Home /News /business /

पाकिस्तान के कारोबार को बड़ा झटका! अब भारत नहीं भेज रहा है एक भी ट्रक सामान

पाकिस्तान के कारोबार को बड़ा झटका! अब भारत नहीं भेज रहा है एक भी ट्रक सामान

File Photo

File Photo

एक तो भारत से पाकिस्तान जाने वाले माल की सप्लाई धीरे-धीरे ठप होती जा रही है. दूसरी तरफ, पाकिस्तान से माल मंगाने के नए ऑर्डर करीब-करीब बंद हो गए हैं.

    भारत ने पाकिस्तान की तगड़ी घेराबंदी कर दी है.है. आर्थिक तौर पर कमजोर पाकिस्तान को भारत ने आर्थिक मोर्चे पर ही पूरी तरह घेर लिया है. एक तो भारत से पाकिस्तान जाने वाले माल की सप्लाई धीरे-धीरे ठप होती जा रही है. दूसरी तरफ, पाकिस्तान से माल मंगाने के नए ऑर्डर करीब-करीब बंद हो गए हैं. कारोबारियों ने घोषणा की है कि वहां से आयातित छुहारा, सेंधा नमक और आम नहीं बेचेंगे. आपको बता दें कि  टमाटर मुख्यत दिल्ली और मुंबई की मंडियों से होता हुआ पाकिस्तान पहुंचता है.भारतीय टमाटर की पाकिस्तान में खासी मांग रहती है.

    आजादपुर सब्जी मंडी के राजेंद्र कुमार शर्मा ने न्यूज18 हिंदी को बताया कि अब देश के एक भी ट्रक माल पाकिस्तान नहीं जा रहा है. भारत का कोई भी कारोबारी पाकिस्तान से कोई भी ऑर्डर नहीं ले रहा है. उन्होंने कहा कि भारतीय सेना के सम्मान में हम कोई भी नुकसान उठाने के लिए तैयार है. (ये भी पढ़ें-Surgical Strike 2.0: पाकिस्तान से ये दर्जा छीन चुका है भारत, अब होगा बड़ा नुकसान)

    भारत-पाकिस्तान के कारोबार पर एक नज़र
    >> पिछले सात महीने में भारत और पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय व्यापार में 5 फीसदी की वृद्धि
    >> 2018-19 में जुलाई-जनवरी के बीच व्यापार USD 1.069 अरब से बढ़कर USD 1.122 अरब
    >> कुल द्विपक्षीय व्यापार में 79.33 फीसदी हिस्सा पाकिस्तान में भारतीय निर्यात का है.

    भारत-पाकिस्तान के बीच इन जगहों से होता है कारोबार- 

    >> भारत पाकिस्तान के बीच पंजाब में वाघा बॉर्डर, कश्मीर में पुंछ में चाकन दा बाघ और उरी में सलामाबाद के रास्ते सड़क मार्ग से कारोबार होता है.

    >> मुंबई और कराची के बीच समुद्री रास्ते के जरिए व्यापार होता है. पुंछ और उरी के रूट जम्मू-कश्मीर और पाक अधिकृत कश्मीर के बीच कारोबार के लिए अहम हैं.

    >> मगर इस तनाव के बाद इन सारे रूट्स से कारोबार ठप हैं. आमतौर पर किसी बड़ी आतंकी घटना या सीमापार से घुसपैठ की घटनाओं के बाद इन रूट्स से कारोबार बंद कर दिया जाता है.

    ये भी पढ़ें- अगर पत्नी को दिया हुआ है अपना ATM कार्ड, तो हो सकता है बड़ा नुकसान! जानें RBI के क्या हैं नियम

    भारत ने उठाएं ये कदम- एक्सपर्ट्स बताते हैं कि दोनों देशों के बीच जो भी कारोबार हो रहा था, उसमें बड़ी गिरावट दिखने लगी है. दोनों देशों के बीच पैदा हुए हालिया तनाव का बड़ा असर कारोबार पर ही पड़ता दिख रहा है. भारत ने पाकिस्तान का मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा खत्म कर दिया है. और वहां से सामान मंगाने पर आयात शुल्क 200 फीसदी तक बढ़ा दिया है. इससे पाकिस्तान आर्थिक मोर्चे बुरी तरह घिरता जा रहा है. भारत ने पुलवामा हमले के फौरन बाद उस पर आर्थिक प्रतिबंध लगाने शुरू कर दिए थे. साथ देश के कारोबारी खुद भी अपनी तरफ से पाकिस्तान के साथ कारोबार बंद करने के पक्ष में हैं. उनका कहना है कि मौजूदा हालात में पाकिस्तान के साथ कारोबार जारी रखना संभव नहीं है.



    ये सामान अब पाकिस्तान नहीं जा रहे-चीनी, चाय, ऑयल केक, पेट्रोलियम ऑयल और कच्ची कपास, सूती धागे, टायर, रबड, डाई, केमिकल जैसे 14 प्रोडक्ट पाकिस्तान मुख्य तौर पर भेजे जाते हैं. दोनों देशों के बीच सड़क के रास्ते से सब्जियों समेत करीब 138 वस्तुओं का इंपोर्ट-एक्सपोर्ट होता रहा है. पर अब आजादपुर मंडी के कारोबारियों ने पाकिस्तान को कोई माल न भेजने का फैसला लिया है. टमाटर व्यापार संघ के प्रेसिडेंट अशोक कौशिक ने बताया कि अटारी-बाघा मार्ग से यहां से रोजाना 75 से 100 ट्रक टमाटर जाता था. पर अब व्यापारियों ने माल न भेजने का फैसला लिया है. सब्जियों, फल, कपास, धागे के कारोबारियों ने भी इस मार्ग से बुकिंग बंद कर दी है.

    ये सामान अब पाकिस्कान से नहीं आ रहे-पकिस्तान भारत को ताजे फल समेत 19 सामान मुख्य तौर पर बेचता था. फलों में अमरूद, आम और अनानास हमारे देश में पाकिस्तान से ही ज्यादा आता था. पाकिस्तान हमारे यहां सीमेंट भी बेचता था. इसके अलावा खनिज अयस्क, तैयार चमड़ा, प्रोसेस्ड फूड, अकार्बनिक रसायन, कच्चा कपास, मसाले, ऊन, रबड़ उत्पाद, समुद्री सामान, प्लास्टिक, डाई और खेल का सामान भी पाकिस्तान से काफी आता रहा है.

    ये भी पढ़ें- भारत-पाक तनाव: पाकिस्तान ने सभी एयरलाइंस के संचालन पर लगाई रोक

    भारत सरकार ने पाकिस्तान से आने वाले हर सामान पर इंपोर्ट ड्यूटी यानी सीमा शुल्क बढ़ाकर 200 फीसदी कर दिया है. ये फैसला पुलवामा अटैक के बाद लिया गया है. पाकिस्तान का मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा भारत पहले ही खत्म कर चुका है.

    भारत ने ऐसे तोड़ी कारोबार दरअसल MFN का दर्जा खत्म करते ही भारत सरकार को पाकिस्तानी सामान के आयात पर ड्युटी बढ़ाने का अधिकार मिल गया.

    इसी के बाद ये ड्यूटी यानी सीमा शुल्क बढ़ा दिया गया है. किसी बाहरी देश से अपने देश में सामान मंगाने पर जो शुल्क लिया जाता है, उसे सीमा शुल्क कहा जाता है.

    इस फैसले से पहले पाकिस्तान से आने वाले फल-सब्जियों पर 30 से 35 फीसदी और सीमेंट पर 7.5 परसेंट टैक्स लगता था. पर अब ये बढ़ाकर 200 फीसदी कर दिया गया है.

    जानकारों के मुताबिक ये एक तरह से आयात बैन जैसा ही है. दरअसल, इतनी ड्यूटी बढ़ जाने के बाद पाकिस्तान से भारत का कोई कारोबारी शायद ही कोई माल मंगाए. एक लेदर कारोबारी के मुताबिक पाकिस्तान से प्रोसेस्ड लेदर भारत आता था. ये कुछ सस्ता पड़ता था.

    अब 200 फीसदी इंपोर्ट ड्यूटी बढ़ जाने से पाकिस्तान कंप्टीशन से ही बाहर हो गया है. साल 2017-18 में पाकिस्तान से करीब 3,482 करोड़ रुपए का आयात हुआ. पर आने वाले दिनों में इसमें जबरदस्त गिरावट देखने को मिलेगी.

     

    Tags: Air india, Air India strike, Air Strike, Surgical Strike

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर