PM नरेंद्र मोदी ने कहा, टैक्‍स टेरेरिज्‍म से टैक्‍स ट्रांसपेरेंसी की ओर बढ़ चुका है देश

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि ईमानदार टैक्‍सपेयर्स को किसी तरह की दिक्‍कत नहीं होनी चाहिए.
पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि ईमानदार टैक्‍सपेयर्स को किसी तरह की दिक्‍कत नहीं होनी चाहिए.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने कहा कि सरकार टैक्‍स रूल्‍स और प्रोसेस में सुधार कर रही है. अब टैक्‍स एडमिनिस्‍ट्रेशन (Tax Administration) में टेक्नोलॉजी का इस्‍तेमाल बढ़ाया जा रहा है. इससे अब टैक्‍सपेयर्स को रिफंड (Tax Refund) के लिए कई-कई साल इंतजार नहीं करना पड़ता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 11, 2020, 10:25 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने अपनी सरकार के छह साल में किए गए टैक्स सुधारों (Tax Reforms) का जिक्र करते हुए कहा कि भारत टैक्स प्रशासन के मामले में दहशतगर्ती के माहौल से निकलकर अब पारदर्शी व्यवस्था की ओर बढ़ चुका है. उन्‍होंने टैक्स प्रशासन में आए सुधार पर कहा कि टैक्‍सपेयर्स को अब रिफंड (Tax Refund) पाने के लिए कई-कई साल इंतजार नहीं करना पड़ता है. इस दौरान उन्‍होंने कहा कि टैक्स कलेक्शन (Tax Collection) करते समय लोगों की सुविधा का ध्‍यान रखा जा रहा है. उन्‍हें किसी तरह की असुविधा नहीं होनी चाहिए.

रिफॉर्म, परफॉर्म और ट्रांसफॉर्म की अप्रोच के साथ बढ़ रहे आगे
पीएम मोदी ने कहा, 'पहले करदाताओं की सबसे बड़ी शिकायत रहती थी कि देश में टैक्स टेरेरिज्म का माहौल है, लेकिन अब स्थितियां बदल चुकी हैं. टैक्स टेरेेरिज्म से टैक्स ट्रांसपेरेंसी का बदलाव इसलिए आया है, क्योंकि अब सरकार रिफॉर्म, परफॉर्म और ट्रांसफॉर्म की अप्रोच के साथ बढ़ रही है. नियमों और प्रक्रियाओं में सुधार किया जा रहा है. इसके लिए टेक्‍नोलॉजी का सहारा लिया जा रहा है.' उन्‍होंने कहा कि पिछली सरकारों में टैक्स दहशतगर्दी की शिकायत आम बात थी. देश अब इसको पीछे छोड़ते हुए कर पारदर्शिता की ओर बढ़ा है. आजादी के बाद करदाता और टैक्स कलेक्शन करने वालों के बीच शोषक व शोषित के संबंधों को बदलने के लिए बहुत कुछ नहीं किया गया.

ये भी पढ़ें- FASTag की बड़ी सफलता! 1 साल में 2 करोड़ से ज्‍यादा व्‍हीकल्‍स में लगा स्‍टीकर, दर्ज हुई 400 फीसदी ग्रोथ
केंद्र सरकार की ओर से किए टैक्‍स सुधारों का किया जिक्र


वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये ओडिशा के कटक में आयकर अपीलीय न्यायाधिकरण (Income Tax Appellate Tribunal) के कार्यालय सह रिहायशी परिसर का उद्घाटन करते हुए पीएम मोदी ने कॉरपोरेट टैक्‍स में कटौती, व्यक्तिगत करदाताओं के लिये दरों को लेकर सरल ढांचा, फेसलेस अपील और तेजी से किए जा रहे रिफंड का जिक्र किया. उन्‍होंने कहा कि अब चीजें बदल रही हैं. उन्होंने विवाद से समाधान प्रणाली का जिक्र किया. उन्होंने कहा कि टैक्स प्रशासन में व्यापक बदलाव लाया गया है.

ये भी पढ़ें- हवाई यात्रियों के लिए खुशखबरी! एयरलाइंस को 70% क्षमता के साथ फ्लाइट्स ऑपरेट करने की मिली छूट

99.75 फीसदी टैक्‍स रिटर्न बिना संदेह के हो रहे स्‍वीकार
प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत उन गिने-चुने देशों में है, जहां टैक्सपेयर्स के अधिकारों और जिम्मेदारियों को संहिताबद्ध किया गया है. यह टैक्‍सपेयर्सऔर टैक्स ऑफिसर्स के बीच भरोसा व पारदर्शिता बहाली के लिए अहम कदम है. उन्होंने यह भी कहा कि संपत्ति सृजन करने वालों का सम्मान होना चाहिए. उनकी समस्याओं के समाधान से अर्थव्यवस्था की वृद्धि में मदद मिलेगी. उन्‍होंने कहा कि 99.75 फीसदी टैक्स रिटर्न को बिना किसी संदेह के स्वीकार किया जाना करदाताओं के बीच भरोसा बढ़ाने की दिशा में एक कदम है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज