• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • Surgical Strike 2.0: पाकिस्तान से ये दर्जा छीन चुका है भारत, अब होगा बड़ा नुकसान

Surgical Strike 2.0: पाकिस्तान से ये दर्जा छीन चुका है भारत, अब होगा बड़ा नुकसान

पुलवामा हमले के बाद भारत ने सबसे पहले पाकिस्तान को आर्थिक मोर्चे पर चोट की थी.

पुलवामा हमले के बाद भारत ने सबसे पहले पाकिस्तान को आर्थिक मोर्चे पर चोट की थी.

पुलवामा हमले के बाद भारत ने सबसे पहले पाकिस्तान को आर्थिक मोर्चे पर चोट की थी.

  • Share this:
    पुलवामा हमले के 12 दिन बाद भारतीय वायुसेना के 12 मिराज-2000 (Mirage 2000) लड़ाकू विमानों ने मंगलवार तड़के नियंत्रण रेखा (LoC) पार करके पाकिस्तान के बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के टेरर कैंप्स को तबाह कर दिया. जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में CRPF के काफिले पर हुए हमले के करीब दो हफ्ते बाद किए गए वायुसेना के इस हमले को सर्जिकल स्ट्राइक-2 का नाम दिया जा रहा है. सर्जिकल स्ट्राइक के बाद तमाम कंपनियां ग्राहकों के लिए आकर्षक ऑफर लेकर आई हैं. (ये भी पढ़ें: LIC में लगाया हुआ है पैसा तो जल्द करें ये काम, वरना हो जाएगा लाखों रुपए का नुकसान)

    पुलवामा हमले के बाद भारत ने सबसे पहले पाकिस्तान को आर्थिक मोर्चे पर चोट की थी. भारत ने पाकिस्तान के खिलाफ बड़ी कार्रवाई करते हुए 'मोस्ट फेवर्ड नेशन' का दर्जा वापस ले लिया था. भारत इस हमले के मद्देनजर पाकिस्तान को सबक सिखाने के लिए उसे अंतर्राष्ट्रीय जगत पर बेनकाब करेगा और उसे आतंक के मुद्दे पर दुनिया भर में अलग-थलग करेगा.

    क्या होगा इसका असर!
    पाकिस्तान से MFN स्टेटस वापस लेने के बाद उसे खरबों का झटका लगेगा. साल 2012 के एक आंकड़े के अनुसार भारत और पाकिस्तान के बीच 2.60 बिलियन डॉलर ( 1 खरब से ज्यादा ) का व्यापार होता है. ऐसे में व्यापारिक मायनों में पाक को इसका बड़ा नुकसान होगा.

    ये भी पढ़ें: आतंकियों का काल मिराज 2000 की ये हैं खासियतें, जानें फाइटर प्लेन की कीमत

    क्या है इसका मतलब?
    इसका मतलब होता है कि जितना संबंध हम MFN देश के साथ रखेंगे, उतना किसी और देश के साथ नहीं रखेंगे. WTO के सदस्‍य के तौर पर हर देश को एक-दूसरे को मोस्‍ट फेवर्ड नेशन का दर्जा देना होता है. साल 1996 में भारत ने पाकिस्‍तान को मोस्‍ट फेवर्ड नेशन का दर्जा दिया था.

    WTO के अनुसार, मोस्‍ट फेवर्ड नेशन स्‍टेटस का मतलब है कि कोई देश अगर व्‍यापार से जुड़ी बाधाएं कम करता है या अपने बाजार को खोलता है तो उसे यह सभी ट्रेडिंग पार्टनर के साथ करना होगा. कोई देश इस मोर्चे पर ट्रेडिंग पार्टनर के बीच भेदभाव नहीं कर सकता है. इसका मतलब है कि मोस्‍ट फेवर्ड नेशन स्‍टेटस के तहत पाकिस्‍तान के व्‍यापारियों को वे सभी रियायतें मिल रहीं थी, जो भारत दूसरे देशों को देता है.

    ये भी पढ़ें: भारतीय सेना के बारे में जानते हैं आप, तो 100 सेकेंड में जीतें 10 हजार रुपए

    पहले भी हुई थी समीक्षा
    साल 2016 में जम्मू और कश्मीर स्थित उड़ी हमले के बाद भी भारत की ओर से Most Favored Nation के दर्जे की समीक्षा की गयी थी. उस वक्त भी यह मांग की जा रही थी कि पाकिस्तान से MFN का दर्जा वापस ले लिया जाये हालांकि इसे जारी रखा गया था.

    किन चीजों का होता है व्यापार?
    भारत और पाकिस्तान के बीच चीनी, कपास, सब्जी, फल, ड्राई फ्रूट, स्टील और सीमेंट सरीखों चीजों का व्यापार होता है. वहीं पाकिस्तान की 1,209 उत्पादों की नकारात्मक सूची है, जिनका आयात भारत से नहीं किया जा सकता.

    ये भी पढ़ें: Surgical Strike 2.0: इस चाइनीज स्मार्टफोन कंपनी के CEO ने दी भारतीय वायुसेना को बधाई

    ये भी पढ़ें: पाकिस्तान का हाथ छोड़ अफगानिस्तान ने थामा भारत का हाथ, अब इस रास्ते से भेजेगा सामान

    एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज