मोदी सरकार के कदमों से चीन को लगा तगड़ा झटका! लगातार घटाया जा रहा है आयात

मोदी सरकार के कदमों से चीन को लगा तगड़ा झटका! लगातार घटाया जा रहा है आयात
केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने संसद को बताया कि चीन से होने वाले टॉप-50 वस्‍तुओं के आयात में पिछले तीन साल के दौरान करीब 866 करोड़ डॉलर की कमी की गई है.

Monsoon Session: केंद्रीय वाणिज्य व उद्योग मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) ने संसद को बताया कि पिछले तीन साल में चीन से करीब 1120 करोड़ डॉलर का कम आयात (Import from China) किया गया. यहीं नहीं, चीन से होने वाले टॉप-50 वस्‍तुओं के आयात पर नजर डालें तो पिछले तीन साल में करीब 866 करोड़ डॉलर का कम आयात हुआ है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 17, 2020, 2:26 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. चीन के नापाक मंसूबों से ना सिर्फ भारत (India-China Rift), बल्कि पूरी दुनिया वाकिफ है. चीन की सरकार और वहां की कंपनियों के मंसूबों को भांपते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) की सरकार ने पहले कार्यकाल से ही खास रणनीति पर काम शुरू कर दिया था. चीन पर आर्थिक हमला करने के लिए केंद्र सरकार (Central Government) ने काफी पहले ही विभिन्‍न वस्तुओं का आयात (Import) कम करने की नीति बना ली थी. अब जब चीन के साथ भारत का विवाद शुरू हुआ तो केंद्र की इसी रणनीति का असर आंकड़ों के तौर पर सामने आने लगा है.

गोयल ने बताया, तीन साल में चीन से लगातार घटा है आयात
केंद्रीय वाणिज्य व उद्योग और रेल मंत्री पीयूष गोयल ने संसद को बताया कि पिछले तीन साल में चीन से करीब 1120 करोड़ डॉलर का कम आयात किया गया. यहीं नहीं, चीन से होने वाले टॉप-50 वस्‍तुओं के आयात पर नजर डालें तो पिछले तीन साल में करीब 866 करोड़ डॉलर का कम आयात किया गया है. साल 2017-18 में चीन से कुल 7638 करोड़ डॉलर का आयात हुआ था. साल 2018-19 में 7031.96 करोड़ डॉलर और 2019-20 में 6526.07 करोड़ डॉलर का आयात हुआ. हालांकि, साल 2015-16 में चीन से कुल 6170.79 करोड़ डॉलर का आयात हुआ था. साल 2016-17 में 6128.30 करोड़ डॉलर का आयात हुआ था.

ये भी पढ़ें- बैंकिंग रेग्‍युलेशन संशोधन बिल लोकसभा में पास, RBI के अधीन होंगे देश के सभी को-ऑपरेटिव बैंक




चीन से टॉप-50 वस्‍तुओं के आयात में दज्र की गई है भारी कमी
टॉप-50 वस्‍तुओं के चीन से आयात में भी भारी कमी देखी गई है. साल 2017-18 में चीन से कुल 6929.67 करोड़ डॉलर का आयात किया गया. वहीं, साल 2018-19 में 6432.23 करोड़ डॉलर, 2019-20 में 6063.69 करोड़ डॉलर का आयात हुआ था. हालांकि, साल 2015-16 में चीन से कुल 5557.65 करोड़ डॉलर का आयात हुआ था, जबकि साल 2016-17 में 5483.47 करोड़ डॉलर का चीनी सामान भारत आया था. गोयल ने संसद को बताया कि मोदी सरकार ने अपने पहले कार्यकाल के शुरुआती साल से ही चीन के साथ होने वाले व्यापार घाटे को कम करने की कोशिशें शरू कर दी थीं.

ये भी पढ़ें- कोरोनाकाल में इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने 30.92 लाख टैक्सपेयर्स के खाते में ट्रांसफर किए 1.06 लाख करोड़ रुपए, जानिए क्यों?

पीवीसी और पॉलीमर्स ऑफ विनायल क्‍लोरीन का निर्यात बढ़ा 
गोयल ने संसद के मानसून सत्र में बताया कि पिछले पांच साल में भारत ने चीन को पॉलीमर्स ऑफ विनायल क्‍लोरीन का निर्यात बढ़ाया है. इसके अलावा चीन को 2015-16 में 23.10 लाख डॉलर, साल 2016-17 में 57.90 लाख डॉलर, 2017-18 में 68 लाख डॉलर, 2018-19 में 42.2 लाख डॉलर और साल 2019-20 में 67 लाख डॉलर का पीवीसी निर्यात किया गया है. भारत की ओर से चीन को होने वाले कुल निर्यात के आंकड़ों पर गौर करें तो पिछले पांच साल में भारत ने 760 करोड़ डॉलर का अधिक निर्यात चीन को किया है. साल 2015-16 में भारत ने चीन को कुल 901.45 करोड़ डॉलर का निर्यात किया.

ये भी पढ़ें- आपके पैसों की सुरक्षा की गारंटी देगा बैंकिंग संशोधन बिल! RBI रखेगा सभी बैंकों पर नजर

साल-दर-साल बढ़ता जा रहा है चीन को किया जाने वाला निर्यात
केंद्रीय वाणिज्‍य मंत्री ने बताया कि साल 2016-17 में चीन को 1017.24 करोड़ डॉलर, 2017-18 में 1333.44 करोड़ डॉलर, 2018-19 में 1675.28 करोड़ डॉलर और 2019-20 में 1661.43 करोड़ डॉलर का सामान चीन भेजा गया. चीन को भेजी जाने वाली टॉप-50 वस्‍तुओं के मामले में भी भारत ने 755.50 करोड़ डॉलर की वृद्धि की है. साल 2015-16 में चीन को कुल निर्यात 821.23 करोड़ डॉलर का निर्यात किया गया. वहीं, साल 2016-17 में 921.45 करोड़ डॉलर, साल 2017-18 में 1252.93 करोड़ डॉलर, साल 2018-19 में 1575.38 करोड़ डॉलर और 2019-20 में 1576.74 करोड़ डॉलर का भारतीय सामान चीन भेजा गया.

ये भी पढ़ें- बड़ा झटका! आम आदमी के बाद अब कोरोना ने घटाई सरकार की आमदनी, इस शहरों से घटी टैक्स वसूली

इन वस्‍तुओं का चीन के साथ सबसे अधिक किया जाता है कारोबार
गोयल ने बताया कि पिछले पांच साल के आंकड़ों के मुताबिक, चीन से सबसे अधिक इलेक्ट्रॉनिक्स सामान, टेलीकॉम उपकरण, कंप्यूटर हार्डवेयर, डेयरी के लिए औद्योगिक मशीनें, ऑर्गेनिक केमिकल्स, ड्रग्स व इससे जुडे सामान, इलेक्ट्रॉनिक उपकरण, खाद, एसी-रेफ्रिजरेशन मशीनें, इस्पात व लौहे से बने सामान और दूसरे इंजीनियरिंग सामानों का आयात किया गया. साल 2015-16 के बाद के आंकड़ों के मुताबिक, भारत सबसे अधिक लौह अयस्क, पेट्रोलियम उत्पाद, ऑर्गेनिक रसायन, प्लास्टिक का कच्चा माल, समुद्री उत्पाद, मसाले, कपास से बना धागा, इलेक्ट्रानिक्स उपकरण, लोहा व इस्पात, ग्रेनाइट समेत कई मूल्यवान पत्थर, केस्टर ऑयल, डायस, खनिज व अयस्क, कच्चा कपास जैसे उत्पाद चीन को बेचता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज