Home /News /business /

IT Refund: इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने टैक्सपेयर्स को भेजे 1.59 लाख करोड़ रुपये, आपके खाते में आए या नहीं, ऐसे चेक करें

IT Refund: इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने टैक्सपेयर्स को भेजे 1.59 लाख करोड़ रुपये, आपके खाते में आए या नहीं, ऐसे चेक करें


सभी तरह के होम लोन के ब्‍याज पर 2 लाख रुपये और मूलधन पर 1.5 लाख की टैक्‍स छूट मिलती है.

सभी तरह के होम लोन के ब्‍याज पर 2 लाख रुपये और मूलधन पर 1.5 लाख की टैक्‍स छूट मिलती है.

Income Tax Refund: इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने चालू वित्त वर्ष में अब तक 1.59 लाख करोड़ रुपये का टैक्स रिफंड जारी किया है. इनकम टैक्स रिफंड अटकने के मामलों में एक बड़ा कारण बैंक अकाउंट के विवरण में गलती हो सकती है.

नई दिल्ली. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट (Income Tax Department) ने चालू वित्त वर्ष (2021-22) में 17 जनवरी, 2022 तक 1.74 करोड़ से ज्यादा टैक्सपेयर्स को 1,59,192 करोड़ रुपये से ज्यादा राशि रिफंड की है. यह आंकड़ा 1 अप्रैल 2021 से 17 जनवरी, 2022 के बीच हुए रिफंड का है. इसमें से पर्सनल इनकम टैक्स रिफंड 56,765 करोड़ रुपये था, जबकि कॉरपोरेट्स का टैक्स रिफंड 1,02,428 करोड़ रुपये था.

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने ट्वीट कर कहा, ”सीबीडीटी ने एक अप्रैल, 2021 से 17 जनवरी, 2022 के बीच 1.74 करोड़ से ज्यादा टैक्सपेयर्स को 1,59,192 करोड़ रुपये से अधिक की वापसी की है.  1,72,01,502 मामलों में 56,765 करोड़ रुपये का इनकम टैक्स रिफंड जारी किया गया है और 2,22,774 मामलों में 1,02,428 करोड़ रुपये का कॉर्पोरेट टैक्स रिफंड जारी किया गया है.”

गौरतलब है कि पिछले वित्त वर्ष 2020-21 में इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने 2.38 करोड़ टैक्सपेयर्स को 2.62 लाख करोड़ रुपये का टैक्स रिफंड जारी किया था. यह वित्त वर्ष 2019-20 में जारी 1.83 लाख करोड़ रुपये के रिफंड से 43.2 फीसदी ज्यादा था.

ये भी पढ़ें- LPG Booking: रसोई गैस सिलेंडर बुकिंग पर मिल रहा है बंपर कैशबैक, जानिए आपको कैसे मिलेगा फायदा

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की नई वेबसाइट से चेक करें रिफंड स्टेटस-

अगर आपका भी इनकम टैक्स रिफंड आना था तो आप ऑनलाइन इसका स्टेटस चेक कर सकते हैं. इनकम टैक्स ई फाइलिंग पोर्टल के जरिए या फिर एनएसडीएल की वेबसाइट के जरिए स्टेटस चेक किया जा सकता है.

>> सबसे पहले वेबसाइट www.incometax.gov.in पर जाना होगा.

>> यूजर आईडी और पासवर्ड डालें.

>> लॉग इन के बाद आपको ई-फाइलिंग का ऑप्शन दिखाई देगा.

>> अब आप इनकम टैक्स रिटर्न्स को सलेक्ट करें

>> इसके बाद में व्यू फाइल रिटर्न पर क्लिक करें.

>> अब आपके आईटीआर की डिटेल्स दिख जाएगी.

ये भी पढ़ें- टैक्‍सपेयर के लिए अच्‍छी खबर, अब वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग से होगा टैक्‍स संबंधी मामलों का निपटारा

रिफंड अटकने के ये हो सकते हैं कारण

इनकम टैक्स रिफंड अटकने के मामलों में एक बड़ा कारण बैंक अकाउंट के विवरण में गलती हो सकती है. अगर आपने फॉर्म भरते हुए अपने अकाउंट का विवरण गलत भरा है तो इस वजह से आपका इनकम टैक्स रिफंड अटक सकता है. ऐसी स्थिति में आपको इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की वेबसाइट पर अकाउंट का विवरण सही करना पडे़गा.

Tags: Income tax, IT refund

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर