Income Tax Return: नए साल में इन फॉर्म्स के जरिए भर सकेंगे आईटीआर, जानें सबकुछ

सुगम फॉर्म ऐसे टैक्सपेयर भरते हैं जो हिन्दू अविभाजित परिवार में रहते हैं

सुगम फॉर्म ऐसे टैक्सपेयर भरते हैं जो हिन्दू अविभाजित परिवार में रहते हैं

सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्स (CBDT) असेसमेंट ईयर 2021-22 के लिए नए आईटीआर फॉर्म्स (ITR Forms) जारी किए हैं. कोरोना वायरस महामारी को देखते हुए इन ITR Forms को कोई बड़ा बदलाव नहीं किया गया है.

  • Share this:
नई दिल्ली. सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्स (CBDT) ने असेसमेंट ईयर 2021-22 के लिए नए इनकम टैक्स रिटर्न फॉर्म (new income tax return forms) जारी कर किए हैं. वित्त मंत्रालय ने शुक्रवार को यह जानकारी आज दी.

वित्त मंत्रालय ने कहा कि CBDT ने ITR 1 यानी सहज फॉर्म से लेकर ITR फॉर्म 7 तक जारी तक दिया गया है. सीबीडीटी ने कहा कि कोरोना वायरस महामारी को देखते हुए इन ITR Forms को कोई बड़ा बदलाव नहीं किया गया है. CBDT ने कहा कि AY2021-22 के ITR Forms में केवल वही जरूरी बदलाव किए गए हैं जो इनकम टैक्स एक्ट 1961 (Income-tax Act, 1961) में हाल ही में हुए संशोधन के बाद जरूरी हो गए थे. इस साल इन फॉर्म्स में मामूली बदलाव किया गया है. इन नए आईटीआर फॉर्म्स पर टिप्पणी करते हुए Cleartax को फाउंडर अर्चित गप्ता ने कहा कि इस साल के ITR फॉर्म में बड़ा बदलाव नहीं है, जैसा कि पिछले साल के ITR फॉर्म में था. इस वजह से इस साल टैक्सपेयर्स को ITR फाइल करने में ज्यादा परेशानी नहीं होगी.

यह भी पढें : नौकरी की बात: वर्क फ्रॉम होम के चलते वेलनेस ऑफिसर या एम्प्लोयी एक्सपीरियंस एंड कम्युनिकेशन जैसी नई जॉब्स की डिमांड

टैक्सपेयर्स के इंवेस्टमेंट का उल्लेख करने के लिए डेडिकेटेड स्पेस
नए इनकम टैक्स रिटर्न फॉर्म सहज (ITR-1), ITR-2, ITR-3, ITR-4 सुगम, ITR फॉर्म 5, ITR-6, ITR-7 और ITR-V फॉर्म में टैक्सपेयर्स के इंवेस्टमेंट का उल्लेख करने के लिए डेडिकेटेड स्पेस दिया गया है. CBDT ने कहा कि आईटीआर सहज और आईटीर सुगम फॉर्म सबसे ज्यादा भरे जाने वाले ITR फॉर्म हैं, जिन्हें छोटे और मीडियम टैक्सपेयर भरते हैं.

यह भी पढें : Investment Strategy : नए साल की शुरुआत में निवेश का यह तरीका अपनाएंगे तो होंगे मालामाल, जानें सबकुछ

सालाना 50 लाख तक की आमदनी वाले टैक्सपेयर के लिए सहज फॉर्म



सहज फॉर्म सालाना 50 लाख तक की आमदनी वाले टैक्सपेयर भरते हैं, जिनके इनकम का सोर्स सैलरी, हाउस प्रोपर्टी या कोई दूसरा श्रोत है. इसी तरह सुगम फॉर्म ऐसे टैक्सपेयर भरते हैं जो हिन्दू अविभाजित परिवार में रहते हैं या LLPs को छोड़कर ऐसे मालिकान हक वाले फर्म के मालिक हैं और जिनका सालाना इनकम 50 लाख रुपए तक है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज