लाइव टीवी

वर्ल्ड कॉम्पिटिटिव इंडेक्स में 10 पायदान फिसला भारत, इस वजह से अमेरिका की भी गिरी रैंक

पीटीआई
Updated: October 9, 2019, 10:40 AM IST
वर्ल्ड कॉम्पिटिटिव इंडेक्स में 10 पायदान फिसला भारत, इस वजह से अमेरिका की भी गिरी रैंक
इस लिस्ट में सिंगापुर पहले नंबर पर

वर्ल्ड कॉम्पिटिटिव इकनॉमी लिस्ट (World Economic Forum) में भारत 10 पायदान नीचे खिसककर 68वें स्थान पर आ पहुंचा है. भारत का 10 पायदान नीचे लुढ़कना अर्थव्यवस्था (Economy) के लिए अच्छे संकेत नहीं है.

  • Share this:
नई दिल्ली. वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम (World Economic Forum) की ओर से जारी वर्ल्ड कॉम्पिटिटिव इकनॉमी लिस्ट में भारत की रैंकिंग गिर गई है. भारत 10 पायदान नीचे खिसककर 68वें स्थान पर आ गया है. एक्सपर्ट्स का कहना है कि भारत का 10 पायदान नीचे लुढ़कना अर्थव्यवस्था (Economy) के लिए अच्छे संकेत नहीं है. भारत का इस लिस्ट में गिरने की वजह दूसरी कई अर्थव्यवस्थाओं में सुधार है. आपको बता दें कि इस लिस्ट में अमेरिका को पीछे छोड़ सिंगापुर पहले नंबर पर पहुंच गया है. ट्रेड वॉर के चलते अमेरिका को अपनी पहली रैंकिंग गंवानी पड़ी है.

इससे पहले 58वें स्थान पर था भारत-वर्ल्ड इकनॉमिक फोरम के इससे पहली वाली लिस्ट में भारत 58वें स्थान पर था. लेकिन इस साल भारत ब्राजील के साथ ब्रिक्स देशों में सबसे कमजोर प्रदर्शन करने वाली अर्थव्यवस्थाओं में से एक रहा.

ब्राजील को कॉम्पिटिटिव इंडेक्स (global competitiveness index) में 71वें नंबर पर रखा गया है. वर्ल्ड इकनॉमिक फोरम ने इंडेक्स जारी करते हुए कहा कि भारत अब भी आर्थिक स्थिरता के मामले में ऊंचे स्तर पर है और उसका आर्थिक सेक्टर बेहद गहराई पूर्ण है. हालांकि उसने बैंकिंग सेक्टर में कमजोरी की ओर भी ध्यान दिलाया, जो बैड लोन के संकट से जूझ रही है.

ये भी पढ़ें: इस धनतेरस फीकी रहेगी सोने की चमक! इस वजह से लोग नहीं खरीद रहे हैं Gold

कॉर्पोरेट गवर्नेंस के मामले में भारत 15वें नंबर पर-कॉर्पोरेट गवर्नेंस के मामले में भारत को वर्ल्ड इकनॉमिक फोरम ने 15वें स्थान पर रखा है. शेयरहोल्डर गवर्नेंस में दूसरे नंबर पर और मार्केट साइज में भारत को तीसरा नंबर दिया गया है. नवीकरणीय ऊर्जा के मामले में भी भारत को तीसरा नंबर मिला है.

रिपोर्ट के मुताबिक इनोवेशन के मामले में भी भारत को कई उभरती हुई अर्थव्यवस्थाओं से ऊपर रखा गया है.

जीवन प्रत्याशा के मामले में भारत अब भी निचले पायदान वाले देशों में से एक है. कुल 141 देशों का इस इंडेक्स के लिए सर्वे किया गया था, जिनमें भारत को 109वें स्थान पर रखा गया है. अफ्रीका के बाहर के देशों की बात करें तो यह बहुत अच्छी स्थिति नहीं है. यही नहीं दक्षिण एशियाई औसत से भी यह नीचे हैं.
Loading...

ये भी पढ़ें: पाकिस्तान को कंगाली से बचाने के लिए इमरान खान ने उठाया बड़ा कदम!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 9, 2019, 10:24 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...