Home /News /business /

1 रुपये के भी टैक्स डिमांड की अनदेखी पड़ सकती है भारी, जानें कैसे करें सेटलमेंट

1 रुपये के भी टैक्स डिमांड की अनदेखी पड़ सकती है भारी, जानें कैसे करें सेटलमेंट

इनकम टैक्स की तरफ से 1 रुपए से लेकर 99 रुपए तक का नोटिस आता है. यह रकम छोटी भले ही है लेकिन आप इसकी अनदेखी नहीं कर सकते.

इनकम टैक्स की तरफ से 1 रुपए से लेकर 99 रुपए तक का नोटिस आता है. यह रकम छोटी भले ही है लेकिन आप इसकी अनदेखी नहीं कर सकते.

इनकम टैक्स की तरफ से 1 रुपए से लेकर 99 रुपए तक का नोटिस आता है. यह रकम छोटी भले ही है लेकिन आप इसकी अनदेखी नहीं कर सकते.

    वित्त वर्ष 2018-19 के लिए इनकम टैक्स रिटर्न (Income Tax Return) भरने की प्रक्रिया शुरू हो गई है. इनकम टैक्स (Income Tax) डिपार्टमेंट को जब यह लगता है कि आपने रिटर्न फाइल करने में कुछ फर्जीवाड़ा किया है या फिर असेसमेंट ITR में दिए इनकम डिक्लेयरेशन से अलग है तो टैक्स डिपार्टमेंट आपको नोटिस भेजता है. कई बार इनकम टैक्स की तरफ से 1 रुपये से लेकर 99 रुपये तक का नोटिस आता है. यह रकम छोटी भले ही है लेकिन आप इसकी अनदेखी नहीं कर सकते. आपको इनका सेटलमेंट करना जरूरी है. इनकम टैक्स की धारा 143 (1) के तहत 100 रुपये से कम के नोटिस को आप अपने रिफंड से भी एडजस्ट कर सकते हैं. यहां हम आपको तीन तरह के हालात के बारे में बता रहे हैं. (ये भी पढ़ें: अब बड़े शहर वालों को मिलेगा 7 लाख का ज्यादा हाउसिंग लोन, RBI ने बैंकों को दिया निर्देश)

    डिमांड नोटिस सही हो तो क्या करें
    इनकम टैक्स का नोटिस अगर सही है तो भी इनकम टैक्स डिपार्टमेंट को वैलिड प्रूफ के जरिए यह बताना होगा कि इसकी वजह क्या है. नोटिस में दी गई रकम के ऑनलाइन पेमेंट के बाद चालान नोटिफिकेशन नंबर, BSR कोड, पेमेंट की तारीख, चालान का सीरियल नंबर और अमाउंट की जानकारी विभाग को देनी होगी ताकि इसमें बदलाव हो सके. अगर आप टैक्स चुकाने के बाद ये जानकारियां शेयर नहीं करते तो आपके टैक्स का सेटलमेंट नहीं होगा. अगर अपीलीय कोर्ट के जरिए डिमांड आपके खाते से कट गया है लेकिन टैक्स विभाग के पास अपडेटेड आंकड़े नहीं है तो आपको ऑर्डर की तारीख के साथ अपीलीय अथॉरिटी की तरफ से पास ऑर्डर इनकम टैक्स विभाग को देना होगा.
    अगर आप रिवाइज्ड रिटर्न भरते हैं तो आपको ई-फाइलिंग एकनॉलेजमेंट नंबर, फाइलिंग टाइप, रिमार्क्स, TDS सर्टिफिकेट, चालान कॉपी, रेक्टिफिकेशन के लिए रीक्वेस्ट कॉपी और इनडेमिनिटी बॉन्ड की जानकारी देनी होगी जहां असेसिंग ऑफिसर रेक्टिफिकेशन करेगा. ये भी पढ़ें: सोना खरीदने वालों के पैसे 10 साल में हुए डबल! अब कहां मिलेगा फायदा



    अगर डिमांड से सहमत नहीं हैं आप
    ऐसे हालात में आपको यह साफ बताना होगा कि कितना अमाउंट सही है और कितना गलत. इसके साथ ही आपको वैलिड प्रूफ देना होगा. अगर आप डिमांड से पूरी तरह सहमत नहीं हैं तो आप डिस्एग्रीमेंट का विकल्प चुन सकते हैं लेकिन इसके साथ ही आपको वैलिड प्रूफ देना होगा. एकबात ध्यान रखें कि एकबार डिमांड मान लेने के बाद आप इसे खारिज नहीं कर सकते हैं.

    ऐसे चेक करें डिमांड नोटिस
    इनकम टैक्स की तरफ से आपको टैक्स नोटिस आया है और आपको मिला नहीं. अगर किसी वजह से मेल या पोस्ट नहीं मिल पाया तो आप खुद चेक कर सकते हैं कि आपको कितने का नोटिस आया है. ये भी पढ़ें: PF के साथ कटने वाली पेंशन का पैसा कब मिलता है! फटाफट जानिए



    सबसे पहले ई फाइलिंग पोर्टल पर जाएं. अपने पैनकार्ड के जरिए अकाउंट में लॉगइन करें. इसके बाद ई-फाइल पर क्लिक करे और Respond to Outstanding Tax Demand को चुनें. इसमें नोटिफिकेशन नंबर, डिमांड करने की तारीख, असेसमेंट ईयर, बकाया रकम या रिसिवेबल्स, रेक्टिफिकेशन राइट्स और रेसपॉन्स नजर आएगा. इन सूचनाओं को देखने के बाद आप अपना रेसपॉन्स सबमिट कर सकते हैं.

    ये भी पढ़ें: रेलवे ने 19 स्टेशनों पर बदला तत्काल टिकट बुकिंग का समय, फटाफट यहां करें चेक

    अगर टैक्स डिमांड 100 रुपये से कम है तो यह आपके अगले ITR फाइलिंग में एडजस्ट कर सकते हैं. लेकिन टैक्स डिमांड 100 रुपये से ज्यादा है तो नोटिस के 30 दिनों के भीतर आपको अपने सबमिशन के साथ जवाब देना होगा. इसलिए अगर आपके पास भी 1 रुपए से लेकर 99 रुपए तक का टैक्स नोटिस आता है तो उसकी अनदेखी ना करें बल्कि सेटलमेंट करें.

    ये भी पढ़ें: इन 6 तरह की इनकम पर नहीं लगता है एक भी रुपये का टैक्स, देखें पूरी लिस्ट

    एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

    Tags: Business news in hindi, Filing income tax return, Income tax, Income tax department, Income tax india, Income tax latest news, Income tax return, Taxpayer

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर