लॉकडाउन का ग्रहण अक्षय तृतीया पर भी! सोना बेचने के लिए ज्वैलर्स ने अपनाया ये तरीका

 गोल्ड का प्राइस लगभग 1,819 डॉलर प्रति औंस पर था

गोल्ड का प्राइस लगभग 1,819 डॉलर प्रति औंस पर था

अक्षय तृतीया 14 मई को है जबकि पिछले वर्ष अक्षय तृतीया 26 अप्रैल को था और देश भर में कोरोना के कारण लॉकडाउन होने से ज्वैलर्स की बिक्री नहीं हुई थी. इस बार भी कई राज्यों ने लॉकडाउन और यात्रा पर प्रतिबंधों की घोषणा की है जिससे बिक्री पर असर पड़ना तय है.

  • Share this:

नई दिल्ली. भारतीय संस्कृति में अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya)का अपना महत्व है. खासतौर से सोने की खरीदारी (Gold) के लिए यह दिन बेहद शुभ माना जाता है. लोग जमकर इस दिन सोने की खरीद करते हैं. लेकिन इस साल भी कोरोना और लॉकडाउन (Corona and Lockdown) के ग्रहण के बीच ज्वैलर्स को अच्छी बिक्री की उम्मीद नहीं है. अक्षय तृतीया 14 मई को है जबकि पिछले वर्ष अक्षय तृतीया 26 अप्रैल को था और देश भर में कोरोना के कारण लॉकडाउन होने से ज्वैलर्स की बिक्री नहीं हुई थी. इस बार भी कई राज्यों ने लॉकडाउन और यात्रा पर प्रतिबंधों की घोषणा की है जिससे बिक्री पर असर पड़ना तय है.


इंडियन बुलियन एंड ज्वैलर्स एसोसिएशन के नेशनल सेक्रेटरी सुरेन्द्र मेहता ने कहा, "हमें कस्टमर्स के गोल्ड खरीदने के लिए आने और अपना जीवन खतरे में डालने की उम्मीद नहीं है. हमारा सुझाव है कि अगर कस्टमर्स ज्वैलरी खरीदना चाहते हैं तो उन्हें होम डिलीवरी के लिए ज्वैलर्स से संपर्क करना चाहिए."


ऑनलाइन सेल का रास्ता अपनाया 


बहुत से बड़े ज्वैलर्स गोल्ड की डिजिटल मार्केटिंग (Digital marketing )को बढ़ावा दे रहे हैं. मालाबार गोल्ड एंड डायमंड्स के चेयरमैन एम पी अहमद ने बताया, "हम ऑनलाइन सेल्स कर रहे हैं. 2021 की पहली तिमाही में सेल्स बढ़ी थी क्योंकि पहले टाले गए बहुत से विवाह आयोजित किए गए थे.हालांकि, उनका मानना है कि गोल्ड में भले ही निवेशकों की दिलचस्पी बढ़ रही है लेकिन देश में मौजूदा स्थिति का बिक्री पर असर पड़ेगा. 


ये भी पढ़ें - मारुति सुजुकी की Baleno, Vitara Brezza और Swift कारों पर मिल रही है शानदार छूट, जानें डिटेल


अनलॉक में हुआ था मुनाफा 


पिछले वर्ष कोरोना की पहली लहर के बाद जब इकोनॉमी को खोला गया था, तो बड़े ज्वैलर्स कुछ मुनाफा कमाने में कामयाब रहे थे. हालांकि, छोटे ज्वैलर्स अपने नुकसान को कवर नहीं कर पाए थे. गोल्ड की कीमतें अब दोबारा बढ़नी शुरू हो गई हैं. ग्लोबल इंटरेस्ट रेट्स कम होने और इन्फ्लेशन से पिछले वर्ष गोल्ड के इंटरनेशनल प्राइस में तेजी आई थी और यह 2,000 डॉलर प्रति औंस पर पहुंच गया था लेकिन इसके बाद यह गिरकर 1,670 डॉलर प्रति औंस पर गया था. शुक्रवार को मार्केट खुलने पर गोल्ड का प्राइस लगभग 1,819 डॉलर प्रति औंस पर था.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज