड़े अस्पतालों और लग्जरी ब्रांड्स से पेनाल्टी की भी वसूली है. (ये भी पढ़ें: PM किसान सम्मान योजना: इन लोगों से 2000 रुपये वापस लेगी सरकार, मोदी सरकार ने दिए निर्देश)

    नोटबंदी के बाद सरकार ने इनकम टैक्स की जिस धारा में बदलाव करके 2 लाख रुपये या 2 लाख रुपये से ज्यादा के कैश के लेनदेन पर पाबंदी लगाई थी. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने उसी धारा के उल्लंघन के दोषी पाए जाने पर कई सारे अस्पतालों और लग्जरी ब्रांड्स के ऊपर कार्रवाई करते हुए उतनी ही यानी 100 फीसदी रकम जुर्माने के तौर पर वसूली की है.

    इस कानून के तहत यह पहली कार्रवाई है. कुल 1705 कंपनियां इसके लपेटे में आईं थी जिन्होंने नोटबंदी के बाद 2 लाख या 2 लाख रुपये से ज्यादा की रकम कैश में लेनदेन की थी. दरअसल, इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की धारा 269ST के तहत ये बिल्कुल कानून अपराध है. कोई भी व्यक्ति 2 लाख या 2 लाख रुपये ज्यादा की रकम कैश में लेनदेन नहीं करे. लेकिन इन सभी कंपनियों और अस्पतालों इसका उल्लंघन किया था और इसी के तहत इन पर कार्रवाई हुई.

    ये भी पढ़ें: ग्रेच्युटी की सीमा बढ़कर 20 लाख हुई, जेटली ने कहा- इन कर्मचारियों को होगा फायदा

    इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने इनसे करीब 45 करोड़ रुपये की रकम भी वसूली है क्योंकि जितनी लेनदेन की गई थी उसका 100 फीसदी पेनाल्टी है.

    ये भी पढ़ें: अब आधार दिए बिना भी कर सकते हैं ये तीन काम, जानें यहां!

    ये भी पढ़ें: PNB ने शुरू की खास फिक्सड डिपॉजिट स्कीम, जानें क्या है 111/222/333 दिन का प्लान!

    (आलोक प्रियदर्शी, संवाददाता- CNBC आवाज़)

    एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज