लाइव टीवी

इनकम टैक्स विभाग टैक्सपेयर्स के PAN सेबी के साथ करेगा साझा, जानें क्या है मामला?

भाषा
Updated: February 12, 2020, 7:33 PM IST
इनकम टैक्स विभाग टैक्सपेयर्स के PAN सेबी के साथ करेगा साझा, जानें क्या है मामला?
अन्य आंकड़े सेबी के साथ करेगा साझा

आयकर विभाग (Income Tax Department) पैन (PAN) समेत करदाताओं (Taxpayers) से जुड़ी तमाम सूचनायें बाजार नियामक सेबी (SEBI) के साथ साझा करेगा. इससे नियामक को शेयर बाजार में गड़बड़ी में शामिल इकाइयों के खिलाफ अपनी जांच में मदद मिलेगी.

  • Share this:
नई दिल्ली. आयकर विभाग (Income Tax Department) पैन (PAN) समेत करदाताओं (Taxpayers) से जुड़ी तमाम सूचनायें बाजार नियामक सेबी (SEBI) के साथ साझा करेगा. इससे नियामक को शेयर बाजार में गड़बड़ी में शामिल इकाइयों के खिलाफ अपनी जांच में मदद मिलेगी. एक आधिकारिक आदेश में यह कहा गया है. केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) ने आयकर कानून (Income Tax Act) की धारा 138 (1) के तहत इस संदर्भ में 10 फरवरी को आदेश जारी किया था.

भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) को सूचनाएं तीन श्रेणियों- अनुरोध करने पर, स्वत: संज्ञान और स्वत: आधार पर मिलेंगी. दोंनों संगठन इस निर्णय को लागू करने और आंकड़ों के आदान-प्रदान, गोपनीयता को बनाये रखने तथा आंकड़ों का संरक्षण तथा उपयोग के बाद उसे समाप्त करने के संदर्भ में जल्दी ही समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर कर सकते हैं. ये भी पढ़ें: यहां 15 फरवरी से मुफ्त में मिलेंगे FASTag, जानें कब तक है ऑफर!



सीबीडीटी ने कहा कि स्वत: संज्ञान के तहत शेयर बाजार में गड़बडरी से संबंधित नियमों के उल्लंघन से संबद्ध जांच वाले मामलों की सूची तथा सेबी के लिये जरूरी कोई अन्य सूचना उपलब्ध कराये जाएंगे. वहीं अनुरोध के आधार पर कर विभाग PAN (स्थायी खाता संख्या) सूचना साझा करेगा. इसमें PAN बनने के लिये आवेदन या उसके बनने की तारीख, पिता या पति का नाम, फोटोग्राफ आदि शामिल हैं. ये भी पढ़ें: 16 मार्च से बदल जाएंगे SBI, ICICI और HDFC बैंक के ATM से पैसे निकालने के नियम, यहां जानिए सबकुछ



इसके अलावा आयकर रिटर्न में उपलब्ध सूचना जैसे अपने ग्राहक को जानो (KYC), ई-मेल आईडी, मोबाइल नंबर, पता, आईपी एड्रेस, किसी कंपनी द्वारा भरे गये आईटीआर में उपलब्ध वित्तीय सूचना, कर आडिट रिपोर्ट आदि जैसी सूचनाएं भी साझा की जाएंगी. साथ ही कर विभाग इकाइयों द्वारा TDS (स्रोत पर कर कटौती) और टीसीएस (स्रोत पर कर संग्रह) से संबद्ध लेन-देन के बारे में दी गयी जानकारी तथा अन्य जरूरी सूचनाएं सेबी के साथ साझा करेगा.

आंकड़ों के स्वत: आदान-प्रदान व्यवस्था के तहत फार्म 61 (Form61) में उपलब्ध सूचना सेबी को दी जाएगी. फार्म 61 वह व्यक्ति भरता है जिसकी आय कृषि से है और उसे अन्य स्रोत से आय प्राप्त नहीं होती है जिस पर आयकर लगता है.ये भी पढ़ें: 14 करोड़ किसानों को अब 6000 रु वाली किसान सम्मान निधि के साथ लाखों के फायदे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 12, 2020, 7:33 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर