लाइव टीवी

मोदी सरकार की इस योजना से भारत ने हासिल किया ये मुकाम, बना दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा LPG उपभोक्ता

भाषा
Updated: February 5, 2019, 5:48 PM IST
मोदी सरकार की इस योजना से भारत ने हासिल किया ये मुकाम, बना दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा LPG उपभोक्ता
सरकार की प्रत्येक परिवार को स्वच्छ रसोई गैस ईंधन उपलब्ध कराने की पहल से भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा एलपीजी (LPG) उपभोक्ता बन गया है.

सरकार की प्रत्येक परिवार को स्वच्छ रसोई गैस ईंधन उपलब्ध कराने की पहल से भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा एलपीजी (LPG) उपभोक्ता बन गया है.

  • Share this:
सरकार की प्रत्येक परिवार को स्वच्छ रसोई गैस ईंधन उपलब्ध कराने की पहल से भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा एलपीजी (LPG) उपभोक्ता बन गया है. पेट्रोलियम सचिव एम एम कुट्टी ने कहा कि देश में एलपीजी की मांग 2025 तक 34 प्रतिशत बढ़ने का अनुमान है. (ये भी पढ़ें: इन किसानों के खाते में नहीं आएंगे 2000 रुपये! जानिए नियमों के बारे में...)

सालाना आधार पर 15% बढ़ोतरी
एशिया एलपीजी सम्मेलन को संबोधित करते हुए कुट्टी ने कहा कि एलपीजी उपभोक्ताओं की संख्या में सालाना आधार पर 15 प्रतिशत बढ़ोतरी हुई है. वर्ष 2014-15 में एलपीजी उपभोक्ताओं की संख्या 14.8 करोड़ थी जो 2017-18 में बढ़कर 22.4 करोड़ हो गई. जनसंख्या में तेज बढ़ोतरी तथा ग्रामीण क्षेत्रों में एलपीजी पहुंच बढ़ने से एलपीजी उपभोग में औसतन 8.4 प्रतिशत वृद्धि हुई है. इससे 2.25 करोड़ टन के साथ भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा एलपीजी उपभोक्ता बन गया है. पेट्रोलियम मंत्रालय के अनुमान के अनुसार 2025 तक एलपीजी उपभोग बढ़कर 3.03 करोड़ टन पर पहुंच जाएगा. 2040 तक यह आंकड़ा 4.06 करोड़ टन होगा.

ये भी पढ़ें: SBI ने घर खरीदारों के लिए फ्री की ये सर्विस, 28 फरवरी तक नहीं लेगा चार्ज

कुट्टी ने कहा कि सरकार ने देशभर में एलपीजी के उपभोग को प्रोत्साहन देने के लिए कई कदम उठाए हैं. विशेषरूप से ग्रामीण परिवारों में एलपीजी उपभोग को प्रोत्साहन दिया जा रहा है. ग्रामीण परिवार परंपरागत ईंधन पर निर्भर रहते हैं जो उनकी सेहत को तो नुकसान पहुंचाता ही है साथ ही इससे प्रदूषण भी बढ़ता है. प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना (पीएमयूवाई) के तहत 6.31 करोड़ कनेक्शन उपलब्ध कराए गए हैं.

ये भी पढ़ें: छोटे निवेशकों के पैसों की सुरक्षा के लिए सरकार ने उठाया बड़ा कदम, जानें क्या लिया फैसला

मई 2016 में हुई थी शुरुआत
Loading...

यह योजना एक मई, 2016 को शुरू हुई थी. सम्मेलन को संबोधित करते हुए पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि उज्ज्वला योजना मई, 2016 में शुरू हुई थी. इसके तहत तीन साल मे 5 करोड़ गरीब महिलाओं को एलपीजी कनेक्शन उपलब्ध कराने का लक्ष्य रखा गया है. इसके तहत अब तक 6 करोड़ गरीब महिलाओं को एलपीजी कनेक्शन दिया जा चुका है और अब 2020 तक 8 करोड़ कनेक्शन देने का लक्ष्य रखा गया है. प्रधान ने कहा कि देश में एलपीजी की पहुंच 90 प्रतिशत पर पहुंच गई है. यह संख्या 2014 में 55 प्रतिशत थी. उन्होंने कहा कि हमें आठ करोड़ के अपने लक्ष्य को हासिल कर लेने की उम्मीद है.

ये भी पढ़ें: बिना पैसे लगाए करें 'सरकारी' काम, मिलेगा अच्‍छा पैसा

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 5, 2019, 5:35 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...