• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • अपना बिजनेस करने वालों को ITR में पहली बार देनी होंगी ये जरूरी जानकारियां!

अपना बिजनेस करने वालों को ITR में पहली बार देनी होंगी ये जरूरी जानकारियां!

नए आईटीआर फॉर्म-3 में 1 अप्रैल से 31 जुलाई 2020 तक किए गए निवेश की जानकारी मांगी गई है.

नए आईटीआर फॉर्म-3 में 1 अप्रैल से 31 जुलाई 2020 तक किए गए निवेश की जानकारी मांगी गई है.

आयकर विभाग (Income Tax Department) ने वित्त वर्ष 2020-21 के लिए इनकम टैक्स रिटर्न (आईटीआर) दाखिल करने के लिए फॉर्म जारी कर दिए हैं. इसके लिए आपके पास 30 नवंबर 2020 तक का समय है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. इनकम टैक्स विभाग (Income Tax Department) ने सूचना दी है कि AY 2020-21 के लिए आईटीआर फॉर्म 3 भी ई-फाइलिंग के लिए उपलब्ध हैं. इन्हें एक्सल या जावा में डाउनलोड किया जा सकता है. टैक्स एक्सपर्ट बताते हैं कि ITR फॉर्म 3 कारोबारियों के लिए होता है. इस बार फॉर्म में कई बदलाव किए गए है. आपको बता दें कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आकलन वर्ष 2020-21 के लिए इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) फाइल करने के लिए आखिरी तारीख 31 जुलाई 2020 से बढ़ाकर 30 नवंबर 2020 कर दी है.

    किसके लिए होता है आईटीआर फार्म 3-अपना कारोबार करने वालों और पेशेवर लोगों को  आईटीआर फार्म -3 (ITR-3) भरना होता है.

    ये भी पढ़ें:- August में 17 दिन बंद रहेंगे Bank, यहां चेक करें छुट्टियों की पूरी List

    इस बार देनी होंगी ये जरूरी जानकारियां- टैक्स एक्सपर्ट गौरी चड्ढा ने न्यूज 18 हिंदी को बताया कि अगर करदाता ने सालभर में 1 लाख से ज्‍यादा का बिजली बिल (Electricity Bill) चुकाया है तो उसे इसकी जानकारी आईटीआर फॉर्म-4 में देनी होगी. इसके अलावा अगर किसी व्‍यक्ति ने एक साल में विदेश यात्रा (Foreign Trip) पर 2 लाख रुपये से ज्‍यादा खर्च किए हैं तो इसका पूरा ब्‍योरा भी उपलब्‍ध कराना होगा. साथ ही करंट अकाउंट में 1 करोड़ से ज्‍यादा कैश डिपॉजिट (Deposit) है तो इसकी जानकारी भी इस फॉर्म में भरनी होगी. गौरी का कहना है कि अगर कोई सेक्शन 139(1) में रिटर्न भरने के लिए लाइबल नहीं है और इन तीनों चीजों में उन्होंने ट्रांजेक्शन की है तभी ये जानकारी देनी होंगी.

    गौरी बताती है कि नए आईटीआर फॉर्म-3 में 1 अप्रैल से 31 जुलाई 2020 तक किए गए निवेश की जानकारी मांगी गई है. यह शेड्यूल Delayed Investment या शेड्यूल DI में दिखाना होगा. इसमें करदाता को 1 अप्रैल से 31 जुलाई तक किए गए टैक्स बचत से जुड़े निवेश का ब्‍योरा देना होगा. इसके तहत करदाता को उन टैक्स सेविंग इंस्ट्रूमेंट्स या डोनेशन की पूरी जानकारी देनी होगी, जो उसने वित्त वर्ष 2019-20 के लिए 1 अप्रैल 2020 से 31 जुलाई 2020 के बीच किए हैं. दरअसल, सरकार ने कोरोना वायरस को नियंत्रण में रखने के लिए लगाए गए लॉकडाउन के मद्देनजर 31 जुलाई तक टैक्‍स सेविंग स्‍कीम में निवेश की छूट दी है.ITR-3 फॉर्म को इस लिंक के जरिए डाउनलोड कर सकते है. https://www.incometaxindiaefiling.gov.in/eFiling/Portal/StaticPDF/ITR_Notified_Forms/AY_2020-21/ITR-3_Notified_Form.pdf

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज