Home /News /business /

Tax Saving Tips: माता-पिता की देखभाल करके भी बचा सकते हैं टैक्स, जानिए क्या है नियम

Tax Saving Tips: माता-पिता की देखभाल करके भी बचा सकते हैं टैक्स, जानिए क्या है नियम

आप अपनी टैक्स के दायरे में आनी वाली इनकम को माता-पिता को उपहार के रूप में दे सकते हैं और उनके नाम पर निवेश कर सकते हैं.

आप अपनी टैक्स के दायरे में आनी वाली इनकम को माता-पिता को उपहार के रूप में दे सकते हैं और उनके नाम पर निवेश कर सकते हैं.

वरिष्ठ नागरिकों के लिए मूल टैक्स छूट (tax exemption limit) की सीमा 3 लाख रुपये है, जबकि 80 वर्ष और उससे अधिक आयु के नागरिकों को 5 लाख रुपये तक की इनकम पर टैक्स के दायरे से बाहर आती है.

Income Tax Saving Tips: इनकम टैक्स जमा (income tax) करने के समय हम बचत योजनाओं में निवेश करके, सार्वजनिक भविष्य निधि (public provident fund-PPF), बीमा पॉलिसी (insurance), होम लोन (home loan) और किराए जैसी मदों के आधार पर छूट हासिल कर सकते हैं. टैक्स में बचत के तमाम तरीके हैं, जिन्हें अपनाकर आप टैक्स बचाने के साथ-साथ अपनी बचत और निवेश में भी इजाफा कर सकते हैं.

इनके अलावा कुछ अप्रत्यक्ष तरीके भी हैं, जिनकी मदद से आप टैक्स बचा सकते हैं. इनमें माता-पिता के नाम से कुछ बीमा योजना या बचत योजनाओं में निवेश किया जा सकता है.

यहां हम टैक्स बचाने के ऐसे तीन तरीकों पर चर्चा कर रहे हैं. बचत के ये तरीके उन लोगों के लिए मददगार हैं जिनके माता-पिता कर के दायरे से बाहर हैं या उनकी इनकम टैक्सेबल इनकम (taxable income) से कम है.

यह भी पढ़ें- इस मल्टीबैगर स्टॉक ने केवल एक साल में 1 लाख रुपये के बना दिए 15 लाख

माता-पिता को उपहार दें (gift to parents)
आप अपनी टैक्स के दायरे में आनी वाली इनकम को माता-पिता को उपहार के रूप में दे सकते हैं और उनके नाम पर निवेश कर सकते हैं. वरिष्ठ नागरिकों के लिए मूल टैक्स छूट (tax exemption limit) की सीमा 3 लाख रुपये है, जबकि 80 वर्ष और उससे अधिक आयु के नागरिकों को 5 लाख रुपये तक की इनकम पर टैक्स के दायरे से बाहर आती है.

इसके अलावा, बैंक या डाकघर में जमा राशि पर हासिल किए 50,000 रुपये तक का ब्याज वरिष्ठ नागरिकों के लिए कर से मुक्त है. यहां तक ​​कि अगर आपके माता-पिता की आय मूल छूट सीमा से अधिक है, तब भी आप उनके टैक्स स्लैब के अनुसार उनके नाम के निवेश करके टैक्स छूट का लाभ ले सकते हैं.

माता-पिता को अपने बच्चे से मिलने वाला नकद उपहार टैक्स फ्री होता है. और इस तरह के निवेश से अर्जित आय को टैक्सेबल इनकम में नहीं जोड़ा जाएगा.

यह भी पढ़ें- नहीं मिले हैं PM Kisan की 10वीं किस्त के पैसे! किसान ऐसे चेक कर सकते हैं स्टेटस

माता-पिता के लिए स्वास्थ्य बीमा (health insurance for parents)
अगर आपके माता-पिता के पास किसी तरह का हेल्थ इंश्योरेंस नहीं है तो आप उनके लिए कोई हेल्थ पॉलिसी खरीद सकते हैं. इनकम टैक्स के सेक्शन 80डी के तहत माता-पिता की उम्र 60 साल के अंदर होने पर हेल्थ इंश्योरेंस पर 25,000 रुपये का डिडक्शन क्लेम किया जा सकता है. अगर माता-पिता की उम्र 60 साल से ज्यादा है तो टैक्स छूट की सीमा 50,000 रुपये है. खास बात यह है कि टैक्स में यह छूट सेक्शन 80डी की 25,000 रुपये की सीमा से अलग है. सेक्शन 80डी के तहत आप खुद अपने परिवार के लिए हेल्थ इंश्योरेंस पर टैक्स छूट का फायदा ले सकते हैं.

माता-पिता को किराया देकर (Claim HRA on rent)
आप वेतनभोगी कर्मचारी हैं तो अपने माता-पिता को किराये का भुगतान कर टैक्स बचा सकते हैं. ध्यान रखें कि प्रॉपर्टी माता-पिता के नाम होनी चाहिए.

दिव्यांग माता-पिता की सेवा में टैक्स छूट
आप दिव्यांग माता-पिता पर होने वाले खर्च को इनकम टैक्स में क्लेम कर सकते हैं. इनकम टैक्स की धारा 80DD के तहत अगर किसी के माता-पिता दिव्यांग हैं तो वह व्यक्ति इनकम टैक्स में छूट ले सकता है. 40 परसेंट तक दिव्यांग माता-पिता पर 75 हजार रुपये तक खर्च पर टैक्स छूट का लाभ मिलता है. अगर परिवार में दो भाई हैं दोनों अपने माता-पिता पर खर्च कर रहे हैं तो यह देखा जाएगा कि उनके खर्च की राशि कितनी है. अगर दोनों भाई 75-75 हजार रुपये खर्च करते हैं तो दोनों भाई इनकम टैक्स क्लेम कर सकते हैं.

Tags: Income tax, Income Tax Planning, Tax saving

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर