बड़ी खबर: चीन से बदला लेने के लिए दिल्ली के होटल और गेस्ट हाउस चीनी नागरिकों के लिए हुए बंद

बड़ी खबर: चीन से बदला लेने के लिए दिल्ली के होटल और गेस्ट हाउस चीनी नागरिकों के लिए हुए बंद
चीन से बदला लेने के लिए दिल्ली के होटल और गेस्ट हाउस चीनी नागरिकों के लिए बंद

कन्फ़ेडरेशन ऑफ़ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के चीनी वस्तुओं के बहिष्कार के अभियान को समर्थन देते हुए दिल्ली के होटल और गेस्ट हाउस संगठन ने अब चीनी नागरिकों को न ठहराने का फ़ैसला किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 25, 2020, 11:28 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कन्फ़ेडरेशन ऑफ़ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के चीनी वस्तुओं के बहिष्कार के अभियान को समर्थन देते हुए दिल्ली के होटल और गेस्ट हाउस संगठन ने अब चीनी नागरिकों को न ठहराने का फ़ैसला किया है. देश में जगह-जगह चीनी सामान के बहिष्कार और चीन सरकार के विरोध में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं. देश के कोने-कोने से चीनी सामान के बहिष्कार की मांग उठ रही है. इस बीच दिल्ली (Delhi) में आने वाले चीनी नागरिकों के ठहरने को लेकर एक बड़ा कदम उठाया गया है.

चीनी नागरिकों के लिए दिल्ली के होटल और गेस्ट हाउस बंद करने का फैसला लिया गया है. कंफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के चीनी वस्तुओं के बहिष्कार के अभियान को समर्थन देते हुए दिल्ली के होटल और गेस्ट हाउस संगठन ने अब चीनी नागरिकों को न ठहराने का फैसला किया है. लिहाजा अब दिल्ली में आने वाले चीनी नागरिकों के लिए होटल और गेस्ट हाउस में 'नो एंट्री' रहेगी.

ये भी पढ़ें:- 1 जुलाई से बदल जाएंगे आपके बैंक खाते से जुड़े ये 3 नियम, नहीं जानने पर होगा भारी नुकसान



देश के 68.2 प्रतिशत लोग चीनी उत्पादों के बहिष्कार को तैयार : सर्वे
गौरतलब है कि भारतीय सीमा में घुसपैठ, दखलअंदाजी और फिर 20 जवानों की शहादत के बाद लोगों के अंदर चीन के खिलाफ काफी गुस्सा है. भारत और चीन में तनातनी के बाद एक सर्वे से पता चला है कि देश के 68.2 प्रतिशत लोग चीनी उत्पादों के बहिष्कार को तैयार हैं.

ये भी पढ़ें:- वित्त मंत्री जल्द करेंगी जनधन खातों को लेकर बैठक, ग्राहकों के हित में हो सकते हैं कई फैसले

भारत और चीन के बीच चल रहे सीमा विवाद के मद्देनजर देश के 68.2 प्रतिशत लोगों का कहना है वे चीन द्वारा निर्मित मोबाइल फोन, टीवी, इलेक्ट्रॉनिक सामान सहित अन्य उत्पादों को खरीदना बंद कर देंगे. सर्वे के अनुसार, 68.2 प्रतिशत लोगों ने कहा कि वे चीनी उत्पादों का बहिष्कार करेंगे, जबकि 31.8 प्रतिशत ने कहा कि इस तरह का कुछ भी नहीं होने जा रहा है और हमेशा की तरह व्यापार होगा, जहां लोग चीनी उत्पादों को खरीदना जारी रखेंगे. (दीपाली नंदा, CNBC Awaaz)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज