क्या होता है आर्थिक सर्वेक्षण, क्यों बजट से एक दिन पहले होता है पेश, जानिए इससे जुड़ी सभी बातें

क्या होता है आर्थिक सर्वेक्षण, क्यों बजट से एक दिन पहले होता है पेश, जानिए इससे जुड़ी सभी बातें
31 जनवरी को 12 बजे आर्थिक सर्वेक्षण 2019-20 पेश किया जाएगा.

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) 1 फरवरी 2020 को अपना दूसरा बजट (Budget 2020) पेश करेंगी. इससे पहले 31 जनवरी को दोपहर 12 बजे आर्थिक सर्वेक्षण 2019-20 पेश किया जाएगा. आपको बता दें कि बीते कुछ महीने देश की अर्थव्यवस्था के लिए बेहद खराब रहे हैं. लिहाजा अर्थशास्त्री इसे काफी अहम मान रहे है

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 31, 2020, 10:51 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) 1 फरवरी 2020 को अपना दूसरा बजट (Budget 2020) पेश करेंगी. इससे पहले 31 जनवरी को दोपहर 12 बजे  आर्थिक सर्वेक्षण 2019-20 पेश किया जाएगा. आपको बता दें कि बीते कुछ महीने देश की अर्थव्यवस्था के लिए बेहद खराब रहे हैं. लिहाजाअर्थशास्त्री आर्थिक सर्वेक्षण को काफी अहम मान रहे है. आपको बता दें कि देश में पहली बार यह सर्वे 1950-51 में जारी किया गया था और वित्त मंत्रालय की वेबसाइट पर 1957-58 से आगे के दस्तावेज भी मौजूद हैं.

आइए जानते हैं इससे जुड़ी सभी अहम बातें...

क्या होता है आर्थिक सर्वेक्षण (What is Economic Survey of India)-आर्थिक सर्वेक्षण हर साल आम बजट से ठीक एक दिन पहले पेश किया जाता है. वित्त मंत्रालय इसे पेश करता हैं. यह मंत्रालय की ओर से पेश की जाने वाली आधिकारिक रिपोर्ट होती है. आपको बता दें कि इस रिपोर्ट में बताया जाता है कि साल भर देश के विकास की हालत कैसी रही. साथ ही, सर्वेक्षण में देश की अर्थव्यवस्था, पूर्वानुमान और नीति चुनौतियों की विस्तृत जानकारी होती है.



Budget 2020, Budget, Modi Government Budget, Income tax, Income Tax Slab, House Property, Income Tax Deductions, Bank, Post Office, Bank Saving Account, Interest Rates, Home Loan, Deduction, Budget Expectations, Business news in hindi, बजट 2020, बजट, मोदी सरकार बजट, इनकम टैक्स, टैक्स स्लैब, घर प्रॉपर्टी, डिडक्शन
टैक्स के मोर्चे पर ये राहत मिलने की उम्मीद

आर्थिक सर्वेक्षण कौन करता है तैयार- आर्थिक सर्वेक्षण मुख्य आर्थिक सलाहकार और उनकी टीम तैयार करती है. इस बार मुख्य आर्थिक सलाहकार (सीईए) केवी सुब्रमण्यन की अगुवाई वाली टीम द्वारा आर्थिक सर्वेक्षण तैयार किया गया हैं. सरकार की आर्थिक सलाहकार परिषद नीतियों में बदलाव लाने के लिए आर्थिक सर्वेक्षण का इस्तेमाल करती है. कई बार ये उपाय बहुत व्यापक भी होते हैं.

31 जनवरी को पेश होने वाले आर्थिक सर्वे को  आप न्यूज18 हिंदी की वेबसाइट पर विजिट कर आसान भाषा में समझा जा सकता है.

इसके अलावा आप लोकसभा टीवी पर भी इस सर्वे को लाइव देख सकेंगे. इसके अलावा PIB की ऑफिशियल वेबसाइट https://pib.gov.in/indexd.aspx और https://www.indiabudget.gov.in पर भी आर्थिक सर्वे रिपोर्ट को देखा जा सकता है.

उम्मीद की जा रही है कि इस साल बजट में मिडिल क्लास (Middle Class) को सरकार (Modi Government) बड़ी राहत दे सकती है. माना जा रहा है कि इस साल बजट (Budget 2020) पेश करते हुए फाइनेंस मिनिस्टर (Finance Minister) निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) इनकम टैक्स में बड़े छूट का ऐलान कर सकती हैं.
टैक्स में बड़े छूट का ऐलान


ये सर्वेक्षण भविष्य में बनाई जाने वाली नीतियों के लिए एक आधार का काम करता है. इसमें लगाए गए अनुमान और दिए गए सुझावों से यह पता चल जाता है कि किन-किन सेक्टर्स में क्या क्या करना है और किस क्षेत्र में कितना काम करने की जरूरत है. हालांकि, एक बात जानना बेहद जरूरी है, सर्वे सिर्फ सिफारिशें हाती हैं और इन पर कोई कानूनी बाध्यता नहीं होती.

ये भी पढ़ें-किसानों को सालाना 6 हजार रुपये मिलने वाली स्कीम पर बजट में चल सकती है कैंची!
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading