सितंबर माह में औद्योगिक उत्पादन 0.2% रही, 6 महीने में पहली बार पॉजिटिव रहा आंकड़ा

सांख्यिकी और कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्रालय ने सितंबर माह के आईआईपी के आंकड़े जारी कर दिये हैं.
सांख्यिकी और कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्रालय ने सितंबर माह के आईआईपी के आंकड़े जारी कर दिये हैं.

देश के औद्योगिक उत्पादन (Industrial Production) में लगातार 6 महीने गिरावट रहने के बाद पहली सितंबर में वृद्धि देखने को मिली है. सांख्यिकी और कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि ‘लॉकडाउन’ से जुड़ी पाबंदियों में ढील के साथ आर्थिक गतिविधियों में अपेक्षाकृत सुधार हुआ है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 12, 2020, 7:17 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश के औद्योगिक उत्पादन (Industrial Production) में सितंबर माह के दौरान सकारात्मक रुख दिखा. खनन और बिजली उत्पादन क्षेत्रों के बेहतर प्रदर्शन से सितंबर महीने में औद्योगिकी उत्पादन सूचकांक (IIP) में 0.2 फीसदी की वृद्धि रही. IIP के ताजा आंकड़े के अनुसार विनिर्माण क्षेत्र के उत्पादन में 0.6 फीसदी की गिरावट रही.

IIP के पिछले साल सितंबर के आंकड़े को यदि देखा जाये तो इसमें 4.6 फीसदी की गिरावट आयी थी. सांख्यिकी और कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि ‘लॉकडाउन’ से जुड़ी पाबंदियों में ढील के साथ आर्थिक गतिविधियों में अपेक्षाकृत सुधार हुआ है. इसके साथ आंकड़ा संग्रह की स्थिति भी बेहतर हुई है. मंत्रालय ने यह भी कहा कि कोविड-19 महामारी के बाद के महीनों के आईआईपी आंकड़ों की तुलना महामारी वाले महीनों से करना उपयुक्त नहीं है.

यह भी पढ़ें: दिवाली का तोहफा: जॉब और घर खरीदने पर टैक्स छूट, आपके लिए राहत पैकेज में हुए ये ऐलान



अगस्त में मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर के उत्पादन में 8.6 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई थी. वहीं, माइनिंग और इलेक्ट्रिसिटी सेक्टर में 9.8 फीसदी और 1.8 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई थी. RBI का कहना है कि भारतीय अर्थव्यवस्था अनुमान से अधिक तेजी से रिकवरी कर रही है और देश का इकोनॉमिक ग्रोथ इस वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही (अक्टूबर-दिसंबर) में तेज रहेगा. हालांकि, RBI ने इस वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही (जुलाई-सितंबर) में GDP में 8.6% गिरावट आने का अनुमान लगाया है, जो पहले के अनुमान 9.6% की गिरावट से काफी बेहतर है. इस वित्त वर्ष की पहली तिमाही में GDP में 23.9% की गिरावट आई थी.


यह भी पढ़ें: आत्‍मनिर्भर भारत 3.0 : 2.65 लाख करोड़ रुपये के पैकेज में सरकार ने क्या बड़े ऐलान किये?

सेक्टरवाइज परफॉर्मेंस
सितंबर में माइनिंग सेक्टर के आउटपुट में 1.4% की ग्रोथ दर्ज की गई, जबकि पावर सेक्टर की ग्रोथ 4.9% रही. वहीं, मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर के आउटपुट में 0.6% की गिरावट दर्ज की गई. आपको बता दें वर्ष 2019 के सितंबर में IIP में 4.6% की गिरावट आई थी. IIP में कोर सेक्टर आउटपुट की हिस्सेदारी लगभग 40% होती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज