अगर नहीं फाइल कर पाए इनकम टैक्स रिटर्न तो न लें टेंशन, आपके पास हैं ये ऑप्शन

अगर नहीं फाइल कर पाए इनकम टैक्स रिटर्न तो न लें टेंशन, आपके पास हैं ये ऑप्शन
अगर नहीं कर पाए इनकम टैक्स रिटर्न फाइल तो न लें टेंशन, अब आपके पास हैं ये ऑप्शन

अगर आप 31 अगस्त तक इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) दाखिल नहीं कर पाए हैं, तो परेशान होने की जरूरत नहीं. एक्सपर्ट्स बताते हैं कि अभी भी ITR फाइल किया जा सकता है लेकिन जुर्माना भरना पड़ सकता है. आइए जानें डेडलाइन मिस करने के बाद क्या-क्या करना होगा...

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 1, 2018, 2:48 PM IST
  • Share this:
अगर आप 31 अगस्त तक इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) दाखिल नहीं कर पाए हैं तो परेशान होने की जरूरत नहीं है. एक्सपर्ट्स बताते हैं कि अभी भी ITR फाइल किया जा सकता है, लेकिन जुर्माना भरना पड़ सकता है. दरअसल इस साल देर से रिटर्न फाइल करने का नियम बदल गया है. फाइनेंस ऐक्ट, 2017 में हुए संशोधन के मुताबिक, अब देर से रिटर्न (बिलेटेड रिटर्न) फाइल करने पर जुर्माना भरना पड़ सकता है. आइए जानें अंतिम तारीख के बाद कैसे भरें इनकम टैक्स रिटर्न...

अब क्या करें- आप वित्त वर्ष 2017-18 का बिलेटेड रिटर्न संबंधित आंकलन वर्ष 2018-19 के आखिर यानी 31 मार्च, 2019 तक ही फाइल कर सकते हैं, लेकिन ध्यान रखें इसके लिए जुर्माना भरना पड़ सकता है.

कितना देना होगा जुर्माना- इनकम टैक्स कानून में केंद्र सरकार ने एक नया सेक्शन 234F जोड़ा है. इस सेक्शन के मुताबिक आखिरी तारीख के बाद इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने पर 10,000 रुपये तक का जुर्माना देना होगा. (ये भी पढ़ें-VIDEO: इनकम टैक्स के फ्रॉड SMS से लग सकता है लाखों का चूना, ऐसे रहें सेफ़



एक्सपर्ट्स के मुताबिक, फाइनेंस एक्ट 2017 में बदलाव के बाद अगर वित्त वर्ष 2017-18 का आईटीआर 31 अगस्त 2018 के बाद और 31 दिसंबर से पहले फाइल किया जाता है तो 5000 रुपये का जुर्माना चुकाना होगा.
एक जनवरी 2019 के बाद आईटीआर फाइल करने पर 10,000 रुपये जुर्माना देना पड़ेगा. अगर करदाता की कुल सालाना आय 5 लाख रुपये से कम है तो जुर्माना 1000 रुपये से कम रहेगा.  (ये भी पढ़ें-अब मोबाइल पर पूछे ITR से जुड़े सभी सवाल, नए यूज़र्स को मिलेंगी खास फैसिलिटी

कैसे भरें अब रिटर्न- तय तारीख के बाद रिटर्न फाइल करने की प्रक्रिया समय पर फाइल करने जैसी ही है. खास बात यह है कि रिटर्न फाइल करते वक्त जब फॉर्म सिलेक्ट करें तो 'रिटर्न फाइल अंडर 139(4)' चुनें. अगर आप वित्त वर्ष 2016-17 का बिलेटेड रिटर्न फाइल करना चाहते हैं तो भी आपको वित्त वर्ष 2017-18 के लिए अधिसूचित (नोटिफाइड) उचित आईटीआर ही भरना होगा, न कि पहले का

रिटर्न वेरिफिकेशन की डेडलाइन - इनकम टैक्स रिटर्न फाइल के बाद में इसे वेरिफाइ भी करना होता है. मौजूदा नियम के मुताबिक रिटर्न को फाइल करने के 120 दिनों के भीतर आईटीआर वेरिफाइ करना जरूरी है।.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading