इनकम टैक्स रिटर्न फॉर्म में हुए ये बदलाव: भरने से पहले करें चेक, नहीं जानने पर फंस सकते हैं आप

पिछले साल की तुलना में इस साल टैक्सपेयर्स से रिटर्न फॉर्म्स में अधिक जानकारी मांगी गई है.आपको बता दें कि नौकरीपेशा लोगों को इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) फाइल करने के लिए आईटीआर-1 फॉर्म भरना होता है.

News18Hindi
Updated: April 20, 2019, 2:50 PM IST
News18Hindi
Updated: April 20, 2019, 2:50 PM IST
इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने टैक्स रिटर्न (ITR) फाइल करने के लिए नए फॉर्म्स जारी कर दिए हैं. नए नोटिफाइड फॉर्म ITR 1 सहज, 2, 3, 4 सुगम, 5, 6, 7 हैं. पिछले साल की तुलना में इस साल टैक्सपेयर्स से रिटर्न फॉर्म्स में अधिक जानकारी मांगी गई है.आपको बता दें कि नौकरीपेशा लोगों को इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) फाइल करने के लिए आईटीआर-1 फॉर्म भरना होता है. पिछले साल आईटीआर-1 फॉर्म में हाउस प्रॉपर्टी से आय की विस्तृत जानकारी मांगी गई थी. नए आईटीआर फॉर्म्स में टैक्स पेयर्स को इस बार भारत में निवास के दिनों की संख्या, अनलिस्टेड शेयर्स की होल्डिंग और टीडीएस होने पर किरायेदार का पैन जैसी नई जानकारियां देनी होंगी.

इनकम टैक्स फॉर्म में हुए ये बदलाव-


>> अगर किसी को हाउस प्रॉपर्टी से आमदनी होती है जिससे टैक्स कटता है तो अब आपको अपने किराएदार का टीएएन और पैन नंबर देना होगा. ऐसे में टैक्स कटने पर क्रेडिट को क्लैम कर पाएंगे.

>> किसी अचल संपत्ति को बेचने पर खरीदार के द्वारा टैक्स घटाने पर टीडीएस क्रेडिट के लिए पैन नंबर होना जरूरी है.

>> जो कारोबारी और प्रोफेशनल जीएसटी में रजिस्टर्ड हैं उनको अब जीएसटी रिवेन्यू, जीएसटीआईएन नंबर भी देना होगा.

>> आईटीआर फॉर्म 2 और 3 में कॉलम ए में विदेशी बैंक अकाउंट की जानकारी होती है.

>> इसमें अब फॉरेन डिपॉजिटरी अकाउंट, फॉरेन कस्टोडियन अकाउंट, फॉरेन इक्विटी अकाउंट और डेट इंटरेस्ट, फॉरेन कैश वैल्यू इंश्योरेंस कॉन्ट्रैक्ट और एन्युटी कॉन्ट्रैक की जानकारी देनी होगी. (ये भी पढ़ें-इनकम टैक्स ने बताया रिफंड पाने का नया तरीका, ये काम करने पर सीधे खाते में आएंगे पैसे)
Loading...



(1) ITR-1 सहज- इस फॉर्म को 50 लाख रुपए तक की आय वाले नागरिक भर सकते हैं. इसमें सैलरी, एक घर और ब्याज से आय शामिल है.

>> इस बार इसमें आपको ज्यादा जानकारी देनी होगी.

>> अब से आईटीआर-1 फॉर्म किसी कंपनी में डायरेक्टरशिप रखने वाले नहीं भर सकेंगे.

>> इसके अलावा अनलिस्टेड कंपनियों में निवेश करने वाले या जिसने यू/एस 57 के तहत डिडक्शन क्लेम किया है वो भी इसे नहीं भर पाएंगे.

(ये भी पढ़ें: बिना पैसे दिए आप बुक कर सकते हैं रेल टिकट, जानें IRCTC का खास ऑफर)

आईटीआर 1 सहज, आईटीआर 4 सुगम, इनकम टैक्स रिटर्न, आयकर विभाग, सीबीडीटी, वित्त मंत्रालय, इनकम टैक्स रिटर्न नया फॉर्म, इनकम टैक्स रिटर्न, आयकर रिटर्न, वित्त वर्ष 2018-19 के लिए नए ITR फॉर्म, Income Tax Return, ITR, Income Tax Return, what is ITR, ITR1, ITR2, ITR3, ITR4, ITR5, ITR6, ITR7, ITR 1 Sahaj, ITR 4 Sugam, Income Tax, ITR, New ITR Form, New Income Tax Return (ITR) forms for FY2018-19, बिजनेस न्यूज, बिजनेस समाचार,

(2) ITR-2-इसे इंडिविजुअल और एचयूएफ भर सकते हैं जिनको कारोबार या प्रोफेशन के मुनाफे से कोई आमदनी नहीं होती है.

>> इस फॉर्म को भरने वाले को अब भारत या विदेश में रहने की जानकारी देनी होगी.

>> इससे इनका रेसिडेंशियल स्टेटस पता चलेगा.

(3) ITR- 3- इस फॉर्म को ऐसे इंडिविजुअल या एचयूएफ भरते हैं जिनको कारोबार या प्रोफेशन से आय है. इनको भी अब भारत में रहने की जानकारी देनी होगी.

आईटीआर 1 सहज, आईटीआर 4 सुगम, इनकम टैक्स रिटर्न, आयकर विभाग, सीबीडीटी, वित्त मंत्रालय, इनकम टैक्स रिटर्न नया फॉर्म, इनकम टैक्स रिटर्न, आयकर रिटर्न, वित्त वर्ष 2018-19 के लिए नए ITR फॉर्म, Income Tax Return, ITR, Income Tax Return, what is ITR, ITR1, ITR2, ITR3, ITR4, ITR5, ITR6, ITR7, ITR 1 Sahaj, ITR 4 Sugam, Income Tax, ITR, New ITR Form, New Income Tax Return (ITR) forms for FY2018-19, बिजनेस न्यूज, बिजनेस समाचार,

(4) ITR 4 सुगम-सुगम फॉर्म उन लोगों के लिए जिनकी कारोबार या पेशे से आय हो रही है.

(4) ITR 5-आईटीआर- 5 इंडिविजुअल, एचयूएफ, कंपनी और ITR-7 फॉर्म भरने वालों के अतिरिक्त अन्य टैक्स पेयर्स के लिए है.ये भी पढ़ें: SBI ने सेविंग अकाउंट में पैसे रखने के नियम बदले, फटाफट जानें...

ITR 6-आईटीआर- 6 फॉर्म सेक्शन 11 के तहत छूट का दावा करने वाली कंपनियों के अलावा अन्य कंपनियों के लिए है.

ITR 7-ऐसी कंपनियों और लोगों के लिए जिन्हें सेक्शन 139(4A) या 139(4B) या 139(4C) या 139(4D) या 139(4E) या 139(4F) के तहत रिटर्न भरने की जरूरत है.

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...

News18 चुनाव टूलबार

चुनाव टूलबार