20 हजार से ज्यादा के कैश लेन-देन पर लगता है भारी जुर्माना, नियम नहीं जानने पर फंस सकते हैं आप

आपने किसी को 20 हजार रुपये से ज्यादा का कैश दिया तो आप पर भारी जुर्माना लग सकता है. आइए जानें इससे जुड़े सभी नियम...

News18Hindi
Updated: December 2, 2018, 7:31 AM IST
News18Hindi
Updated: December 2, 2018, 7:31 AM IST
अगर आप 20 हजार रुपये से ज्यादा का कैश में लेन-देन करते हैं तो आयकर विभाग आप पर भारी जुर्माना लगा सकता है. आयकर विभाग के सेक्शन 269SS, 269T के तहत अगर कोई 20 हजार रुपये से ज्यादा कैश में लोन देता है या फिर लेता है तो उस उतने ही अमाउंट का जुर्माना लगेगा. हालांकि, पिछले कुछ दिनों में आम आदमी के लिए इन नियमों में ढील दी गई है.

कैश लेन-देन पर नियम सख्त- आयकर विभाग टैक्स के नियमों को लेकर आम आदमी को समय-समय पर जागरूक करता रहता है. इसी के तहत विभाग ने साफ किया है कि आप घर खरीदने व बेचने के दौरान 20 हजार से ज्यादा का कैश में लेन-देन नहीं कर सकते. आयकर विभाग ने इस संबंध में एक एडवायजरी भी जारी की है. (ये भी पढ़ें-PAN कार्ड-ITR को लेकर है परेशानी, IT डिपार्टमेंट ने यहां लगाया है कैम्प)

अगर आप आयकर विभाग की तरफ से जारी नियमों का पालन नहीं करते हैं, तो आप पर कार्रवाई हो सकती है. दोषी पाए जाने पर आयकर विभाग आप पर इसके लिए पेनल्टी वसूल सकता है.

क्या है नियम- 20 हजार रुपये से ज्यादा का कैश लेने पर आयकर विभाग ने कई तरह के नियम बनाए हुए हैं. कैश में लोन लेना-देना, एडवांस देना, डिपॉजिट लेना-देना गैरकानूनी है. (ये भी पढ़ें-PAN बनवाने के नियमों में बड़ा बदलाव, अब जरूरी नहीं होगा पिता का नाम)

कितना लगेगा जुर्माना- मान लीजिए आपने किसी को 50 हजार रुपये कैश दिया तो आप पर 50 हजार रुपये का जुर्माना लगेगा. सेक्शन 269SS, 269T के तहत भारी जुर्माने का प्रावधान है.

नियमों में दी गई हैं कुछ ढील- बीते दिनों निखिल मजूमदार और पोपटलाल पटेल की याचिका पर सुनावई करते हुए ट्रिब्यूनल ने कहा कि भले ही 20 हजार रुपये से ज्यादा का कैश में लेन-देन हुआ है तो भी टैक्स नहीं लगेगा. दरअसल इस मामले में व्यक्ति ने अपने पिता और पत्नी को घर चलाने के लिए कैश में 20 हजार रुपये से ज्यादा दिए थे. कुछ इसी तरह के अन्य मामले में भी ट्रिब्यूनल ने फैसला याचिकाकर्ता के हक में सुनाया. अब मतलब साफ है कि कुछ ज्यादा क्लोज रिश्तों में 20 हजार रुपये से ज्यादा का कैश लेन-देन किया जा सकता है.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर