पत्‍नी को घर खर्च के लिए हर महीने ट्रांसफर करते हैं पैसे तो क्‍या उन्‍हें आएगा इनकम टैक्‍स नोटिस?

पत्‍नी पति के दिए पैसों को निवेश कर देती है तो दूसरी बार मिलने वाले मुनाफे पर इनकम टैक्‍स चुकाना होगा.
पत्‍नी पति के दिए पैसों को निवेश कर देती है तो दूसरी बार मिलने वाले मुनाफे पर इनकम टैक्‍स चुकाना होगा.

कोरोना संकट के बीच रोजमर्रा की जरूरतों का ज्‍यादातर सामान ऑनलाइन ही मंगाया (Online Shopping) जा रहा है. ऐसे में अगर आप हर महीने पत्‍नी के अकाउंट में पैसे ट्रांसफर (Money Transfer) करते हैं तो क्‍या उन्‍हें इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट से नोटिस (Income Tax Notice) आ सकता है?

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 4, 2020, 8:44 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. कोरोना संकट के बीच खरीदारी करते समय लोगों के पेमेंट करने के तरीकों में बदलाव आ गया है. अब ज्‍यादातर लोग संक्रमण से बचने के लिए डिजिटल पेमेंट (Digital Payment) को तरजीह दे रहे हैं. लोग रोजमर्रा की खरीदारी के लिए ऑनलाइन शॉपिंग प्‍लेटफॉर्म (Online Shopping) पर जा रहे हैं और डिजिटल पेमेंट कर रहे हैं. ऐसे में अगर आप हर महीने पत्‍नी के बैंक अकाउंट में घर खर्च के लिए पैसे ट्रांसफर कर रहे हैं तो सवाल उठता है कि क्‍या पत्‍नी को इनकम टैक्‍स नोटिस (Income Tax Notice) आ सकता है? या आप इस पैसे को गिफ्ट मनी (Gift Money) बताकर टैक्‍स डिडक्‍शन (Tax Deduction) का लाभ ले सकते हैं.

पति से मिले पैसे का किया निवेश तो लगेगा इनकम टैक्‍स
अगर आप घर खर्च के लिए हर महीने पैसे देते हैं या गिफ्ट के तौर पर रकम देते हैं तो पत्‍नी पर इनकम टैक्स (Income Tax) की जिम्मेदारी नहीं बनती है. ये दोनों ही तरह की रकम पति की इनकम के तौर पर ही मानी जाएंगी. पत्‍नी को इस पर कोई टैक्‍स नहीं चुकाना होगा. आसान शब्‍दों में समझें तो इस रकम के लिए पत्‍नी को आयकर विभाग का कोई नोटिस नहीं आएगा. लेकिन, अगर पत्‍नी इस पैसे को बार-बार कहीं निवेश करती है और उसे इससे इनकम होती है तो होने वाली आय पर टैक्‍स की देनदारी (Taxable Income) बनेगी. दूसरे शब्‍दों में समझें तो निवेश पर होने वाली आय की गणना साल-दर-साल आधार पर पत्‍नी की इनकम मानी जाएगी, जिस पर टैक्स चुकाना होगा.

ये भी पढ़ें- Karva Chauth 2020: सिर्फ 500 रु खर्च कर पत्नी का करवा चौथ बनाए स्पेशल, दें ये गिफ्ट
गिफ्ट में दिए गए पैसे पर नहीं मिलेगी किसी तरह की टैक्‍स छूट


इनकम टैक्‍स कानून के मुताबिक, अगर आप अपनी इनकम से अलग अपनी पत्‍नी को गिफ्ट के तौर पर पैसे देते हैं तो यह कानूनी रूप से गलत नहीं है. हालांकि, इस पर आपको किसी तरह का टैक्स छूट का लाभ नहीं मिलेगा. इनकम टैक्स कानून (Income Tax Act) के तहत आय से इतर अगर आप गिफ्ट के तौर पर पत्‍नी को पैसे देते हैं तो वह आपकी कमाई ही मानी जाएगी और उस पर टैक्‍स देनदारी भी आपकी ही बनेगी. दरअसल, स्पाउस रिलेटिव्स की कैटिगरी में कवर होते हैं. ऐसे में इस तरह के गिफ्ट ट्रांजैक्शन को लेकर कोई टैक्स नहीं लगता है.

ये भी पढ़ें- Karva Chauth: कोरोना का नहीं दिख रहा असर, इस साल 25 फीसदी ज्‍यादा कारोबार की है उम्‍मीद

निवेश के बाद भी नहीं है आईटीआर फाइल करने की जरूरत
अगर आप अपनी पत्‍नी के अकाउंट में हर महीने कुछ अमाउंट डालते हैं और वो पैसे को सिप (SIP) के जरिये म्यूचुअल फंड (MF) में निवेश कर रही हैं. उन्‍हें इस पैसे पर इनकम टैक्स रिटर्न फाइल (ITR File) करने की जरूरत नहीं है और न ही उन्हें कोई टैक्स देना होगा. इस पैसे के निवेश से होने वाली आमदनी पति की टैक्सेबल इनकम में जुड़ जाएगी. हालांकि, निवेश से हुई कमाई को दोबारा लगाकर होने वाली आमदनी पर पत्‍नी को इनकम टैक्स का भुगतान करना होगा. हालांकि, यहां ये ध्‍यान रखना होगा कि किसी भी तरह से आय होने पर आईटीआर फाइल करना बेहतर है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज